Топ-100 ⓘ रॉबर्ट ब्राउनिंग एक अंग्रेजी कवि एवं नाटककार थे। नाटकीय कवित
पिछला

ⓘ रॉबर्ट ब्राउनिंग एक अंग्रेजी कवि एवं नाटककार थे। नाटकीय कविता, विशेषकर नाटकीय एकालापों में अतुल्य दक्षता के कारण उन्हें विक्टोरियन कवियों में अग्रणी स्थान प्राप ..



रॉबर्ट ब्राउनिंग
                                     

ⓘ रॉबर्ट ब्राउनिंग

रॉबर्ट ब्राउनिंग एक अंग्रेजी कवि एवं नाटककार थे। नाटकीय कविता, विशेषकर नाटकीय एकालापों में अतुल्य दक्षता के कारण उन्हें विक्टोरियन कवियों में अग्रणी स्थान प्राप्त है।

                                     

1. प्रारंभिक जीवन

ब्राउनिंग अपने माता पिता, रॉबर्ट और सारा एना ब्राउनिंग की पहली संतान थे और उनका जन्म लन्दन, इंग्लैंड के एक उपनगर कैम्बरवैल में हुआ। उनके पिता बैंक ऑफ इंग्लैंड में एक लिपिक थे तथा उन्हें अच्छा वेतन मिलता था। उनकी वार्षिक आय लगभग 150 पाउंड थी।

ब्राउनिंग के दादा सेंट किट्स, वेस्ट इंडीज़ में एक धनाढ्य दास स्वामी थे, परन्तु उनके पिता एक उन्मूलनवादी थे। ब्राउनिंग के पिता को एक चीनी के बागान में काम करने के लिए वेस्ट इंडीज भेजा गया था। ब्राउनिंग की माँ एक संगीतकार थीं। उनकी एक बहन थी, जिसका नाम सेरीऐना था। ऐसी चर्चा आम थी की ब्राउनिंग की दादी जमैका में जन्मी एक मुलातू महिला थीं, जिन्हें विरासत में सेंट किट्स में एक बागान मिला था। मुलातू उन लोगों को बुलाया जाता था जिनके माता-पिता में से एक ब्रिटिश और एक अफ़्रीकी मूल के हों.

रॉबर्ट के पिता ने एक पुस्तकालय का गठन किया, जिसमे लगभग 6000 किताबों का संग्रह था। इनमें से कई किताबें दुर्लभ थीं। इस प्रकार रॉबर्ट का पालन पोषण एक साहित्यिक संसाधनों से भरे घर में हुआ। उनकी माँ, जिनके वे बहुत निकट थे, बड़े विद्रोही स्वभाव की थीं। साथ ही वे एक प्रतिभा संपन्न संगीतकार भी थीं। उनकी छोटी बहन सारिऐना भी बहुत प्रतिभाशाली थी। बाद के वर्षों में वही ब्राउनिंग की सहयोगी बनी. उनके पिता ने साहित्य और ललित कलाओं में उनकी रूचि बढ़ाई.

बारह वर्ष की आयु होने तक ब्राउनिंग ने कविताओं की एक पुस्तक लिख डाली थी, परन्तु कोई प्रकाशक ना मिलने के कारण उसे स्वयं ही नष्ट कर दिया. ब्राउनिंग ने कई प्राइवेट विद्यालयों में दाखिला लिया परन्तु उन्हें संस्थागत शिक्षा से अरुचि होती गयी। तत्पश्चात उन्होंने घर पर ही एक अध्यापक से अध्ययन करना उचित समझा.

ब्राउनिंग एक मेधावी छात्र थे और चौदह वर्ष की आयु में वे धाराप्रवाह फ्रेंच, ग्रीक, इटालियन और लैटिन बोलने लगे थे। वे रोमांटिक कवियों, खासकर शेली के विशेष प्रशंसक थे। शेली का ही अनुसरण करते हुए वे नास्तिक और शाकाहारी बने, परन्तु बाद में दोनों को त्याग दिया. सोलह वर्ष की आयु में उन्होंने लंदन के यूनिवर्सिटी कॉलेज में प्रवेश लिया, लेकिन पहले वर्ष के बाद ही छोड़ गए। उनकी माँ एक प्रखर एवंजेलिकल निष्ठा वाली महिला थीं, जिसके कारण वे कैम्ब्रिज या ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में अध्ययन करने नहीं जा सके. उस समय ये दोनों संस्थान इंग्लैंड के चर्च के सदस्यों के लिए ही खुले थे। उनमें संगीत का भी अच्छा कौशल था, तथा उन्होंने कई गीतों की संगीत संरचना की.

                                     

2. मध्य के वर्ष

1845 में ब्राउनिंग की भेंट एलिज़ाबेथ बैरेट से हुयी, जो विम्पोल स्ट्रीट में अपने पिता के घर में एक अर्ध-मान्य संतान की तरह रहती थीं। समय के साथ दोनों के बीच गहन प्रेम हो गया। 12 सितम्बर 1846 को उन्होंने गुप्त विवाह किया और घर से भाग गए। प्रारम्भ में उन्होंने अपना विवाह गुप्त रखा क्योंकि एलिज़ाबेथ के पिता अपने किसी बच्चे के विवाह की स्वीकृति नहीं देते थे। विवाह के बाद से ही युवा ब्राउनिंग दंपत्ति इटली में रहे, पहले पीसा में और फिर उसी वर्ष कासा गिड्डी casa guidi, फ्लोरेंस अपने नए अपार्टमेन्ट में. यह स्थान उनकी याद में अब एक संग्राहलय है.

उनका इकलौता पुत्र, रॉबर्ट विएडमन बैरेट ब्राउनिंग 1849 में पैदा हुआ। उसका उपनाम उन्होंने "पैनिनी" या "पैन" रखा. इन वर्षों में ही ब्राउनिंग पर इटली की कला और सभ्यता का गहन प्रभाव हुआ तथा उन्होंने यहाँ बहुत कुछ सीखा. बाद के वर्षों में वे कहते नहीं थकते थे कि "इटली ही मेरा विश्वविद्यालय था". ब्राउनिंग ने वेनिस के निकट वेनेटो क्षेत्र के असोलो गाँव में भी एक घर खरीदा था परन्तु विडम्बना यह रही की जिस दिन उनको इस खरीद की नगर कौंसिल से अनुमति मिली, उसी दिन उनकी मृत्यु हो गयी। उनकी पत्नी का देहावसान 1861 में हुआ।

ब्राउनिंग की कविताओं को साहित्य के पारखी तो प्रारम्भ से ही जानते थे परन्तु जन साधारण में एक कवि के रूप में वे केवल अपने मध्य वर्षों में जा कर ही प्रसिद्ध हो पाए. उस सदी के मध्य में कवि टेनीसन अधिक ख्यातिप्राप्त थे फ्लोरेंस में ब्राउनिंग ने जो कवितायें लिखीं वो अंततः मैन एंड वूमन नाम से दो खण्डों वाले संग्रह के रूप में प्रकाशित हुयीं. इन किताबों के लेखक के रूप में आज ब्राउनिंग जाने जाते हैं, परन्तु 1865 में जब ये छपी थी तब इनका नाम मात्र भी प्रभाव नहीं हुआ था। 1861 में अपनी पत्नी की मृत्यु के उपरांत जब वे लन्दन लौट आये और साहित्य सभाओं में सम्मिलित होने लगे, तब उनकी प्रतिष्ठा में वृद्धि होने लगी. 1868 में, पांच साल के कार्य के बाद, उन्होंने एक लम्बी ब्लैंक वर्स कविता द रिंग एंड द बुक प्रकाशित की, जिसके बाद उन्हें उचित सम्मान और स्थान प्राप्त हुआ। यह कविता 1690 में रोम में हुई एक जटिल ह्त्या के मामले पर आधारित है। बारह पुस्तकों के रूप लिखी गयी इस कविता में से दस में कहानी के विभिन्न पात्रों द्वारा घटनाओं का अपने-अपने दृष्टिकोण से वर्णन किया गया है। शेष दो में परिचय और निष्कर्ष वर्णित हैं। यह कविता ब्राउनिंग के स्वयं के मानदंडों के अनुसार भी अत्यधिक लम्बी है 20.000 पंक्तियों से अधिक, द रिंग एंड द बुक उनकी सर्वाधिक महत्वाकांक्षी परियोजना थी। नाटकीय कविताओं में इसे टूर द फ़ोर्स अद्वितीय सृजनात्मक एंड प्रभावशाली कार्य का दर्जा दिया गया है। नवम्बर 1868 से फरवरी 1869 के बीच यह संग्रह अलग-अलग चार खण्डों में प्रकाशित हुआ, तथा व्यावसायिक और समीक्षात्मक दोनों पक्षों में अत्यधिक सफल रहा. अंततः इस संग्रह ने ब्राउनिंग को वह ख्याति दिलाई जिसकी तलाश उन्हें पिछले चालीस वर्षों से थी और जिसके वे योग्य थे।

                                     

3. एलिज़ाबेथ बैरेट ब्राउनिंग

रॉबर्ट ब्राउनिंग और एलिजाबेथ ने अपना प्रेम और विवाह गुप्त रखा. ब्राउनिंग से छह वर्ष बड़ी और दुर्बल एलिज़ाबेथ के लिए यह विश्वास करना कठिन था की खूबसूरत और उत्साही ब्राउनिंग उनसे वास्तव में उतना प्रेम करते हैं जितना वे कहते हैं। उन्होंने अपनी कविता सोंनेट्स फ्रॉम दा पॉर्चुगीज़ में अपना यही संदेह व्यक्त किया है। यह कविता उन्होंने अगले दो साल में पूरी की. अंततः प्रेम ने सब संदेहों और मुसीबतों पर विजय हासिल की तथा ब्राउनिंग एवं एलिज़ाबेथ ने सेन्ट मैरिलबोन पैरिश चर्च में गुप्त विवाह कर लिया। ठीक अपने हीरो शेली के पदचिन्हों पर चलते हुए, 1846 में ब्राउनिंग एलिजाबेथ को इटली ले आये, जो जीवनपर्यंत उनका घर बना. एलिजाबेथ की वफादार नर्स, विल्सन, जो चर्च में शादी की साक्षी बनी, उनके साथ इटली आ गयी और उनकी सेवा करती रहीं.

एलिज़ाबेथ के पिता श्री बैरेट ने एलिज़ाबेथ को अपनी संपत्ति से बेदखल कर दिया. ऐसा उन्होंने अपने उन सभी बच्चों के साथ किया जिन्होंने विवाह करने का दुस्साहस किया। "लोकप्रिय कल्पना में श्रीमती ब्राउनिंग एक मृदु स्वभाव, अबोध नवयुवती थी जिन्हें एक अत्याचारी पिता के हाथों में अंतहीन क्रूरताओं का सामना करना पड़ा, परन्तु भाग्य से जिन्हें सुन्दर और तेज रॉबर्ट ब्राउनिंग नामक कवि का प्रेम और सान्निध्य प्राप्त हुआ। अंततः वे विम्पोल स्ट्रीट के अँधेरे जीवन से भाग कर इटली पहुँच गयीं और वहाँ जीवनपर्यंत हर्ष और उल्लास के साथ रहीं."

एलिजाबेथ को कुछ पैसा विरासत में मिला था, इसलिए वे दोनों इटली में आराम से रहते थे। पति-पत्नी के रूप में उनका रिश्ता संतोषजनक था। ब्राउनिंग दंपत्ति की इटली में बड़ी ख्याति थी और इसी कारण से लोग उन्हें राह चलते रोक लेते थे या उनसे ऑटोग्राफ़ माँगा करते थे। एलिजाबेथ ने स्वास्थ्य लाभ किया और 1849 में, 43 वर्ष की आयु में, उन्होंने एक बेटे, रॉबर्ट वीदमैन बैरेट ब्राउनिंग को जन्म दिया, जिसे वे पैन कहते थे। उनके बेटे ने बाद में विवाह किया पर उसकी किसी वैध संतान का कोई ज्ञान किसी को नहीं है। सुनने में ऐसा भी आता है कि फ्लोरेंस के आसपास के क्षेत्र उनके वंशजों से भरे हुए हैं।

ब्राउनिंग के कई आलोचकों का मानना है कि उन्होंने यह निश्चय किया था की वे एक निष्पक्ष objective कवि हैं और फिर वे एक व्यक्ति-निष्ठ subjective कवि की खोज करने लगे ताकि उसके साथ विचार-विमर्श कर के वे अधिक सफल बन पायें. अपने पति के आग्रह पर एलिजाबेथ ने अपनी कविताओं के दूसरे संस्करण में लव सौनेट्स को भी शामिल कर दिया. इन सौनेट्स ने एलिज़ाबेथ को प्रसिद्धी और समीक्षकों की प्रशंसा दिलाई. तत्पश्चात वे एक प्रमुख विक्टोरिन कवयित्री के रूप पर उभरीं. 1850 में विलियम वर्डस्वर्थ की मृत्यु के बाद वे पोएट लौरिएट की प्रमुख दावेदार थीं परन्तु यह सम्मान एल्फ्रेड टेनिसन को मिला.



                                     

4. जीवन के अंतिम वर्ष

अपने जीवन के शेष वर्षों में ब्राउनिंग ने काफी यात्रा की. पिछले कुछ समय में ब्राउनिंग के बाद के वर्षों में किये गए कार्य की पुनः समीक्षा की जा रही है। अपनी काव्यात्मक गुणवत्ता और मनोवैज्ञानिक अंतर्दृष्टि के लिए ये कार्य पाठकों में अत्यंत लोकप्रिय हैं। 1870 के प्रारम्भ में लम्बी कविताओं की एक श्रृंखला छपने के बाद, जिसमें फीफाइन एट द फेयर और रेड कॉटन नाईट-कैप कंट्री को सर्वाधिक प्रशंसा मिली, ब्राउनिंग फिर से छोटी कवितायें लिखने लगे. पेचिअरोत्तो एंड हाउ ही वर्क्ड इन डिसटैम्पर में ब्राउनिंग ने अपने आलोचकों के खिलाफ द्वेषपूर्ण वार किया, विशेषकर पोएट लौरीएट अल्फ्रेड ऑस्टिन के विरुद्ध.

कुछ रिपोर्टों के अनुसार, ब्राउनिंग का लेडी एशबर्टन के साथ रोमांस चला, परन्तु उन्होंने दूसरा विवाह नहीं किया। 1878 में वह एलिजाबेथ के निधन के बाद सत्रह साल में पहली बार इटली लौटे और उसके बाद कई अवसरों पर इटली आये.

उनके काम की सराहना के लिए 1881 में ब्राउनिंग सोसाइटी की स्थापना की गयी।

1887 में, ब्राउनिंग ने अपने बाद के वर्षो का एक महत्त्वपूर्ण कार्य, पार्लेइंग्स विद सर्टेन पीपल ऑफ इम्पौरटैंस इन देयर डे प्रस्तुत किया। इस कार्य में अंततः ब्राउनिंग खुद अपनी आवाज़ में कुछ भुलाए जा चुके कवियों, दार्शनिक इतिहासकारों और कलाकारों से संवाद करते हैं। एक बार फिर से, विक्टोरियन जनता वह पढ़ कर उनकी कायल हो गयी। इसके बाद ब्राउनिंग फिर से छोटी कवितायें लिखने लगें जो उनके अंतिम वोल्यूम असोलैंडो 1889 में प्रकाशित हुई.

उनका निधन 12 दिसम्बर 1889 को वेनिस में उनके पुत्र के घर कारेजोनिको CaReezzonico में हुआ। उसी दिन असोलान्दो प्रकाशित हो कर आई थी। उन्हें वेस्टमिन्स्टर एब्बी में पोएट्स कॉर्नर में दफनाया गया, जहाँ अल्फ्रेड टेनिसन की मज़ार भी उनके निकट ही है।

                                     

5. ब्राउनिंग की काव्यात्मक शैली

आज ब्राउनिंग की ख्याति मुख्यतः उनके नाटकीय एकालापों की वजह से है, जिसमें शब्द न केवल परिदृश्य का वर्णन करते हैं, बल्कि वक्ता के चरित्र को भी प्रकट करते हैं। ब्राउनिंग के ये नाटकीय एकालाप स्वभाषणों से भिन्न हैं। इनमें वक्ता प्रत्यक्ष रूप से अपना पक्ष नहीं रखता अपितु परोक्ष रूप में बिना इस प्रति प्रयास किये जो वह प्रकट कर जाता है, वही उसका वास्तविक ध्येय होता है। इस माध्यम से वह अपने क्रिया कलापों को कविता में निहित उस प्रछन्न परीक्षक के सम्मुख न्यायसंगत सिद्ध कर जाता है। अपने पक्ष को प्रत्यक्ष शब्दों में कहे बिना वह पाठक को अपना पक्ष समझन को बाध्य कर देता है। ब्राउनिंग अपने काव्य में सर्वाधिक अधम और मनोरोगी अपराधियों को पेश करते हैं, जिसका मकसद होता है पाठक के मन में उन पात्रों के प्रति सहानुभूति पैदा करना. हालाँकि वे चरित्र इसके योग्य नहीं होते, परन्तु ऐसा पाठक को उकसाने के लिए लिखा जाता है ताकि वह एक हत्यारे व मनोरोगी को न चाहते हुए भी निर्दोष मानने को बाध्य हो जाएँ. उन का एक अधिक सनसनीखेज एकालाप था पोर्फायिरिआज़ लवर.

माय लास्ट डचेस ब्राउनिंग के बहुचर्चित एकालापों में से एक है। इसमें प्रत्यक्ष रूप में तो मुख्य पात्र ड्यूक सभ्य व कुलीन है, तथा उसके संवाद भी एक संभ्रांत व्यक्ति के अनुकूल ही हैं। परन्तु एक प्रबुद्ध व सचेत पाठक को यह तथ्य स्पष्ट हो जाता है कि इस ऊपरी सभ्यता व संभ्रांत शब्दों के परोक्ष में एक विक्षिप्त दिमाग काम कर रहा है। शीघ्र ही पाठक को यह ज्ञात हो जाता है की डचेस की हत्या बेवफाई के कारण नहीं की गयी, न ही इस कारण कि वह छोटी घटनाओं से प्रसन्नता प्राप्त कर लेती थीं और अंत में न ही इस लिए की गयी की वह ओहदे के लिए उचित कृतज्ञता नहीं प्रकट कर पायीं. ड्यूक का घमंडी और अमानवीय मन यह तक स्वीकार नहीं कर पाता था कि उसे अपनी पत्नी को एक डचेस की तरह व्यवहार करने के लिए कहना पड़ता था। उसे यह भी अपनी झूठी शान के विपरीत लगता था। इस घमंड के कारण डचेस ड्यूक की पेंटिंग व पुतलों के संग्रह का एक कलात्मक हिस्सा मात्र बन कर रह गयीं. एक अन्य एकालाप फ्रा लिप्पो लिप्पी में ब्राउनिंग एक अरुचिकर और अनैतिक चरित्र का प्रयोग करते हैं और पाठकों को चुनौती देते हैं कि वे उस चरित्र की वह खूबियाँ ढूंढ कर बताएं, जिन्हें ढूँढने में उस समय के न्यायधीशों को भी पसीना आ जाए. रिंग एंड द बुक ब्राउनिंग का एक महाकाव्य है। इसमें एक हत्या के केस के चरित्रों द्वारा बोले गए 12 रिक्त वर्स एकालापों के माध्यम से वे इश्वर के मानव के प्रति प्रेम की विवेचना करते हैं। इन एकालापों ने बाद के कई कवियों को काफी प्रभावित किया जिनमें से टी. एस. इलीअट और एजरा पाउंड प्रमुख हैं। एजरा पाउंड तो ब्राउनिंग की सोर्देलो नामक कविता, जो तेहरवीं शताब्दी के एक असफल व निराश कवि की विकृत मानसिकता का वर्णन है, के विषय में अपनी कविता कैन्तोस में यहाँ तक कह डाला कि ब्राउनिंग के इस संग्रह से इतने प्रभावित हैं कि इससे दूर रहना कठिन हो रहा है।

ध्यान देने योग्य बात यह है कि ब्राउनिंग की जिस शैली को विक्टोरियन पाठकों ने आधुनिक और प्रयोगात्मक माना, वह वास्तव में सत्रहवी शताब्दी के कवि जॉडन की शैली से प्रभावित है। डन कविता के आकस्मिक प्रारम्भ, आम बोल चाल के शब्दों के प्रयोग और अनियमित लय ताल के लिए प्रसिद्ध थे। ब्राउनिंग परसी शेली के अवरोही प्रशंसक रहे और इसलिए वे सत्रहवी शताब्दी के आत्म केन्द्रित कवियों के द्वारा प्रयोग किये गए मिथ्या दंभ, कटाक्ष और अनुचित शब्द-वाक् युद्ध से दूर रहे. उनमें आधुनिक संवेदनशीलता है और वे अपने एक चरित्र के उस मासूम कथन इश्वर स्वर्ग में है; धरती पर सब ठीक है।" के विरुद्ध उठने वाले प्रश्नों से भली भांति अवगत हैं। ब्राउनिंग इस कथन का समर्थन करते हैं क्योंकि वे मानते हैं कि वह सर्वशक्तिमान इश्वर उस उत्कृष्ट स्वर्ग में रहने के बावजूद सांसारिक प्रक्रियाओं से दूर नहीं है और जीवन में आनंद के प्रचुर अवसर व कारण हैं।

                                     

6. ध्वनि रिकॉर्डिंग का इतिहास

7 अप्रैल 1889 को ब्राउनिंग के एक मित्र कलाकार रूडोल्फ लेहमैन के घर पर आयोजित एक रात्रिभोज के समय, एडिसन के ब्रिटिश प्रतिनिधि जॉर्ज गूराड ने व्हाईट वैक्स सिलेंडर पर एक एडिसन सिलेंडर फोनोग्राफ रेकॉर्डिंग की. इस रेकॉर्डिंग में, जो आज भी सुरक्षित है, ब्राउनिंग ने अपनी कविता "हाउ दे ब्रौट दा गुड न्यूज़ फ्रॉम घेंट टू एक्स" के कुछ हिस्से पढ़ कर सुनाये हैं कविता के कुछ अंश भूलने पर उन्हें क्षमा मांगते हुए भी सुना जा सकता है जब 1890 में उनकी मृत्यु की वर्षगाँठ पर यह रिकॉर्डिंग उनके प्रशंसकों के मध्य बजाई गयी, तो लोगों ने ऐसा कहा कि "पहली बार किसी की आवाज़ उसकी कब्र के परे से भी सुनाई दी".

                                     

7. सम्पूर्ण कार्यों की सूची

  • पौलीन: ए फ्रैगमेंट ऑफ ए कन्फेशन 1833
  • दा पाइड पाइपर ऑफ़ हम्लिन
  • "माई लास्ट डचेस"
  • "सौलीलोकुई ऑफ़ दा स्पैनिश क्लोइसटर"
  • "पौरफाइरिआज लवर"
  • सोर्डेल्लो 1840
  • बैल्स एंड पामिग्रेनेट्स नंबर III: ड्रामैटिक लिरिक्स 1842
  • बैल्स एंड पामिग्रेनेट्स नंबर I: पिप्पा पासेस नाटक 1841
  • पेरासेलसस 1835
  • बैल्स एंड पामिग्रेनेट्स नंबर II: किंग विक्टर और किंग चार्ल्स नाटक 1842
  • "जोहानिस अग्रीकोला इन मेडिटेशन"
  • स्ट्राफोर्ड खेल 1837
  • बैल्स एंड पामिग्रेनेट्स नंबर VII: नाटकीय रोमांस और गीत 1845
  • बैल्स एंड पामिग्रेनेट्स नंबर IV: दा रिटर्न ऑफ़ दा ड्रूसेस नाटक1843
  • बैल्स एंड पामिग्रेनेट्स नंबर V: ए ब्लोट इन दा स्कूचन नाटक 1843
  • दा बिशप ओर्डेर्स हिस टूम्ब अत सेंत प्रेक्स्दस चर्च
  • "हाउ दे ब्रौट दा गुड न्यूज़ फ्रॉम घेंट तो एक्स"
  • "लैबोरेटरी"
  • बैल्स एंड पामिग्रेनेट्स नंबर VI: कोलोम्बेज़ बर्थडे नाटक 1844
  • बैल्स एंड पामिग्रेनेट्स नंबर VIII: लुरिया एंड ए सोल्स ट्रेजडी नाटक 846
  • "एंड्रिया डेल सार्तो"
  • "दा लास्ट राइड टूगैदर"
  • "फ्रा लिप्पो लिप्पी"
  • "ए ग्राम्मारियन्स फ़ूनेरल"
  • "दा पैट्रियट/ एन ओल्ड स्टोरी"
  • "लव अमोंग दा रूएंस"
  • "ए टोक्कता ऑफ़ गलुप्पिज़"
  • क्रिसमस ईव एंड ईस्टर डे 1850
  • मैन एंड वूमन 1855
  • "चाइल्ड रोलैंड टू दा डार्क टॉवर केम"
  • "एन एपिस्तल कंटेनिंग दा स्ट्रेंज मेडिकल क्स्पीरिंस ऑफ़ कर्शीश, दा अरब फिसिशियन"
  • "रब्बी बेन अजरा"
  • "कैलिबेन अपोन सेतेबोस"
  • ड्रेमेटिज़ पर्सोने 1864
  • फेरिशताज़ फैन्सीस 1884
  • दा रिंग एंड दा बुक 1868-9
  • ला सैसिअज़ एंड दी टू पोयट्स ऑफ क्रोइसिक 1878
  • ब्लौस्टिन्स ऐडवैनचर 1871
  • ड्रामेटिक इडील्स 1879
  • असोलान्ड़ो 1889
  • पारलेइंग विद सर्टेन पीपल ऑफ इंपोर्टेंस इन देयर डे 1887
  • दी आगामेमनन ऑफ़ एचीलस 1877
  • फिफाइन एट दा फेयर 1872
  • ड्रामेटिक इडील्स: दूसरी सीरीज 1880
  • पच्चिअरोत्तो, एंड हाउ ही वर्क्ड इन डिस्टेम्पर 1876
  • दा इन एल्बम 1875
  • प्रिंस हॉनेस्टियल-स्चवान्गु, सेवियर ऑफ सोसाइटी 1871
  • रेड कॉटन नाईट कैप कंट्री और, टर्फ एंड टावर्स 1873
  • प्रोस्पाईस
  • जोकोसेरिया 1883
  • एरिस्टोफेंस अपोलौजी 1875


                                     

8. पॉप संस्कृति

  • इसके अतिरिक्त, द विंग्स ऑफ फायर ऑर्केस्ट्रा का दूसरा एल्बम, प्रोस्पाईस, रॉबर्ट ब्राउनिंग की इसी नाम की कविता पर आधारित है।
  • जान लेनन का गाना "ग्रो ओल्ड विथ मी", जो उनके मरणोपरांत मिल्क एंड हनी नामक एल्बम में शामिल किया गया, वह भी ब्राउनिंग के "ग्रो ओल्ड विथ मी, दा बेस्ट इस येट टू बी" पर आधारित है। डाक विभाग ने भी इसे बाद में प्रयोग किया और उनकी एल्बम Instant Karma: The Amnesty International Campaign to Save Darfur का हिस्सा बना.
  • अमेरिकन टीवी धारावाहिक फ्रेज़िअर के छठे सीजन "गुड ग्रीफ" में धारावाहिक का मुख्य पात्र फ्रेजिअर रॉबर्ट ब्राउनिंग और एलिजाबेथ ब्राउनिंग के जीवन पर एक छोटा ओपेरा बनाते हुए दिखाया गया है।
  • ब्राउनिंग और उनकी पत्नी एलिज़ाबेथ की कहानी पर आधारित एक नाटक बनाया गया था जिसका नाम था, "द बैरेट्स ऑफ विम्पोल स्ट्रीट." नाटक कैथेरिन कॉर्नेल नामक अभिनेत्री ने खोजा और निर्मित किया। उन्होंने स्वयं ही एलिज़ाबेथ की भूमिका अदा की और वे इसी भूमिका के लिए प्रसिद्ध हुयीं. यह नाटक काफी सफल रहा और अमेरिका में इसने ब्राउनिंग दंपत्ति को बहुत सफलता दिलाई और फिर अंततः इस नाटक पर आधारित दो फ़िल्में भी बनी.
  • रॉक बैंड क्वीन के द्वारा "माय फेयरी किंग 1973 नामक गीत में कही गयी ये पंक्तियाँ" और उनके कुत्तों ने हमारे हिरणों को पछाड़ दिया और मधुमखियों ने अपने डंक खो दिए और घोड़ों का जन्म चील के पंखों के साथ हुआ" सीधे ही ब्राउनिंग की किताब द पाईड पाइपर ऑफ हैमलिन से ली गयी हैं।
  • अमेरिकन टीवी धारावाहिक द एक्स फाइल्स के चौथे सीज़न में एजेंट फ़ॉक्स मलडर को धारावाहिक के प्रारम्भ और अंत में "वह खेत जहां मैं मारा गया था", कहते हुए दिखाया गया है जो पंक्ति ब्राउनिंग की रचना पैरासेल्सस से ली गयी है।
  • रॉबर्ट ऍफ़ यंग की 1957 की साइंस फिक्शन लघु कथा योर घोस्ट विल वॉक. के दो मुख्य रोबोट पात्र व्यक्तित्व रॉबर्ट ब्राउनिंग और एलिजाबेथ बैर्रेट ब्राउनिंग पर आधारित हैं।
  • नियोन जेनेसिस एवंजेलियन फ्रेंचाइज में नर्व की संस्था के लोगो के एक चौथाई वृत्त के आकार में नीति वाक्य "इश्वर स्वर्ग में है; धरती पर सब कुशल है" लिखा हुआ है, शेष लोगो में संस्था का नाम एक अंजीर की पत्ती से ढका है। यह आदर्श वाक्य रॉबर्ट ब्राउनिंग की कविता पिप्पा पासेस से लिया गया है।
  • स्टीफन किंग की द डार्क टॉवर नामक उपन्यासों की सीरीज ब्राउनिंग की कविता चाइल्ड रोलैंड टू दा डार्क टावर केम पर आधारित है।
  • टेरेंस रैटेगन के नाटक द ब्राउनिंग वर्शन की पटकथा एक संवेदनशील स्कूली लड़के की कहानी है जो अपनी अध्यापिका को द एगेमेनोन ऑफ इचीलस नामक कृति का ब्राउनिंग द्वारा 1877 में किया गया अनुवाद भेंट करता है। इस नाटक पर 1994 में एक फिल्म भी बनी जिसमें अलबर्ट फिन्नी ने मुख्य भूमिका निभाई
                                     
  • ब र उन ग न ह अपहरण क स ज श रच ह और वह एक अ तर मन क स रक ष व श षज ञ ह न क न त यह ब त ज नत ह क ब उस अगल ल वल म ज न क ल ए ब र उन ग
  • द र क मशह र प श च त य कव य म ज न क ट स, म थ य आर न ल ड और र बर ट ब र उन ग स ख स प रभ व त थ आर भ म र श द न उनक तर ज पर ल खन क क श श
  • 1795 - 1821 ज र ज ग र डन ब यरन 1788 - 1824 अलफ र ड ट न सन 1809 - 92 र बर ट ब र उन ग 1812 - 89 और म थ य आर नल ड 1822 - 88 क न म भ ज ड ह ए ह प र व र ध
  • म ख य प त र ह ब ल स व न और एडवर ड कलन, ज क रमश क र स ट न स ट वर ट और र बर ट प ट नसन द व र अभ न त ह कथ नक एक क श र लड क और एक प श च पर क द र त ह
  • म इकल क टन ह स थ ह अन य प रम ख कल क र म ज क न कल सन, क म ब स गर, र बर ट व ल और ज क प ल स ह यह फ ल म, ज सम ब टम न क स मन द ज कर न म क
  • गए थ और उस द न व पस आ गए थ म र बर ट ब र उन ग न फ ड प प ड स न मक एक कव त ल ख थ ब र उन ग क कव त और उसक वर ण त ग थ उन न सव सद
                                     
  • टर ब द उन ह न ब ण ड क हथ य र भ बदल ग र डनर क ब ण ड श र आत म ब र उन ग 9म ल म टर उपय ग करत थ पर ब द म ह क लर ऐ ड क च व प 70 और उसक ब द ह क लर
  • स क ल क घर ह ज नम अपर ईस ट स इड क ब र यरल स क ल, ड ल टन स क ल, ब र उन ग स क ल, स प न स स क ल, च प न स क ल, न इट गल - ब मफ र ड स क ल और क न व ट
  • प र य श न य ह सद क लर ज, बर ड स वर थ, श ल क ट स, ब यरन, ल डर और ब र उन ग न न टक ल ख ल क न अध कतर व क वल पढ न ल यक ह शत ब द क उत तर र ध
  • व घट त नह ह त ह पर त ज स क अन य अम न अम ल क स थ ह त ह ब र उन ग भ र पड न य म यल र ड अभ क र य ए शर कर क उपस थ त म बह त अध क

यूजर्स ने सर्च भी किया:

बरउनग, बरट, बरटबरउनग, रॉबर्ट ब्राउनिंग, महिला-सम्बन्धित संस्कृति. रॉबर्ट ब्राउनिंग,

...

शब्दकोश

अनुवाद

अल्प आयुष्य में ही उन्नति कहानी Akhandjyoti.

एरोसोल स्प्रे की खोज किसने की थी एरिक रोथैम, नॉर्वे, सन 1926 में एटॉमिक बम का अविष्कार किसने किया था जे रॉबर्ट ओप्पेन्हेइमेर, अमेरिका, सन 1945 में ऑटोमेटिक राइफल की खोज करने वाले व्यक्ति का नाम क्या था जॉन ब्राउनिंग,. रॉबर्ट ब्राउनिंग Meaning in English TheWise. गजराज प्रथम, माता प्रसाद द्वितीय व ज्योति सिंह को तृतीय पुरस्कार. जागरण कार्यालय, बलरामपुर स्थानीय महारानी लाल कुंवरि महाविद्यालय के अंग्रेजी विभाग द्वारा रॉबर्ट ब्रॉउनिंग इज ए पोएट नामक शीर्षक पर भाषण प्रतियोगिता. एक मील मैं चला रॉबर्ट ब्राउनिंग हैमिल्टन. कवि रॉबर्ट ब्राउनिंग ने मातृत्व को परिभाषित करते हुए कहा है सभी प्रकार के प्रेम का आदि उद्गम स्थल मातृत्व है और प्रेम के सभी रूप इसी मातृत्व में समाहित हो जाते हैं। प्रेम एक मधुर, गहन, अपूर्व अनुभूति है, पर शिशु के प्रति मां का.


PratahKal Express: मदर्स डे माँ का कर्ज नहीं चुका.

स्वयं अज्ञेय ने अपनी साहित्यिक सजातीयता रॉबर्ट ब्राउनिंग और डी.एच. लॉरेंस वे$ साथ ज्ञापित की है, लेकिन साहित्य ​चिंतक अज्ञेय पर प्रभाव एलियट का ही अधिक है। इस प्रभाव को उनकी दृष्टि का वे$ंद्र बिंदु नहीं कहा जा सकता लेकिन इसका आकर्षण. एक शहर जहां गलियां सिखाती हैं साहित्य iChowk. अंग्रेजी साहित्यकार रॉबर्ट ब्राउनिंग ने कहा था कि जो युवाआों को हीरा लगता है, अनुभव उसे ओस की बूंद बताता है. आर्थिक कमजोरी के दौर में ग्राहक कम दाम वाली लग्जरी चीजों पर खर्च करते हैं. वे पैसा बचाने का प्रयास करते हैं.


रॉबर्ट ब्राउनिंग नवभारत टाइम्स Navbharat Times.

एटॉमिक बम का अविष्कार किसने किया था जे रॉबर्ट ओप्पेन्हेइमेर J Robert Oppenheimer, अमेरिका, सन 1945 में ऑटोमेटिक राइफल की खोज करने वाले व्यक्ति का नाम क्या था जॉन ब्राउनिंग John Browning, अमेरिका, सन 1918 में बैलून की खोज किसने की थी Следующая Войти Настройки Конфиденциальность. नून मीम राशीद Everybody Bios &. International mothers day date 2019 अन्तर्राष्ट्रीय मातृत्व दिवस सम्पूर्ण मातृ शक्ति को समर्पित एक महत्वपूर्ण दिवस है, जिसका ममत्व एवं त्याग घर ही नहीं, सबके घट को उजालों से भर देता है।. Rahul Sonia Ganghi Tussle Harmed Delhi Congress in Election. Robert Browning. रॉबर्ट ब्राउनिंग. rajendra. 2017 01 24:21. A. 2. 0. 0. 0. 0. poetry. national. What is the name of the very popular author of children%​u2019s books whose Charlie and the Chocolate Factory is still one of the best ​selling children%u2019s books of all time? बच्चों की% u2019 किताबों के. आओ एक नई दुनिया बसाएं Best Online News in Hindi Sach. तुमने रॉबर्ट ब्राउनिंग की द लास्ट राइड टुगेदरपढ़ी है मैंने उससे पूछा। कौन सी राइड? वह हंसने लगी. उसका द्विअर्थी आशय समझते हुए भी मैंने कहा,यह रॉबर्ट ब्राउनिंग का मोनोलॉग हैं जिसमें लवर अपनी बिलोव्ड को लास्ट राइड पर ले जाता है.





शून्य मन्दिर में बनूँगी आज मैं प्रतिमा तुम्हारी!.

साहसी निर्णायक क्षमता है। आशावादी दृष्टिकोण, सकारात्मक सोच है। उत्साही मन है। मैं दुख में सुख खोज लेना चाहता हूं और संकल्पित होते हुए सचमुच सुख खोज लेता हूं। रॉबर्ट ब्राउनिंग के शब्दों में, जो स्थिति आपके दिमाग की है,. निम्न में से कौन सा एक. रॉबर्ट ब्राउनिंग Роберт Браунинг. State News In Hindi Bahu News haryana news lack of access to. जीकरपुर दीक्षांत ग्लोबल स्कूल, वीआईपी रोड, जीरकपुर की जूनियर विंग के छात्रों ने स्कूल परिसर में अपना तीसरा वार्षिक दिवस समारोह आयोजित किया। छात्रों ने रॉबर्ट ब्राउनिंग के ऐतिहासिक नाटक दि पाईड पाइपर ऑफ हैमेलिन की एक​. हमेशा रहती है भाग्य पर कर्म की प्रधानता. मैं धरूँगा रॉबर्ट ब्राउनिंग का रूप और तुम एलिज़ाबेथ बैरेट। मैं टेनिसन, तुम ऐमिली और मैं ज़ोन रस्किन, तुम ईफ़ी ग्रे। अगली सदी में कभी मेरा नाम होगा शैले और तुम्हारा हैरियट, अगर हुआ जॉर्ज बर्नार्ड शॉ तब स्टेला होगी तुम। कीट्स. रॉबर्ट ब्राउनिंग 2014 FIFA World Cup – Navbharat Times. 1962 के भारत चीन युद्ध के बाद उस वक्त भारत में ऑस्ट्रेलिया के उच्चायुक्त वाल्टर क्रॉकर ने प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की हालत एक कविता के जरिए बयां की थी. ये कविता ब्रिटिश कवि रॉबर्ट ब्राउनिंग ने लिखी थी. हिंदी में इसका.


हम सभ्य होने का दावा तो करते हैं लेकिमन के अंदर.

जैसे वहां की गलियों और सड़कों के नाम जॉन स्टाइनबेक, एडगर एलन पो, अर्नेस्ट हेमिंग्वे, रॉबर्ट ब्राउनिंग और विलियम ब्लेक जैसे कई जाने माने लेखकों के नाम पर थे. एकदम आसानी से एक इलाके ने मुझे अंग्रेजी साहित्य के दिग्गजों के. सेनिन Eklavya. VicharWindow: सारा जहां गीत चतुर्वेदी प्रेम और कविता ने जीवनदान दिया उसे अंग्रेज़ी कवि रॉबर्ट ब्राउनिंग और एलिज़ाबेथ बैरेट की प्रेमकथा किसी उपन्यास से. रॉबर्ट ब्राउनिंग द. संसार में सब कुछ ठीक ठाक है Hindi Poem by Rajnish Manga. महाकवि रॉबर्ट ब्राउनिंग कहते हैं: स्वर्गधाम में वह परमेश्वर रहता है read full text Rajnish Manga. Topic s of this poem: god, heaven, home, world. Form: Free Verse. अनटाइटल्ड Niscair. रॉबर्ट ब्राउनिंग एक अंग्रेजी कवि और नाटककार थे, जिनके नाटकीय एकालाप की महारत ने उन्हें सबसे महत्वपूर्ण विक्टर कवियों में से एक बना दिया। उनकी कविताएँ उनकी विडंबना, चरित्र चित्रण, गहरा हास्य, सामाजिक टिप्पणी, ऐतिहासिक सेटिंग्स और.


संसार में सब कुछ ठीक ठाक है Hindi Poem by Rajnish.

एटॉमिक बम का अविष्कार किसने किया था जे रॉबर्ट ओप्पेन्हेइमेर J Robert Oppenheimer, अमेरिका, सन 1945 में ऑटोमेटिक राइफल की खोज करने वाले व्यक्ति का नाम क्या था जॉन ब्राउनिंग John Browning, अमेरिका, सन 1918 में बैलून की खोज किसने की थी. दीक्षांत ग्लोबल स्कूल में रॉबर्ट ब्राउनिंग के. एलिजाबेथ बैरट ब्राउनिंग 12 वर्ष की अवस्था में ही ग्रीक और लेटिन भाषा की विद्वान हो गई थी। डीकिन्स ने तो इन भाषाओं का ज्ञान 11 वें वर्ष में ही प्राप्त कर लिया था। रॉबर्ट ब्राउनिंग बारहवें वर्ष में अच्छी कविता लिखने लग गए थे। कवि काउली ने 14. Review of zoom studios mom co heart warming tale of a mother and. रॉबर्ट ब्राउनिंग की मशहूर कविता पॉर्फीरियाज़ लवर में पॉर्फीरिया का प्रेमी उसे सिर्फ इसलिए मार देता है कि वो हमेशा उसके पास रहे. उसे लगता था कि मरते वक्त पॉर्फीरिया को कतई दर्द नहीं हुआ होगा. वो बाद में उसकी लाश से प्यार. Varisth Nagrik Par Nibandh वरिष्ठ नागरिक पर निबंध 35157. रॉबर्ट ब्राउनिंग एक अंग्रेजी कवि एवं नाटककार थे। नाटकीय कविता, विशेषकर नाटकीय एकालापों में अतुल्य दक्षता के कारण उन्हें विक्टोरियन कवियों में अग्रणी स्थान प्राप्त है।.


हिंदी साहित्य को जिंदा करना है तो अमेरिक की इन.

PHONEKY बड़े हो जाओ वॉलपेपर, अपने मोबाइल पर वॉलपेपर डाउनलोड करें. रॉबर्ट ब्राउनिंग इज ए पोएट. मुझे रॉबर्ट ब्राउनिंग की एक कविता याद आती है कि पोरफिरिया के प्रेमी ने उसे, उसके ही सुनहरे बालों से गला घोंट कर, मार दिया था क्योंकि उसे लगा कि इससे ज़्यादा प्रेम पोरफिरिया उसे कभी नहीं कर पाएगी और एक समय आएगा जब वो समाज. इस तरह फर्जी खबरें छापकर मुसलमानों के खिलाफ. भारत में बुजुर्गों की समस्याएं. ग्रो ओल्ड अलांग विद मी, द बेस्ट इज येट टु बी, ऐसा ही कुछ अंग्रेजी के कवि रॉबर्ट ब्राउनिंग ने कहा है। भारत में बुजुर्गों की टीवी पर दिखाई जा रही दशा के अनुसार कोई भी यह मान सकता है कि भारत में. विक्टोरियन क्रांति और विकास: साहित्य और दृश्य. रॉबर्ट ब्राउनिंग. 4. मुझे एक ऐसी मां के साथ बड़े होने का मौका मिला जिसने मुझे खुद में यकीन करना सिखाया। एन्टोनियो विल्लारैगोसा. 5. कला की दुनिया में ऐसा कुछ भी नहीं है जैसा कि उन लोरियों में होता था जो माएं गाती थीं। बिली संडे. 6. दीर्घजीवन एक सहज उपहारः एक दिव्य वरदान Akhandjyoti. उन्होंने रॉबर्ट ब्राउनिंग की रचनाओं का जापानी में अनुवाद भी किया है। अँग्रेज़ी से अनुवाद: पूर्वा याज्ञिक कुशवाहा: सुप्रसिद्ध अनुवादक। शिक्षा और बाल साहित्य के क्षेत्रों में अनेकों पुस्तकों का हिन्दी में अनुवाद किया है। जयपुर में.


Beaming Notes के लिए Android फ्री डाउनलोड – 9Apps.

अमृता ने साहिर को,विक्रम साराभाई ने मृणालिनी साराभाई को, जॉर्ज बर्नार्ड शॉ ने ब्रिटिश अभिनेत्री एलेन टैरी को, ऑस्कर वाइल्ड ने अल्फ्रेड डगलर को और ब्रिटिश महारानी एलिजाबेथ ने रॉबर्ट ब्राउनिंग को जो पत्र लिखे हैं,वे महज. Hindi romance story मुखर्जी नगर वाला लव २. अंग्रेजी के महान कवि रॉबर्ट ब्राउनिंग ने कहा है: मैं सदैव योद्धा रहा हूं। अतः एक युद्ध और सही। पुरुषार्थ कभी पराजित नहीं होता, वह तो कर्मठता का प्रतीक होता है। हमें सेना के प्रयाण का उदाहरण याद रखना होगा जिसमें सदा लेफ्ट राइट.


ब्राउनिंग की काव्यात्मक शैली Owl.

उन्‍होंने यह पत्र अपनी पत्‍नी ईफी ग्रे के नाम लिखा था। सम्बंधित जानकारी. अन्‍नाबेला को लॉर्ड बायरन का पत्र रॉबर्ट ब्राउनिंग का पत्र एलिजाबेथ बैरेट ब्राउनिंग का पत्र नेपोलियन बोनापार्ट का पत्र जोसफिन के नाम. और भी पढ़ें जॉन रस्किन ईफी. कम कीमत hindi सेट बहुत सारे – थोक hindi गैलरी छवि. A. ब्रेन लारा, टेस्ट क्रिकेट में एक पारी में 400 रन बनाने वाले एकमात्र क्रिकेटर. B. रॉबर्ट ब्राउनिंग, विक्टोरियन युग के अंग्रेजी कवि. C. डेसमण्ड टूटू, दक्षिण अफ्रीका के धार्मिक व्यक्ति जिन्होंने रंगभेद नीति का लगातार विरोध किया. D. उपरोक्त.





रॉबर्ट ब्राउनिंग Meaning in English & Translation.

आसानी से सँभाल लेते है और सभी सदस्यों को भावनात्मक रूप से सुरक्षा प्रदान करते हैं । अतः वरिष्ठ नागरिकों का साथ मिलना हमारे लिए किसी बरदान से कम नहीं है । अंग्रेजी के प्रसिद्ध कवि रॉबर्ट ब्राउनिंग ने वृद्धावस्था के बारे में लिखा है. India China Standoff Doka La Standoff By Staring Down China For. तो वह बोले हां मैं मदन मोहन हूँ संदर्भ Reference लोकप्रिय कल्पना में श्रीमती ब्राउनिंग एक मृदु स्वभाव, अबोध नवयुवती थी परन्तु भाग्य से जिन्हें सुन्दर और तेज रॉबर्ट ब्राउनिंग नामक कवि का प्रेम और सान्निध्य प्राप्त हुआ संदर्भ Reference. GyaniBano. A complete GK, Current Affairs and Important Topics. रॉबर्ट ब्राउनिंग. Sentences. 1. The brown backed goose has a white belly and brown wings, back and head. बादामी पीठ वाले हंस का पेट सफेद होता है और पंख, पीठ और सिर बादामी. 2. This hat does match the brown dress. यह टोपी उस ब्राऊन ड्रेस के साथ जचती नहीं है। 3. Ive heard that.


अधूरा नहीं छोड़ा करते पहला चुम्बन मेरा सामान.

यह साफ करने के लिए कि दिल्ली की राजनीति को शीला दीक्षित युग से कांग्रेस ने किस तरह देखा, एक असंतुष्ट कांग्रेसी नेता ने रॉबर्ट ब्राउनिंग के हवाले से कहा गया, ये कितना दुखद, बुरा और पागल था लेकिन फिर भी यह कितना मीठा था. भारत के भूतपूर्व उपराष्ट्रपति भारत सरकार भारत. रॉबर्ट ब्राउनिंग की कविता पिप्पाज़ सॉन्ग में किया गया विवरण ही हमारा यथार्थ है कि घोंघे धरती पर रेंग रहे हैं, परिंदे आकाश में उड़ रहे हैं, सब कुछ सुखद और सामान्य है। किसी दौर में शेखर कपूर पश्चिम में बनी टाइम मशीन फिल्म का. जॉन रस्किन का पत्र ईफी ग्रे के नाम Webdunia Hindi. उत्तर विकल्प A. 7. ए थिंग्स ओफ बियूटी इज ए जोय फोरवेभर इस पंति के लेखक है? A. रॉबर्ट ब्राउनिंग B. चार्ल्स डिकेन्स C. वर्जीनिया वूल्फ D. जॉन कीट्स. उत्तर विकल्प A. 8. माई फ्रोज़ेन टुर्बुलेंस इन कश्मिर नामक पुस्तक किसके द्वरा लिखा गया है?. रॉबर्ट ब्राउन Ra?barta Braun R Bart Braun Ra. Beaming Notes एंड्रॉइड के लिए एक शिक्षा एप्लिकेशन है। 9Apps की आधिकारिक वेबसाइट Beaming Notes को मुफ्त डाउनलोड और Beaming Notes चलाने की सुविधा प्रदान करती है। डाउनलोड करें और अब Beaming Notes का आनंद लें!. रॉबर्ट ब्राउनिंग की जीवनी GK questions For UPSC. थोक चांदी के गहने से सस्ते मैं सबसे अच्छा वर्षगांठ उद्धरण छवियों खरीदने के लिए, उच्च गुणवत्ता पूर्ण छवियों को दिखाये पर.


Scientific Inventions वैज्ञानिक आविष्कार GK भाग 3.

रॉबर्ट ब्राउनिंग ने सही लिखा है, क्षण भर की सफलता बरसों की असफलता को पूरा कर देती है। अगर हम सफल व्यक्तियों और असफल होने वाले दोनों ही प्रकार के लोगों के जीवन का विश्लेषण करें तो पाएंगे कि भाग्य सिर्फ एक सीमा तक ही किसी. बड़े हो जाओ वॉलपेपर PHONEKY से अपने मोबाइल पर. अब जबकि हम नए साल में प्रवेश कर रहे हैं, और लक्ष्मण के जीवन में भी एक और साल जुड़ गया है और वे एक खिलाड़ी के जीवन की गोधूलि बेला के निकट पहुँच रहे हैं, मुझे रॉबर्ट ब्राउनिंग की वो जादुई पंक्तियाँ याद आती हैं Grow old along with me,. ई मेल और व्हाट्सअप के युग में क्यों तड़पाती है. भोग विलास, सांसारिक माया जाल आदि की रचना मनुष्य स्वयं करता है और स्वयं ही उसमें फंसता जाता है। उसकी अपनी बनाई हथकड़ी बेड़ी उसी के हाथ पैरों में पड़ जाती है। जब विवेक नष्ट हो जाता है तो ऐसा ही होता है। रॉबर्ट ब्राउनिंग जो स्थिति आपके.


...
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →