google-info.in

MAC Address kya hota hai ये किस काम उपयोग होता है 2023

MAC Address kya hota hai

MAC Address kya hota hai ये किस काम उपयोग होता है 2023

अगर आप कंपूटर के बारे में बेसिक जानते है, तो आपको पता होगा की MAC Address kya hota hai एक डिवाइस को दूसरे डिवाइस के सामने पहचानने में कई सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है, इसी समस्याओ के समाधान हेतु और अलग अलग डिवाइस की पहचान हेतु उन्हें एक अलग अलग नंबर दिया जाता है और उन नंबर को वर्तमान में भौतिक एड्रेस के नाम से जानते है ।

भौतिक एड्रेस को कंप्यूटर और नेटवर्क की भाषा मे MAC address के नाम से जाना जाता है । हमारे इस लेख में हम आपको इसी MAC address के बारे में पूरी जानकारी प्रदान कर रहे है ।

MAC Address

MAC Address, (Media Access Control address) एक नेटवर्क इंटरफेस कंट्रोलर (NIC) के लिए एक unique identifier है जो एक नेटवर्क सेगमेंट में communication के लिए एक नेटवर्क एड्रेस के रूप में असाइन किया जाता है। यह 48-bit number है, जिसे आम तौर पर 12 हेक्साडेसिमल अंक (0-9, A-F) में कोलन या डैश से अलग किया जाता है। मैक एड्रेस नेटवर्क में डिवाइसेज को आइडेंटिफाई करने के लिए इस्तेमाल करते हैं और उन्हें NIC के मैन्युफैक्चरर द्वारा असाइन किया जाता है। MAC addresses globally unique होने के लिए मतलब होते हैं, लेकिन अलग-अलग Network segments में अलग-अलग डिवाइस के लिए वही MAC एड्रेस असाइन होना संभव है। मैक एड्रेस नेटवर्क लेयर द्वारा डेटा पैकेट के डेस्टिनेशन एड्रेस को निर्धारित करने के लिए प्रयोग किए जाते हैं और मैक एड्रेस फिल्टरिंग जैस नेटवर्क सुरक्षा उपायों में भी प्रयोग किए जाते हैं।

MAC address kya hota hai 

मैक एड्रेस (Media Access Control address) एक unique identifier होता है जो नेटवर्क डिवाइस (जैसे कि कंप्यूटर, राउटर, मोबाइल डिवाइस, प्रिंटर आदि) के लिए असाइन किया जाता है। ये एड्रेस नेटवर्क लेयर (OSI मॉडल के सेकेंड लेयर) में इस्तेमाल किया जाता है।

मैक एड्रेस 48 बिट्स का होता है और हेक्साडेसिमल नंबर सिस्टम में लिखा जाता है। ये 6 बाइट लंबा होता है, जिसमे पहले 3 बाइट मैन्युफैक्चरर को रिप्रेजेंट करता है और बाकी 3 bytes unique device identifier को।

ये एड्रेस हार्डवेयर आधारित होता है और नेटवर्क डिवाइसेज के NIC (नेटवर्क इंटरफेस कार्ड) में स्टोर होता है। जब भी एक डिवाइस नेटवर्क में डेटा सेंड करता है, तो वो अपने मैक एड्रेस को सोर्स एड्रेस के रूप में इस्तेमाल करता है, जिस नेटवर्क को पता चलता है कि कौन डिवाइस डेटा भेजता है। इसी तरह से, जब data destination device तक पहुंच जाता है, तो destination device के MAC address को इस्तेमाल करके डेटा भेजने वाला डिवाइस को पता चलता है कि डेटा कहां खाना है।

We Also Read :- Google CEO Sunder Pichai पर्सनल लाइफ & एजुकेशन

MAC address ki sanrachana

मैक एड्रेस 48 बिट्स का होता है, जो 6 बाइट्स में डिवाइड होता है। ये 6 bytes hexadecimal format में होते है। पहले 3 बाइट्स मैक एड्रेस का OUI (Organizationally Unique Identifier) होता है, जैसे हम “विक्रेता कोड” कहते हैं। ये निर्माता को identify करता है जो NIC को produce करता है। बाकी के 3 bytes unique device identifier को रिप्रेजेंट करते हैं, जो NIC की एक unique identification होती है।

मैक एड्रेस का फॉर्मेट xx:xx:xx:xx:xx:xx होता है, जहां “x” hexadecimal digits को रिप्रेजेंट करते हैं। हर hexadecimal  अंक 4 बिट्स का होता है, जिसके लिए 16 possible values होते हैं (0 से 9 तक के अंक और A से F तक के अक्षर)। इसलिए, हर बाइट के लिए 256 possible values होते हैं (16 x 16), जिसे 48-बिट मैक एड्रेस के लिए टोटल 281,474,976,710,656 (16^12) possible combinations होते हैं।

उदाहरण के लिए, मान लें कि किसी निर्माता के पास “00-11-22” का OUI है। फिर, इसके किसी एक डिवाइस का मैक पता “00-11-22-33-44-55” हो सकता है, जहां अंतिम 3 बाइट्स (33-44-55) विशिष्ट रूप से डिवाइस की पहचान करते हैं।

ये एड्रेस हार्डवेयर आधारित होता है और NIC के फर्मवेयर में स्टोर होता है। NIC का फर्मवेयर यूज करके, डिवाइसेज मैक एड्रेस जेनरेट करते हैं और यूज नेटवर्क लेयर के लिए identify करने के लिए यूज करते हैं।

We Also Read :- Google Ka Full Form google search

MAC Address के प्रकार 

मैक एड्रेस के दो प्रकार होते हैं – यूनिकास्ट मैक एड्रेस और मल्टीकास्ट मैक एड्रेस।

Unicast MAC Address

ये मैक एड्रेस एक specific device को identify करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। जब भी एक डिवाइस नेटवर्क पर डेटा भेजता है, तो उसके NIC का MAC address Unicast MAC address के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। Unicast MAC address के सभी बिट्स 0 (बाइनरी) से स्टार्ट नहीं होते हैं, जिसे नेटवर्क डिवाइसेज को पता चलता है कि ये address Unicast address है।

Multicast MAC Address

​​मल्टीकास्ट मैक  एड्रेस  एक group of devices को identify करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। जब भी किसी डिवाइस को मल्टीकास्ट डेटा खाना होता है, तो वो डेटा सभी डिवाइस के लिए भेजता है जो मल्टीकास्ट मैक एड्रेस के ग्रुप में शामिल है। मल्टीकास्ट मैक एड्रेस के सभी बिट्स 1 (बाइनरी) से स्टार्ट होते हैं, जिसे नेटवर्क डिवाइसेज को पता चलता है कि ये एड्रेस मल्टीकास्ट एड्रेस है।

Broadcast MAC Address

ब्रॉडकास्ट मैक एड्रेस एक स्पेशल टाइप का मैक एड्रेस होता है जो नेटवर्क डिवाइसेज में डेटा को ब्रॉडकास्ट करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। Broadcast MAC Address सभी डिवाइसेज को identify करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। ये एड्रेस नेटवर्क लेयर (OSI मॉडल के सेकेंड लेयर) में इस्तेमाल किया जाता है।

Broadcast MAC Address का फॉर्मेट FF:FF:FF:FF:FF:FF होता है। ये एड्रेस नेटवर्क पर डेटा को ब्रॉडकास्ट करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। जब कोई डिवाइस नेटवर्क पर डेटा ब्रॉडकास्ट करता है, तो वो सभी डिवाइस के लिए डेटा को सेंड करता है, जिस्मीन ब्रॉडकास्ट मैक एड्रेस का इस्तेमाल करता है। Broadcast MAC Address के सभी बिट्स बाइनरी में 1 होते हैं, जिसे नेटवर्क डिवाइसेज को पता चलता है कि ये एड्रेस ब्रॉडकास्ट एड्रेस है।

MCA Address का उपयोग क्यों किया जाता है ?

मैक एड्रेस का प्रयोग नेटवर्क डिवाइस (जैसे कि कंप्यूटर, राउटर, मोबाइल डिवाइस, प्रिंटर आदि) को unique identify करने के लिए किया जाता है। जब भी एक डिवाइस नेटवर्क में डेटा सेंड करता है, तो वो अपने MAC address को source address के रूप में इस्तेमाल करता है, जिस नेटवर्क को पता चलता है कि कौन डिवाइस डेटा भेजता है। इसी तरह से, जब data destination device तक पहुंच जाता है, तो destination device के मैक एड्रेस को इस्तेमाल करके डेटा भेजने वाला डिवाइस को पता चलता है कि डेटा कहां भेजना है।

मैक एड्रेस के बिना, नेटवर्क डिवाइसेज में कम्युनिकेशन नहीं हो सकता। जब कोई डिवाइस नेटवर्क पर डेटा सेंड करता है, तो वो अपने नेटवर्क लेयर प्रोटोकॉल (जैसे की IP एड्रेस) के साथ अपना मैक एड्रेस भी शामिल करता है, जिस नेटवर्क डिवाइस को पता चलता है कि कौनसा डिवाइस डेटा भेजता है। इसी तरह से, जब डेटा डेस्टिनेशन डिवाइस तक पहुंच जाता है, तो डेस्टिनेशन डिवाइस के मैक एड्रेस को इस्तेमाल करके डेटा भेजने वाला डिवाइस को पता चलता है कि डेटा कहां भेजना है।

मैक एड्रेस की सही पहचान बहुत महत्वपूर्ण होती है नेटवर्क सुरक्षा के लिए। मैक एड्रेस फिल्टरिंग सिक्योरिटी का एक महत्वपूर्ण कंपोनेंट है, जैसे network administrator, specific MAC addresses को ब्लॉक या अनुमति दे सकता है, जिससे नेटवर्क सिक्योरिटी बेहतर होती है।

MAC Address का विशेषताएं 

MAC address के कुछ important features यह है —

1 . Unique Identification :- मैक एड्रेस एक डिवाइस कोunique identifier करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। हर नेटवर्क डिवाइस का अलग-अलग मैक एड्रेस होता है जिसे नेटवर्क डिवाइसेज को पता चलता है कि कौन डिवाइस डेटा भेज रहा है और कौनसा डिवाइस डेटा रिसीव कर रहा है।

2 . Fixed Format :- मैक एड्रेस का फॉर्मेट फिक्स्ड होता है। एक मैक एड्रेस 12 hexadecimal digits का combination होता है, जो hyphen (-) या colon (:) से अलग-अलग होता है। Fixed Format के कारण, मैक एड्रेस को आसानी से पहचाना जा सकता है।

3 . Non-Changeable :- मैक एड्रेस एक डिवाइस के हार्डवेयर के साथ हमेशा के लिए जुड़ा होता है। इसका मतलब यह है कि आप अपने डिवाइस के मैक एड्रेस को सॉफ्टवेयर के माध्यम से बदल नहीं सकते हैं। ये फीचर सुरक्षा उद्देश्यों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

4 . Layer 2 Address :- ​​MAC address network layer 2 (Data Link layer) में इस्तेमाल किया जाता है। क्या लेयर में डेटा पैकेट्स के सोर्स और destination address को परिभाषित किया जाता है।

5 . Security Features :- मैक एड्रेस filtering security का एक महत्वपूर्ण घटक है जैसे network administrator, specific MAC addresses को ब्लॉक या अनुमति दे सकता है, जिससे नेटवर्क सुरक्षा में सुधार होता है।

6 . प्रत्येक डिवाइस का MAC एक unique होता है ।

7 . ARP प्रोटोकॉल का उपयोग लॉजिकल एड्रेस को मैक एड्रेस से जोड़ने के लिए किया जाता है।

8 . यह OSI मॉडल के डाटा लिंक लेयर पर काम करता है।

9 . मैक एड्रेस स्थायी हैं और इन्हें बदला नहीं जा सकता।

10 . MCA Address 12 अंकों और 48 बिट कोड का होता है। जिसमें OUI (organization unique identifier) के लिए 24 बिट्स और NIC के लिए 24 बिट्स का इस्तेमाल किया जाता है।

MAC का उपयोग क्या है ?

मैक एड्रेस कंप्यूटर नेटवर्किंग का एक आवश्यक घटक है, और इसका उपयोग unique identity, नेटवर्क सुरक्षा, रूटिंग, समस्या निवारण और inventory management सहित कई महत्वपूर्ण कार्यों के लिए किया जाता है।

अपने कंप्यूटर का MAC एड्रेस कैसे ढूंढे

अपने कंप्यूटर का MAC (Media Access Control) address ढूंढने के लिए निम्न नियम को follow करें –

Windows ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए :-

1 . अपने कंप्यूटर में “Command Prompt” खोलें। इसके लिए “Windows + R” दबाकर “Run” बॉक्स में “cmd” टाइप करें और “Enter” दबाएं।

2 . “Command Prompt” में “ipconfig /all” टाइप करें और “Enter” दबाएं।

3 . आपके कंप्यूटर के सभी नेटवर्क एडाप्टर्स के लिए पूर्ण नेटवर्क कॉन्फ़िगरेशन डिटेल दिखाई देगी। अपने नेटवर्क एडाप्टर की तलाश करें जिसका MAC address ढूंढना है।

4 . आपके नेटवर्क एडाप्टर के लिए “Physical Address” शीर्षक नीचे MAC address के साथ दिखाई देगा।

MacOS ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए :

1 . “Spotlight” खोलें और “Terminal” टाइप करें और “Enter” दबाएं।

2 . “Terminal” में “ifconfig -a” टाइप करें और “Enter” दबाएं।

3 . आपके कंप्यूटर के सभी नेटवर्क इंटरफेसेज के लिए पूर्ण नेटवर्क कॉन्फ़िगरेशन डिटेल दिखाई देगी। अपने नेटवर्क इंटरफेसेज की तलाश करें जिसका MAC address ढूंढना है।

4 . आपके नेटवर्क इंटरफेसेज के लिए “ether” शब्द के साथ MAC address दिखाई ।

अपने मोबाइल में MAC address कैसे ढूंढे ?

आप अपने मोबाइल डिवाइस का MAC (Media Access Control) address निम्नलिखित तरीकों से ढूंढ सकते हैं:

Android डिवाइस के लिए :-

1 . अपने Android डिवाइस में “Settings” खोलें।

2 . “About phone” को चुनें।

3 . “All apecs” पर क्लिक करें।

4 . “Status” पर क्लिक करें।

यहां, आपका MAC address दिखाई देगा।

iPhone डिवाइस के लिए :-

1 . अपने iPhone डिवाइस में “Settings” खोलें।

2 . “General” को चुनें।

3 . “About” पर क्लिक करें।

4 . यहां, “Wi-Fi Address” के नीचे आपका MAC address दिखाई देगा।

ध्यान दें कि आपके मोबाइल डिवाइस में आपका MAC address उपलब्ध होना चाहिए। यदि आपका डिवाइस नया है या यदि आपके डिवाइस में कुछ समस्याएं हैं, तो आपके डिवाइस में MAC address नहीं हो सकता है।

FAQ

Q : MAC address क्या है ?

Ans :- एक मैक एड्रेस (media access control address) एक unique identifier है जिसे नेटवर्क सेगमेंट के भीतर संचार में नेटवर्क एड्रेस के रूप में उपयोग के लिए नेटवर्क इंटरफेस कंट्रोलर (NIC) को सौंपा गया है।

Q : मैक एड्रेस कितना लंबा होता है?

Ans :- एक MAC address 48 bits लंबा होता है, आमतौर पर 12 हेक्साडेसिमल अंकों (0-9, A-F) के रूप में कोलन या डैश द्वारा अलग किया जाता है।

Q : क्या मैक पते बदले जा सकते हैं?

Ans :- हां, मैक एड्रेस को सॉफ्टवेयर या हार्डवेयर के माध्यम से बदलना संभव है। हालांकि, इसे आम तौर पर authorization के बिना ऐसा करने के लिए नेटवर्क पॉलिसी का उल्लंघन माना जाता है।

Q : मैक एड्रेस कैसे असाइन किया जाता है?

Ans :- MAC address NIC के निर्माता द्वारा Specified किए गए हैं और विश्व स्तर पर unique होने के लिए हैं।

Q : मैक एड्रेस का उद्देश्य क्या है?

Ans :- मैक एड्रेस का उपयोग नेटवर्क पर उपकरणों की पहचान करने के लिए किया जाता है। डेटा पैकेट के लिए destination पता निर्धारित करने के लिए इसका उपयोग नेटवर्क लेयर द्वारा किया जाता है।

We also Read :- 

 

Exit mobile version