Топ-100 ⓘ मेसोथेलियोमा, अधिक स्पष्ट रूप से असाध्य मेसोथेलियोमा, एक दुर
पिछला

ⓘ मेसोथेलियोमा, अधिक स्पष्ट रूप से असाध्य मेसोथेलियोमा, एक दुर्लभ प्रकार का कैंसर है, जो शरीर के अनेक आंतरिक अंगों को ढंककर रखनेवाली सुरक्षात्मक परत, मेसोथेलियम, ..



मेसोथेलियोमा
                                     

ⓘ मेसोथेलियोमा

मेसोथेलियोमा, अधिक स्पष्ट रूप से असाध्य मेसोथेलियोमा, एक दुर्लभ प्रकार का कैंसर है, जो शरीर के अनेक आंतरिक अंगों को ढंककर रखनेवाली सुरक्षात्मक परत, मेसोथेलियम, से उत्पन्न होता है। सामान्यतः यह बीमारी एस्बेस्टस के संपर्क से होती है।

प्लुरा फेफड़ों और सीने के आंतरिक भाग का बाह्य-आवरण इस बीमारी का सबसे आम स्थान है, लेकिन यह पेरिटोनियम पेट का आवरण, हृदय, पेरिकार्डियम हृदय को घेरकर रखने वाला कवच या ट्युनिका वेजाइनलिस Tunica Vaginalis में भी हो सकती है।

मेसोथेलियोमा से ग्रस्त अधिकांश व्यक्ति या तो ऐसे स्थानों पर कार्यरत थे जहां श्वसन के दौरान एस्बेस्टस और कांच के कण उनके शरीर में प्रवेश कर गये या फिर वे अन्य तरीकों से एस्बेस्टस कणों और रेशों के संपर्क में आए. यह संभावना भी व्यक्त की जाती रही है कि एस्बेस्टस या कांच के साथ कार्य करने वाले किसी पारिवारिक सदस्य के कपड़े धोने के कारण भी किसी व्यक्ति में मेसोथेलियोमा विकसित होने का जोखिम उत्पन्न हो सकता है। फेफड़ों के कैंसर के विपरीत, मेसोथेलियोमा और धूम्रपान के बीच कोई संबंध नहीं है, लेकिन धूम्रपान के कारण एस्बेस्टस-प्रेरित अन्य कैंसरों का जोखिम अत्यधिक बढ़ जाता है। एस्बेस्टस के संपर्क में आने वाले लोग एस्बेस्टस संबंधी बीमारियों, मेसोथेलियोमा सहित, के लिये क्षतिपूर्ति हासिल करने हेतु अक्सर वकीलों की सहायता लेते रहे हैं। एस्बेस्टस फंड या कानूनी मुकदमों के माध्यम से मिलने वाला हर्जाना मेसोथेलियोमा में एक महत्वपूर्ण मुद्दा है एस्बेस्टस और कानून देखें.

मेसोथेलियोमा के लक्षणों में प्लुरल रिसाव फेफड़ों और सीने की दीवार के बीच द्रव या सीने में होने वाले दर्द के कारण सांस लेने में तकलीफ तथा सामान्य लक्षण, जैसे वजन में कमी आना, शामिल हैं। सीने के एक्स-रे तथा सीटी स्कैन CT Scan से इसके निदान का अनुमान किया जा सकता है और बायोप्सी ऊतकों के नमूने तथा सूक्ष्मदर्शी परीक्षण से इसकी पुष्टि हो सकती है। बायोप्सी लेने के लिये थोरैकोस्कोपी कैमरेयुक्त एक नली को सीने में डालना का प्रयोग किया जा सकता है। यह प्लुरल भाग जिसे प्लुरोडेसिस कहा जाता है को पोछने के लिये टैल्क Talc जैसे पदार्थों के प्रयोग की भी अनुमति देता है, जिससे और अधिक द्रव को एकत्रित होने व फेफड़ों पर दबाव डालने से रोका जा सके। कीमोथेरपी, रेडियेशन थेरपी और कभी-कभी शल्य चिकित्सा के द्वारा किये जाने वाले उपचार के बावजूद इस बीमारी का निदान बहुत कम ही हो पाता है। मेसोथेलियोमा की शीघ्र पहचान के लिये स्क्रीनिंग परीक्षणों के बारे में अनुसंधान जारी है।

                                     

1. संकेत व लक्षण

संभव है कि मेसोथेलियोमा के संकेत या लक्षण एस्बेस्टस के संपर्क में आने के बाद भी 20 से 50 वर्षों तक दिखाई न दें. प्लुरल स्पेस में द्रव के एकत्रित होने प्लुरल रिसाव के कारण सांस लेने में समस्या होना, खांसी और सीने में दर्द अक्सर प्लुरल मेसोथेलियोमा के लक्षण होते हैं।

पेरिटोनियल मेसोथेलियोमा के लक्षणों में वजन घटना और कैशेक्सिया Cachexia, जलोदर पेट में बनने वाला एक द्रव के कारण पेट में सूजन और दर्द शामिल हैं। पेरिटोनियल मेसोथेलियोमा के अन्य लक्षणों में आंतों में रूकावट, खून जमने में समस्या, रक्ताल्पता और बुखार शामिल हो सकते हैं। यदि कैंसर मेसोथेलियम से बाहर शरीर के अन्य भागों तक फैल गया हो, तो इसके लक्षणों में दर्द, निगलने में तकलीफ और गरदन या चेहरे पर सूजन आदि शामिल हो सकते हैं।

ये लक्षण मेसोथेलियोमा या अन्य, कम गंभीर स्थितियों के कारण उत्पन्न हुए हो सकते हैं।

प्लुरा को प्रभावित करने वाला मेसोथेलियोमा ये संकेत और लक्षण उत्पन्न कर सकता है:

  • सीने में दर्द
  • खांसी के कारण निकलने वाले बलगम द्रव में रक्त आना हीमोप्टाइसिस
  • घरघराहट, स्वर बैठना, या खांसी
  • फेफड़ों से रिसाव, या फेफड़ों के चारों ओर द्रव जमना
  • थकान या रक्ताल्पता
  • सांस लेने में तकलीफ

गंभीर मामलों में, व्यक्ति के शरीर में ट्युमर भी बन सकता है। व्यक्ति में न्यूमोथोरैक्स, या फेफड़े द्वारा कार्य बंद कर देने, की स्थिति भी उत्पन्न हो सकती है। रोग बढ़ सकता है और शरीर के अन्य भागों तक फैल सकता है।

पेट को प्रभावित करने वाले ट्युमर सामान्यतः तब तक कोई लक्षण उत्पन्न नहीं करते, जब तक कि वे बहुत बाद वाले चरण तक न पहुंच जाएं. लक्षणों में शामिल हैं:

  • वज़न घटाना
  • आंत के कार्यों में समस्या
  • पेट में कोई ढेर जमना
  • पेट दर्द
  • जलोदर या पेट में द्रव का असामान्य जमाव

रोग के गंभीर मामलों में, निम्नलिखित संकेत व लक्षण मौजूद हो सकते हैं:

  • रक्त शर्करा के स्तर में कमी
  • डिसेमिनेटेड इन्ट्रावैस्क्युलर कोएग्युलेशन, एक समस्या जिसके कारण शरीर के अनेक अंगों में भीषण रक्त-स्राव होता है
  • नसों में रक्त के थक्के जमना, जिनके कारण थ्रोम्बोफ्लेबाइटिस हो सकता है
  • पीलिया, अथवा आंखों और त्वचा में पीलापन
  • गंभीर जलोदर
  • पल्मनरी एम्बोली, या फेफड़ों की धमनियों में रक्त के थक्के बनना
  • फेफड़ों में रिसाव

सामान्यतः मेसोथेलियोमा अस्थियों, मस्तिष्क या अधिवृक्क ग्रंथि तक नहीं फैलता. फेफड़ों के ट्युमर सामान्यतः केवल फेफड़ों के एक ओर ही पाये जाते हैं।

                                     

2. कारण

एस्बेस्टस के साथ कार्य करना मेसोथेलियोमा के लिये प्रमुख जोखिम कारक है। संयुक्त राज्य अमरीका में, एस्बेस्टस असाध्य मेसोथेलियोमा का प्रमुख कारण है और इसे "निर्विवाद" रूप से मेसोथेलियोमा के विकास से जुड़ा हुआ माना जाता है। वस्तुतः एस्बेस्टस और मेसोथेलियोमा के बीच संबंध इतना अधिक गहरा है कि कई लोग मेसोथेलियोमा को एक "संकेत singal" या "पहरेदार sentinel" ट्युमर ही मानते हैं। अधिकांश मामलों में, एस्बेस्टस से संपर्क का इतिहास पाया जाता है। हालांकि, कुछ लोगों में एस्बेस्टस से किसी ज्ञात संपर्क के बिना भी मेसोथेलियोमा होने की जानकारी मिली है। दुर्लभ मामलों में, मेसोथेलियोमा को विकिरण चिकित्सा, इन्ट्राप्लुरल थोरियम डाइऑक्साइड थोरोट्रास्ट और अन्य रेशेदार सिलिकेट, जैसे एरियोनाइट, के अंतःश्वसन से जोड़कर भी देखा जाता रहा है। कुछ अध्ययन दर्शाते हैं कि सिमियन वाइरस एसवी40 SV40 मेसोथेलियोमा के विकास में एक सहायक कारक के रूप में कार्य कर रहा हो सकता है।

एस्बेस्टस प्राचीन काल में भी ज्ञात था, लेकिन उन्नीसवीं सदी के पूर्व तक इसे खानों से नहीं निकाला जाता था और व्यावसायिक रूप से इसका बड़े पैमाने पर उपयोग नहीं किया जाता था। द्वितीय विश्व-युद्ध के दौरान इसका प्रयोग बहुत अधिक बढ़ गया। सन 1940 के दशक के प्रारंभ से ही लाखों अमरीकी मजदूर एस्बेस्टस कणों के संपर्क में आ चुके थे। प्रारंभ में, एस्बेस्टस के संपर्क में आने के जोखिमों की जानकारी सार्वजनिक तौपर उपलब्ध नहीं थी। हालांकि, बाद में यह पाया गया कि जलपोत कारखानों, एस्बेस्टस की खानों और मिलों में काम करने वाले लोगों, एस्बेस्टस उत्पादों के उत्पादकों, ताप और निर्माण उद्योगों के मजदूरों और अन्य व्यवसाय करने वालों में मेसोथेलियोमा विकसित होने का जोखिम बहुत अधिक होता है। आज संयुक्त राज्य अमरीका के ऑक्युपेशनल सेफ्टी एन्ड हेल्थ एडमिनिस्ट्रेशन ओशा ने औपचारिक रूप से कहा है कि मेसोथेलियोमा के लिये कोई भी सीमा बहुत निचले स्तर पर होनी चाहिये और यह बात व्यापक तौपर स्वीकार की जाती है कि यदि ऐसी कोई सीमा मौजूद भी हो, तब भी वर्तमान में उसे परिमाणित नहीं किया जा सकता. अतः व्यावहारिक उद्देश्यों के लिये, एचएसई HSE यह मानती है कि कोई "सुरक्षित" सीमा अस्तित्व में नहीं है। अन्य लोगों ने भी यह पाया है कि ऐसी किसी सीमा की उपस्थिति का कोई प्रमाण मौजूद नहीं है, जिसके नीचे मेसोथेलियोमा का जोखिम न हो। ऐसा प्रतीत होता है कि दवा की खुराक और इसकी प्रतिक्रिया के बीच एक रेखीय संबंध है, जिसके अनुसार दवा की खुराक बढ़ाने पर बीमारी भी बढ़ती जाती है। इसके बावजूद, मेसोथेलियोमा को एस्बेस्टेस के संक्षिप्त, निम्न-स्तरीय या अप्रत्यक्ष संपर्क से जोड़ा जा सकता है। ऐसा प्रतीत होता है कि प्रभाव के लिये आवश्यक खुराक की मात्रा पल्मनरी एस्बेस्टॉसिस या फेफड़ों के कैंसर की तुलना में एस्बेस्टस-प्रेरित मेसोथेलियोमा के लिये कम होती है। पुनः एस्बेस्टस से संपर्क के लिये कोई सुरक्षित स्तर नहीं है क्योंकि यह मेसोथेलियोमा के बढ़े हुए जोखिम के साथ संबंधित है।

मेसोथेलियोमा उत्पन्न करने के लिये एस्बेस्टस से संपर्क की अवधि संक्षिप्त हो सकती है। उदाहरणार्थ, केवल 1-3 माह के संपर्क में भी मेसोथेलियोमा उत्पन्न होने के मामले लेखबद्ध किये गये हैं। एस्बेस्टस के साथ काम करने वाले लोग इसके संपर्क से जुड़े जोखिम को कर करने के लिये व्यक्तिगत सुरक्षात्मक उपकरण पहनते हैं।

विलंबता की अवधि, पहले संपर्क से लेकर रोग के आविर्भाव तक का समय, मेसोथेलियोमा के मामले में लंबी होती है। लगभग कभी भी यह पंद्रह वर्षों से कम नहीं होती, जबकि इसका अधिकतम स्तर 30-40 वर्ष है। व्यवसाय से संबंधित मेसोथेलियोमा के मामलों की एक समीक्षा में, विलंबिता अवधि का मध्यमान 32 वर्ष था। पेटो व अन्य Peto et al से प्राप्त डेटा के आधार पर, मेसोथेलियोमा का जोखिम पहले संपर्क से तीसरी या चौथी घात तक बढ़ता हुआ दिखाई देता है।

                                     

2.1. कारण परिवेशी संपर्क

यह पाया गया है कि जिन स्थानों पर एस्बेस्टस प्राकृतिक रूप से पाया जाता है, उनके आस-पास रहने वाले लोगों में मेसोथेलियोमा के मामले अधिक देखे जाते हैं। उदाहरणार्थ, केंद्रीय कैप्पाडोशिया, तुर्की में, तीन छोटे गांवों-तुज़कॉय Tuzköy, कराइन Karain और सारिहिदिर Sarıhıdır में होने वाली सभी मौतों में से 50% का कारण मेसोथेलियोमा था। प्रांरभ में, एरियोनाइट, एस्बेस्टस जैसे लक्षणों वाला एक जलसैकतिज खनिज, को इसका कारण माना गया था, हालांकि हाल ही में महामारीसंबंधी विस्तृत परीक्षण में यह पाया गया कि एरियोनाइट अधिकांशतः उन परिवारों में मेसोथेलियोमा का कारण बनता है, जिनमें इसकी आनुवांशिक प्रवृति हो। जल की आपूर्ति और खाद्य-पदार्थों में एस्बेस्टस रेशों की उपस्थिति के दस्तावेजों ने लंबी अवधि में, तथा अभी तक इन रेशों के संपर्क के बारे में अज्ञात सामान्य जनसंख्या पर इसके संभावित प्रभावों को लेकर चिंताएं बढ़ा दी हैं।

                                     

2.2. कारण व्यावसायिक

एस्बेस्टस के रेशों से संपर्क को बीसवीं सदी के प्रारंभ से ही एक व्यावसायिक स्वास्थ्य जोखिम के रूप में पहचाना जा चुका है। महामारी-संबंधी अनेक अध्ययनों ने एस्बेस्टस के व्यावसायिक संपर्क को फेफड़ों के आवरण पर जमने वाले प्लाक, फेफड़ों के स्थूलन के बहाव, एस्बेस्टॉसिस, फेफड़ों और कंठनली के कैंसर, जठरांत्रीय ट्युमर और फेफड़ों के आवरण तथा उदरावरण के असाध्य मेसोथेलियोमा से जोड़ा है। एस्बेस्टस का प्रयोग अनेक औद्योगिक उत्पादों में बड़े पैमाने पर किया जाता रहा है, जिनमें सीमेंट ब्रेक लाइनिंग, गैस्केट, छतों के तख्ते, फर्श से जुड़े उत्पाद, टेक्सटाइल और इन्सुलेशन शामिल हैं।

एस्बेस्टस का वाणिज्यिक उत्खनन सन 1945 और 1966 के बीच विटेनूम, वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया में हुआ। खदान में कार्यरत खनन-कर्मियों के एक सामूहिक अध्ययन के अनुसार हालांकि क्रोसिडोलाइट के संपर्क में आने के बाद, पहले 10 वर्षों में किसी की मृत्यु नहीं हुई थी, लेकिसन 1985 में ऐसी 80 मौतें हुईं, जिन्हें मेसोथेलियोमा से जोड़कर देखा जा सकता था। सन 1994 तक, वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया में 539 लोगों की मृत्यु मेसोथेलियोमा से होने की बात कही गई।



                                     

2.3. कारण पराव्यावसायिक द्वितीयक संपर्क

एस्बेस्टस मजदूरों के परिवारजनों व उनके साथ रहने वाले अन्य लोगों में मेसोथेलियोमा का और संभवतः एस्बेस्टस संबंधी अन्य बीमारियों का भी, जोखिम बढ़ जाता है। यह जोखिम एस्बेस्टस मजदूरों के कपड़ों और बालों पर लगकर उनके साथ घर आने वाली एस्बेस्टस धूल का परिणाम हो सकता है। परिवारजनों की एस्बेस्टस के रेशों के संपर्क में आने की संभावना को कम करने के लिये, अक्सर एस्बेस्टस श्रमिकों के लिये अपना कार्यस्थल छोड़ने से पूर्व नहाना और कपड़े बदलना आवश्यक होता है।

                                     

2.4. कारण इमारतों में एस्बेस्टस

एस्बेस्टस पर प्रतिबंध लगाये जाने के पूर्व सार्वजनिक और निजी दोनों ही परिसरों में प्रयुक्त अनेक इमारती सामग्रियों में एस्बेस्टस हो सकता है। मरम्मत का कार्य या डीआईवाय DIY गतिविधियां कर रहे लोग एस्बेस्टस के संपर्क में आ सकते हैं। यूके UK में, सन 1999 के अंत में क्राइसोटाइल एस्बेस्टस का प्रयोग प्रतिबंधित कर दिया गया था। सन 1985 के आसपास यूके UK में भूरे और नीले एस्बेस्टस पर प्रतिबंध लगा दिया गया। इन तिथियों से पहले निर्मित या नवीनीकृत इमारतों में एस्बेस्टस सामग्रियां हो सकती हैं।

                                     

3. रोग-निदान

मेसोथेलियोमा का निदान कर पाना अक्सर कठिन होता है क्योंकि इसके लक्षण अनेक अन्य बीमारियों के लक्षणों जैसे ही होते हैं। निदान की शुरुआत रोगी के चिकित्सीय इतिहास की समीक्षा के साथ होती है। एस्बेस्टस के संपर्क में आने का इतिहास मेसोथेलियोमा के लिये चिकित्सीय आशंका को बढ़ा सकता है। एक शारीरिक परीक्षण किया जाता है, जिसके बाद सीने का एक्स-रे और अक्सर फेफड़ों की कार्यक्षमता की जांच भी की जाती है। एक्स-रे फेफड़ों के आवरण की मोटाई बढ़ने की जानकारी दे सकता है, जो कि आमतौपर एस्बेस्टस से संपर्क के बाद देखी जाती है और मेसोथेलियोमा की आशंका को बढ़ा देती है। सामान्यतः एक सीटी CT या कैट में रखा जाता है।

                                     

4. छानबीन

एस्बेस्टस के संपर्क में आए लोगों की छानबीन के लिये एक वैश्विक प्रोटोकॉल पर सहमति बनी हुई है। छानबीन के लिये किये जाने परीक्षण पारंपरिक विधियों की तुलना में मेसोथेलियोमा का शीघ्र निदान कर सकते हैं और इस प्रकार मरीजों के बच पाने की संभावना को बढ़ाते हैं। सीरम ऑस्टियोपॉन्टिन का स्तर एस्बेस्टस के संपर्क में आने वाले लोगों में मेसोथेलियोमा की छानबीन करने के लिये उपयोगी हो सकता है। निदान में पाया गया है कि लगभग 75% मरीजों के सीरम में घुलनशील मेसोथेलाइन-संबंधी प्रोटीन का स्तर बढ़ जाता है और सुझाव दिया गया है कि यह छानबीन के लिये उपयोगी हो सकता है। चिकित्सकों ने मेसोमार्क की परख की जांच करना शुरु कर दिया है, जिसके द्वारा रोगी मेसोथेलियोमा कोशिकाओं द्वारा उत्सर्जित घुलनशील मेसोथेलिन-संबंधी प्रोटीन एसएमआरपी के स्तरों को मापा जाता है।

                                     

5. पैथोफिज़ियोलॉजी रोग के कारण उत्पन्न हुए क्रियात्मक परिवर्तन

मेसोथेलियम आयतफलक की तरह चपटी की गई कोशिकाओं की एक परत से मिलकर बना होता है, जो शरीर की सीरस गुहिकाओं serous cavities, जिनमें पेरिटोनियल, पेरिकार्डियल तथा प्लुरल गुहिकाएं शामिल हैं, की उपकला की रेखा का निर्माण करती हैं। फेफड़े के जीवितक Parenchyma में एस्बेस्टस के रेशों के एकत्र होने के परिणामस्वरूप आन्त्र फुफ्फुसावरण visceral pleura के भेदन में होता है, जहां से रेशों को इसके बाद फेफड़े की सतह तक पहुंच जाते हैं, जिसके कारण असाध्य मेसोथेलियल प्लाक विकसित हो जाता है। पेरोटोनियल मेसोथेलियोमा का कारण बनने वाली प्रक्रियाओं के बारे में अभी तक जानकारी प्राप्त नहीं हो सकी है, हालांकि यह प्रस्तावित किया गया है कि फेफड़ों में एकत्रित हो जाने वाले एस्बेस्टस रेशे लसीका तंत्र के माध्यम से उदर व अन्य संबंधित अंगों में पहुंच जाते हैं। इसके अतिरिक्त, एस्बेस्टस रेशों से दूषित बलगम को निगलने के बाद एस्बेस्टस रेशे आंत में एकत्रित हो सकते हैं।

यह देखा गया है कि एस्बेस्टस या अन्य खनिज रेशों से जुड़ा प्लुरल प्रदूषण कैंसर का कारण बनता है। एस्बेस्टस के लंबे पतले रेशे नीला एस्बेस्टस, एम्फिबोल रेशे "पंखदार रेशों" क्राइसोलाइट या सफेद एस्बेस्टस रेशे की तुलना में अधिक कैंसर के अधिक प्रभावी कारक होते हैं। हालांकि, अब इस बात के प्रमाण भी उपलब्ध हैं कि छोटे कण लंबे रेशों के बजाय अधिक घातक हो सकते हैं। वे हवा में निलंबित बने रहते हैं, जहां से वे सांस के साथ शरीर में प्रवेश कर सकते हैं और वे फेफड़ों में अधिक सरलता से तथा गहराई तक भेदन कर सकते हैं। नॉर्थ शोर-लॉन्ग आइलैण्ड ज्युइश हेल्थ सिस्टम में फेफड़ों संबंधी व गहन-चिकित्सा विभाग के प्रमुख, डॉ॰ एलन फीन ने कहा था कि "दुर्भाग्य से) के रूप में मिलता है, जिसमें, आगे एस्बेस्टस रेशों द्वारा क्षति के बद मेसोथेलियल कोशिकाओं का दीर्घकालिक उत्तेजन व प्रसरण शामिल हो सकता है।



                                     

6. उपचार

असाध्य मेसोथेलियोमा के लिये रोगनिदान अभी भी निराशाजनक बना हुआ है, हालांकि कीमोथेरपी के नए प्रकारों और बहुपद्धतिपरक उपचारों के कारण कुछ हद तक सुधार दिखाई दे रहा है। प्रारंभिक चरणों में असाध्य मेसोथेलियोमा के उपचार से रोगनिदान बेहतर होता है, लेकिन पूरी तरह ठीक हो जाने के मामले बहुत अधिक दुर्लभ हैं। असाध्यता के नैदानिक व्यवहापर अनेक कारकों का प्रभाव पड़ता है, जिनमें प्लुरल गुहिका की सतत मेसोथेलियल सतह, जो अपपर्णित कोशिकाओं के माध्यम से स्थानीय मेटास्टैसिस का समर्थन करती है, अंतःस्थ ऊतक व प्लुरल गुहिका के भीतर स्थित अन्य अंगों तक आक्रमण, तथा एस्बेस्टस से संपर्क और रोग के विकास के बीच अत्यधिक लंबा विलंबिता काल शामिल हैं। हिस्टोलॉजिकल उपप्रकार तथा मरीज की आयु व स्वास्थ्य की अवस्था भी रोगनिदान के पूर्वानुमान में सहायता करते हैं।

                                     

6.1. उपचार शल्य-चिकित्सा

शल्य-चिकित्सा, स्वयं में, निराशाजनक साबित हुई है। एक बड़ी श्रृंखला में, शल्य-चिकित्सा एक्स्ट्राप्लुरल न्यूमोनेक्टॉमी सहित के द्वारा उत्तरजीविता का मध्यमान केवल 11.7 माह था। हालांकि, विकिरण व कीमोथेरपी के साथ संयोजित किये जाने पर अनुसंधान परिवर्तित सफलता की ओर संकेत करते हैं ड्युक, 2008. शल्य-चिकित्सा के साथ बहुपद्धति उपचार के बारे में अधिक जानकारी के लिये नीचे देखें. एक प्लुरेक्टॉमी/डिकॉर्टीसेशन सबसे आम शल्य-चिकित्सा है, जिसमें सीने की आवरण-रेखा हटा दी जाती है। एक्स्ट्राप्लुरल न्यूमोनेक्टॉमी ईपीपी द्वारा सक्रियण के बाद एलएके LAK कोशिकाओं के प्रति अतिसंवेदनशील साबित हुईं. वस्तुतः आईएल-2 IL-2 विषाक्तता के अस्वीकार्य रूप से उच्च स्तरों तथा बुखार व दुर्बलता जैसे दुष्प्रभावों के कारण यह परीक्षण रोक दिया गया था। इसके बावजूद, इंटरफेरॉन अल्फा के साथ अन्य परीक्षण बहुत अधिक उत्साहजनक साबित हुए और इनमें 20% मरिजों ने ट्युमर की मात्रा में 50% से अधिक की कमी महसूस की तथा इसके दुष्प्रभाव भी न्यूनतम रहे।

                                     

6.2. उपचार तापीय इंट्राऑपरेटिव इंट्रापेरिटोनियल कीमोथेरपी

पॉल शुगरबेकर ने वॉशिंग्टन कैंसर इंस्टीट्यूट में तापीय इंट्राऑपरेटिव इंट्रापेरिटोनियल की कीमोथेरपी के नामक विधि विकसित की। शल्य-चिकित्सक यथासंभव अधिकांश ट्युमर हटा देता है और इसके बाद 40 और 48° सेल्सियस के बीच के तापमान पर गर्म किये गये एक कीमोथेरपी एजेंट द्वारा पेट में प्रत्यक्ष उपचार किया जाता है। यह द्रव 60 से 120 मिनटों तक भरकर रखा जाता है और फिर इसे बहा दिया जाता है।

यह तकनीक चयनित दवाओं की उच्च मात्रा के द्वारा उदर और श्रोणि सतहों में उपचार को सुविधाजनक बना देती है। कीमोथेरपी उपचार को गर्म करने से ऊतकों का भेदन करके दवाओं को भीतर भेजा जा सकता है। इसके अलावा, गर्म करने से सामान्य कोशिकाओं की तुलना में असाध्य कोशिकाओं को अधिक क्षति पहुंचती है।

इस तकनीक का प्रयोग असाध्य प्लुरल मेसोथेलियोमा से ग्रस्त मरीजों में भी किया जाता है।

                                     

6.3. उपचार बहुपद्धति उपचार

ठोस ट्युमर के उपचार से संबंधित सभी मानक विधियों-विकिरण, कीमोथेरपी व शल्य-चिकित्सा- का परीक्षण असाध्य प्लुरल मेसोथेलियोमा से ग्रस्त मरीजों में किया जाता रहा है। हालांकि, अपने आप में शल्य-चिकित्सा बहुत अधिक प्रभावी नहीं है, लेकिन सहायक कीमोथेरपी व विकिरण के संयोजन में शल्य-चिकित्सा त्रिपद्धति उपचार ने अनुकूल पूर्वाभासी कारकों वाले मरीजों में उत्तरजीविता को बहुत अधिक 3-14 वर्षों तक विस्तारित कर दिया है। हालांकि, बहुपद्धति उपचार के परीक्षण की अन्य बड़ी श्रृंखला ने उत्तरजीविता में केवल मध्यम सुधार उत्तरजीविता का मध्यमान 14.5 माह और केवल 29.6% मरीज ही 2 वर्षों तक जीवित रहे ही प्रदर्शित किया है। साइटोरिडक्टिव शल्य-चिकित्सा के द्वारा ट्युमर के ढेर को कम करना उत्तरजीविता को बढ़ाने का मुख्य उपाय है। दो प्रकार की शल्य-चिकित्सा विकसित की गई है: एक्स्ट्राप्लुरल न्यूमोनेक्टॉमी और प्लुरेक्टॉमी/डीकॉर्टिकेशन. इन ऑपरेशनों को करने के संकेत अद्वितीय हैं। ऑपरेशन का चयन मरीज के ट्युमर के आकापर निर्भर होता है। यह एक महत्वपूर्ण विचार है क्योंकि यह पहचाना जा चुका है कि ट्युमर की मात्रा मेसोथेलियोमा के लिये एक पूर्वाभासी कारक है। प्लुरेक्टॉमी/डीकॉर्टिकेशन में अंतःस्थ फेफड़े को छोड़ दिया जाता है और इसे बीमारी के प्रारंभिक चरण वाले मरीजों पर किया जाता है, जब इसका उद्देश्य केवल दर्द को कम करना नहीं, बल्कि समस्त दृश्य ट्युमर को हटाना मैक्रोस्कोपिक कम्पलीट रीसेक्शन हो। एक्स्ट्राप्लुरल न्यूमोनेक्टॉमी एक अधिक व्यापक ऑपरेशन है, जिसमें पार्श्विक तथा आंत्र फुफ्फुसावरणों, अंतःस्थ फेफड़े, इप्सिलैटरल मध्यपट और इप्सिलैटरल हृदयावरण को शल्य-क्रिया के द्वारा हटाया जाता है। यह ऑपरेशन मरीजों के उस उपसमूह के लिये बताया जाता है, जिनमें ट्युमर अधिक विकसित हो और जो न्यूमोनेक्टॉमी को सह सकते हों.



                                     

7. महामारी-विज्ञान

हालांकि ज्ञात मामलों की संख्या पिछले 20 वर्षों में बढ़ी है, लेकिन मेसोथेलियोमा अभी भी एक अपेक्षाकृत दुर्लभ प्रकार का कैंसर है। एक से दूसरे देश के बीच मामलों की दर में अंतर है और न्यूनतम दर ट्युनिशिया और मोरॉक्को में प्रति 1.000.000 में 1 से कम व ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया और बेल्जियम में सर्वाधिक: प्रति 1.000.000 में 30 प्रतिवर्ष है। तुलना के लिये, धूम्रपान के उच्च स्तरों वाली जनसंख्याओं में फेफड़ों के कैंसर के मामले प्रति 1.000.000 में 1.000 से अधिक हो सकते हैं। औद्योगिकीकृत पश्चिमी देशों में असाध्य मेसोथेलियोमा के मामलों की दर वर्तमान में 7 से 40 प्रति 1.000.000 है, जो कि पिछले कुछ दशकों में एस्बेस्टस के साथ जनसंख्या के संपर्क पर निर्भर करती है। ऐसा अनुमान लगाया गया है कि सन 2004 में संयुक्त राज्य अमरीका में 15 प्रति 1.000.000 के साथ संभवतः यह अपने उच्चतम स्तर पर थी। विश्व के अन्य भागों में भी इसके मामलों की संख्या बढ़ने की उम्मीद है। मेसोथेलियोमा महिलाओं की तुलना में पुरुषों में अधिक पाया जाता है और इसका खतरा उम्र के साथ-साथ बढ़ता जाता है, लेकिन पुरुषों या महिलाओं में से किसी को भी यह बीमारी किसी भी आयु में हो सकती है। कुल मेसोथेलियोमा में से लगभग 1/5 से 1/3 पेरिटोनियल होते हैं।

सन 1940 और 1979 के बीच, लगभग 27.5 मिलियन लोग संयुक्त राज्य अमरीका में व्यावसायिक रूप से एस्बेस्टस के संपर्क में आए. सन 1973 और 1984 के बीच, कॉकेशियाई पुरुषों में प्लुरल मेसोथेलियोमा के मामलों में 300% की वृद्धि हुई। सन 1980 से लेकर सन 1990 के दशक के अंत तक यूएसए USA में मेसोथेलियोमा से होने वाली मृत्यु की दर 2.000 प्रति वर्ष से बढ़कर 3.000 हो गई, जिसमें पुरुषों द्वारा इससे ग्रसित होने की संभावना महिलाओं की तुलना में चार गुना अधिक थी। संभव है कि ये दरें अचूक न हों क्योंकि हो सकता है कि मेसोथेलियोमा के कई मामलों का निदान गलत तरीके से फेफड़े के एडीनोकार्सीनोमा के रूप में कर दिया गया हो, जिसे मेसोथेलियोमा से अलग पहचान पाना कठिन होता है।

                                     

8.1. समाज व संस्कृति उल्लेखनीय मामले

हालांकि मेसोथेलियोमा दुर्लभ है, लेकिन इसके पीड़ितों में उल्लेखनीय लोग शामिल हैं।

  • रिचर्ड जे. हर्न्सटीन, मनोवैज्ञानिक तथा द बेल कर्व के सह-लेखक, सन 1994 में मृत्यु.
  • ऑलिम्पिक के स्वर्ण पदक विजेता और लंबे समय तक टोस्टमास्टर्स के कार्यकारी निदेशक टेरेन्स मैक्कान का 7 जून 2006 को डाना पॉइन्ट, कैलिफोर्निया स्थित अपने घर में मेसोथेलियोमा के कारण निधन हो गया।
  • मर्लिन ऑल्सेन, प्रो फुटबॉल हॉल ऑफ फेम में शामिल खिलाड़ी और टेलीविजन अभिनेता की 10 मार्च 2010 को मेसोथेलियोमा के कारण म्रृत्यु हो गई, जिसका निदासन 2009 में हुआ था।
  • हैमिल्टन जॉर्डन, अमरीकी राष्ट्रपि जिमी कार्टर के लिये चीऑफ स्टाफ और आजीवन कैंसर कार्यकर्ता, 2008 में मृत्यु हुई।
  • बिली वॉन, अमरीकी बैंडप्रमुख, सन 1991 में मृत्यु हुई।
  • 22 दिसम्बर 1979 को अभिनेता स्टीव मैक्क्वीन को पेरिटोनियल मेसोथेलियोमा होने की जानकारी प्राप्त हुई। उन्हें शल्य-चिकित्सा या कीमोथेरपी उपचार नहीं दिया गया क्योंकि चिकित्सकों को लगा कि कैंसर बहुत अधिक बढ़ चुका था। अंततः मैक्क्वीन ने मेक्सिको के चिकित्सालयों में वैकल्पिक उपचार लेना प्रारंभ किया। 7 नवम्बर 1980 को कैंसर की शल्य-चिकित्सा के बाद हृदयाघात से जुवारेज़, मेक्सिको में उनकी मृत्यु हो गई। संभवतः एक युवक के रूप में यू.एस. मरीन्स में कार्य करने के दौरान-उन दिनों जहाजों की पाइपों के आवरण के रूप में एस्बेस्टस का प्रयोग आम था-या ऑटोमोबाइल रेसिंग सूट मैक्क्वीन रेसिंग के एक उत्साही चालक व प्रशंसक थे में आवरण पदार्थ के रूप में एस्बेस्टस के प्रयोग के द्वारा वे इसके संपर्क में आए हों.
  • स्कॉटिश लेबर पार्टी के सांसद जॉन विलियम मैक्डॉगल का मेसोथेलियोमा से दो वर्षों तक लड़ने के बाद 13 अगस्त 2008 को निधन हो गया।
  • ब्रिटिश विज्ञान कथा लेखक माइकल जी. कोनी, जिन्होंने लगभग 100 कृतियों की रचना की थी, की मृत्यु भी सन 2005 में ही हुई थी।
  • ऑस्ट्रेलियाई नस्लवाद-विरोधी कार्यकर्ता बॉब बेलीयर का सन 2005 में निधन हो गया।
  • अमरीकी वास्तुशास्री पॉल रुडॉल्फ का सन 1997 में निधन हो गया।
  • अनुपचारित अस्वस्थता और दर्द की एक लंबी अवधि के बाद सन 2002 की शरद ॠतु में रॉक एन्ड रोल संगीतकाऔर गीतकार वॉरेन ज़ेवॉन के लिये यह निदान किया गया कि वे मेसोथेलियोमा से ग्रस्त हैं और उनका ऑपरेशन नहीं किया जा सकता. उपचारों, जिनके बारे में उनका विश्वास था कि वे उन्हें दुर्बल बना सकते हैं, को अस्वीकार करते हुए, ज़ेवॉन ने अपनी ऊर्जा अपने अंतिम एल्बम द विण्ड, उनकी छूटती हुई सांसों के बारे में बताने वाले गीत "कीप मी इन योर हार्ट" सहित, की रिलीज़ पर केंद्रित कर दी। 7 सितंबर 2003 को लॉस एंजल्स, कैलिफोर्निया में ज़ेवॉन का निधन हो गया।
  • मिकी मोस्ट, एक अंग्रेज़ रिकॉर्ड निर्माता, की सन 2003 में मेसथेलियोमा के कारण मृत्यु हो गई।
  • ऑस्ट्रेलियाई पत्रकाऔर समाचार-प्रस्तोता कैनबरा के पीटर लियोनार्ड ने 23 सितंबर 2008 को इस परिस्थिति के आगे घुटने टेक दिये.
  • सन 2007 में मेसोथेलियोमा के कारण प्रभावशाली आइरिश गायक-गीतकार क्रिस्टी हेनेसी की मृत्यु हो गई और उन्होंने अपने निधन से कई सप्ताहों पहले रोगनिदान को स्वीकार करने से कर्कशतापूर्वक इंकाकर दिया था। हेनेसी के मेसिथेलियोमा के लिये अपने जीवन के शुरुआती दिनों में उनके द्वारा लंदन के निर्माण-स्थलों पर कार्य करते हुए बिताये गये वर्षों को ज़िम्मेदार माना गया।
  • मैल्कॉम मैक्लेरेन, न्यूयॉर्क डॉल्स व सेक्स पिस्टल्स के पूर्व प्रबंधक जिनकी 8 अप्रैल 2010 को मृत्यु हो गई।
  • बर्नी बैंटन, ऑस्ट्रेलियाई मजदूरों के अधिकारों के लिये लड़नेवाले एक कार्यकर्ता, ने जेम्स हार्डी से मुआवजा पाने के लिये एक लंबी लड़ाई लड़ी, जिनकी कम्पनी के लिये कार्य करने के बाद वे मेसोथेलियोमा से ग्रस्त हो गए थे। उन्होंने दावा किया कि उनके द्वारा विद्युत-केंद्रों के लिये इन्सुलेशन पदार्थ बनाने का कार्य शुरु किये जाने के पूर्व से ही जेम्स हार्डी को एस्बेस्टस के खतरों की जानकारी थी। अंततः मेसोथेलियोमा ने उनके साथ-साथ ही उनके भाई व जेम्स हार्डी के सैकड़ों मजदूरों की ज़िंदगी छीन ली. जेम्स हार्डी ने बैंटन के साथ एक गुप्त समझौता किया, लेकिन तब उनका मेसोथेलियोमा अंतिम चरणों में पहुंच चुका था और उनके 48 घंटों से ज्यादा समय तक जीवित बच पाने की उम्मीद नहीं थी। सन 2007 में ऑस्ट्रेलिया के संघीय चुनाव में अपनी जीत के बाद आभार उदबोधन में बोलते हुए ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री केविन रुड ने बैंटन के लंबे संघर्ष का उल्लेख किया था।
  • संयुक्त राज्य अमरीका के कांग्रेस सदस्य ब्रुस वेंटो की सन 2000 में मेसोथेलियोमा के कारण मृत्यु हो गई। उनकी पत्नी द्वारा प्रतिवर्ष एमएआरएफ MARF परिसंवाद में ऐसे व्यक्तियों या संस्थाओं को ब्रुस वेंटो पुरस्कार दिया जाता है, जिन्होंने मेसोथेलियोमा के क्षेत्र में अनुसंधान और इसकी हिमायत करने के लिये सर्वाधिक समर्थन दिया हो।
  • अमरीकी फिल्म व टेलीविजन अभिनेता पॉल ग्लीसन, जो संभवतः सन 1985 की फिल्म द ब्रेकफास्ट क्लब में प्रिंसिपल रिचर्ड वर्नन की भूमिका के सबसे अधिक प्रसिद्ध हैं, का निधन सन 2006 में हुआ।
  • सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट लैब्स के संस्थापकों में से एक, ऑरेकल कॉर्पोरेशन के अग्रदूत बॉब माइनर की सन 1994 में मेसोथेलियोमा के कारण मृत्यु हो गई।
                                     

8.2. समाज व संस्कृति मेसोथेलियोमा के साथ कुछ समय तक जीवित रहने वाले उल्लेखनीय लोग

हालांकि इस बीमारी के साथ उत्तरजीविता की अवधि विशिष्टतः सीमित होती है, लेकिन कुछ उत्तजीवी लोग उल्लेखनीय हैं। जुलाई 1982 में स्टीफन जे गॉउल्ड को पेरिटोनियल मेसोथेलियोमा होने का निदान किया गया। अपने निदान के बाद गॉउल्ड ने डिस्कवर पत्रिका के लिये लिखा "मध्यरेखा संदेश नहीं है Median Isnt the Message", जिसमें उन्होंने तर्क दिया की मध्यरेखा पर उत्तरजीविता जैसे सांख्यिकीय आंकड़े केवल उपयोगी संक्षेपण हैं, भाग्य नहीं. गॉउल्ड इसके बाद 20 वर्षों तक जीवित रहे और अंततः उनकी मृत्यु मेटास्टैटिक एडीनोकार्सिनोमा के कारण हुई, मेसोथेलियोमा के कारण नहीं. जुलाई 1997 में लेखक पॉल क्राउस को पेरिटोनियल मेसोथेलियोमा होने की जानकारी मिली। उनके लिये एक वर्ष से भी कम समय तक जीवित रह पाने का पूर्वानुमान किया गया था और अनेक प्रकार के पूरक तौर-तरीकों का प्रयोग किया गया। वह रोगनिदान के पूर्वानुमान की अपनी अवधि को पूरा कर चुकने के बाद आज भी जीवित हैं और उन्होंने अपने अनुभव के बारे में "सर्वाइविंग मेसोथेलियोमा एन्ड अदर कैंसर्स: अ पेशंटस गाइड Surviving Mesothelioma and Other Cancers: A Patients Guide" नामक पुस्तक लिखी, जिसमें उन्होंने उपचाऔर उस निर्णय प्रक्रिया के बारे में अपने विचार प्रस्तुत किये हैं, जिसके आधापर वे अनुकलनात्मक औषधि लेने के निर्णय पर पहुंचे।

                                     

8.3. समाज व संस्कृति कानूनी मुद्दे

एस्बेस्टस निर्माताओं के खिलाफ पहले कानूनी मुकदमे सन 1929 में दायर किये गये। तब से, एस्बेस्टस, एस्बेस्टॉसिस व मेसोथेलियोमा के बीच संपर्क की जानकारी मिलने के बाद कुछ रिपोर्टों में इसे सन 1898 से ही ज्ञात बताया गया है एस्बेस्टस निर्माताओं और नियोक्ताओं के खिलाफ सुरक्षा मानकों के क्रियान्वयन को अनदेखा करने के कारण अनेक कानूनी मुकदमे दायर किये जा चुके हैं। इन मुकदमों और इनसे प्रभावित लोगों की कुल संख्या के परिणामस्वरूप जवाबदेही करोड़ों डॉलर तक पहुंच चुकी है। मुआवजे की राशि के आवंटन की मात्रा और विधि अनेक अदालती मामलों का स्रोत रही है, ये यूनाइटेड स्टेट्स सुप्रीम कोर्ट तक भी पहुंचे हैं, तथा सरकार वर्तमान व आगामी मामलों को निपटाने का प्रयास कर रही है। हालांकि, आज तक यूएस कांग्रेस इसमें शामिल नहीं हुई है और एस्बेस्टस के मुआवजे का संचालन करने वाला कोई संघीय कानून नहीं है।

इतिहास

एस्बेस्टस निर्माताओं के खिलाफ पहला कानूनी मुकदमा सन 1929 में लड़ा गया। दोनों पक्षों ने उस मुकदमे में समझौता कर लिया और समझौते के एक भाग के रूप में वकील मामलों को आगे न लड़ने पर सहमत हुए. सन 1960 में, वैग्नेर व अन्य Wagner et al. द्वारा प्रकाशित एक लेख मेसोथेलियोमा को एस्बेस्टस के संपर्क के कारण उत्पन्न होने वाले रोग के रूप में स्थापित करने वाला पहला लेख था। इस लेख में 30 से भी ज्यादा ऐसे लोगों के मामलों का उल्लेख किया गया था, जो दक्षिण अफ्रीका में मेसोथेलियोमा से ग्रस्त हो गये थे। कुछ मामलों में संपर्क क्षणिक थे और कुछ खान मजदूर थे। उन्नत सूक्ष्मदर्शी तकनीकों के प्रयोग से पूर्व, अक्सर असाध्य मेसोथेलियोमा का निदान फेफड़े के कैंसर के एक भिन्न प्रकार के रूप में किया जाता था। सन 1962 में, मैक्नल्टी ने एक ऑस्ट्रेलियाई एस्बेस्टस श्रमिक में असाध्य मेसोथेलियोमा के पहले नैदानिक मामले की जानकारी दी। उस श्रमिक ने सन 1948 से लेकर 1950 तक वाइटेनूम में एस्बेस्टस खदान में मिल पर कार्य किया था।

वाइटेनूम नगर में, एस्बेस्टस-युक्त खान अवशिष्ट का प्रयोग विद्यालयों के प्रांगण व खेल के मैदानों को ढंकने में किया जाता था। सन 1965 में, ब्रिटिश जर्नल ऑफ इंडस्ट्रियल मेडिसिन में प्रकाशित एक लेख ने यह स्थापित किया कि एस्बेस्टस कारखानों और खदानों के आस-पास रहने वाले, लेकिन उनमें काम न करने वाले लोगों को मेसोथेलियोमा हो गया था।

सन 1943 में, इस बात के प्रमाण के बावजूद कि एस्बेस्टस खनन और मिलिंग से जुड़ी धूल एस्बेस्टस-संबंधी रोग उत्पन्न करती है, वाइटेनूम में खनन की शुरुआत हुई और यह सन 1966 तक जारी रही. सन 1974 में, नीले एस्बेस्टस के खतरों की पहली सार्वजनिक चेतावनियां "इस धिस किलर इन योर होम? Is this Killer in Your Home?" शीर्षक वाली आवरण कथा में ऑस्ट्रेलिया की बुलेटिन पत्रिका में प्रकाशित की गईं. सन 1978 में, हेल्थ डिपार्टमेंट द्वारा प्रकाशित एक पुस्तिका "द हेल्थ हैज़ार्ड ऐट वाइटेनूम The Health Hazard at Wittenoom", जिसमें हवा के नमूनों के परिणाम और विश्वव्यापी चिकित्सा जानकारी की एक समीक्षा थी, के प्रकाशन के बाद वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया की सरकार ने विटेनूम नगर को हटाने का निश्चय किया।

सन 1979 तक, वाइटेनूम से जुड़ी लापरवाही के लिये पहली याचिका सीएसआर CSR व इसकी सहायक कंपनी एबीए ABA के खिलाफ जारी की गईं थीं और वाइटेनूम के पीड़ितों का प्रतिनिधित्व करने के लिये एस्बेस्टस डीसीज़ सोसाइटी Asbestos Diseases Society की स्थापना की गई।

लीड्स, इंग्लैंड में, आर्मली एस्बेस्टस हादसे में टर्नर एंड नेवॉल के खिलाफ अनेक अदालती मुकदमे शामिल थे, जिनमें मेसोथेलियोमा से पीड़ित स्थानीय निवासियों ने कंपनी के कारखाने से होने वाले एस्बेस्टस प्रदूषण के लिये मुआवजे की मांग की थी। एक उल्लेखनीय मामला, जून हैन्कॉक का है, जो सन 1993 में इस बीमारी से ग्रस्त हुए और सन 1997 में उनकी मृत्यु हो गई।

                                     
  • ब र क ज न क क रस न म भ कहत ह प ल र स उत पन न ह न व ल क सर क म स थ ल य म कहत ह फ फड क क सर क स थल न तर बह त त ज ह त ह य न यह बह त
  • फ फड क क सर प द करन क सहक र य श लत व ल प रभ व ह त ह एसब स टस म स थ ल य म कह ज न व ल फ फ फ स वरण क क सर क क रण बनत ह ज क फ फड क क सर

यूजर्स ने सर्च भी किया:

सथलयम, मेसोथेलियोमा, आयरिश संस्कृति. मेसोथेलियोमा,

...

शब्दकोश

अनुवाद

Drishti IAS Hindi – Telegram.

निम्नलिखित में कौन सी बीमारी से कोयले की खान में काम करने वाले मजदूरों की उम्र कम हो जाती है और उस बीमारी को ब्लैक लंग्स बीमारी कहा जाता है? मेसोथेलियोमा. Riya malviya Lookchup 1179852470. बता दें कि मेसोथेलियोमा एक तरह का कैंसर होता है जो ऊतक, फेफड़ों, पेट, दिल और शरीर के अन्य अंगों पर प्रभाव डालता है कंपनी के 120 सालों के इतिहास में बेबी पाउडर में एसबेस्टस मिला होने के कारण मेसोथेलियोमा होने का यह पहला. Cancer by using Johnson and Johnson Powder compensation of. सबसे अच्छा डॉक्टरों से इसराइल में मेसोथेलियोमा के उपचार। कैंसर के निदान और व्यक्तिगत उपचार योजना। सभी इसराइल और कम कीमतों में उपचार के लाभों।. Asbestos की ताज़ा ख़बर, Asbestos ब्रेकिंग न्यूज़ in. मेसोथेलियोमा. घातक कैंसर का एक दुर्लभ प्रकार है मेसोथेलियोमा. आलेख घातक कैंसर का एक दुर्लभ प्रकार है मेसोथेलियोमा. मेसोथेलियोमा Mesothelioma, अधिक स्पष्ट रूप से असाध्य मेसोथेलियोमा Malignant Mesothelioma, एक दुर्लभ प्रकार का कैंसर है.


असाध्य Meaning in English TheWise.

विशेषज्ञों द्वारा सुझागए अनुसार धूम्रपान करने वालों को मीसोथेलियोमा के प्रति अधिक संवेदनशील माना जाता है। मेसोथेलियोमा के प्रकार. प्लेयरल मेसोथेलियोमा यह सबसे सामान्य है। इस प्रकार से 70% से अधिक लोग पीड़ित हैं। यह फेफड़ों पर. Johnson and johnson company lost 7th case, company awarded 780. मेसोथेलियोमा. MESOTHELIOMA. हाल ही में जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी पर आरोप लगाया गया है कि इसके बेबी पाउडर Talcum Powder में एस्बेस्टस होता है जो एक प्रकार के दुर्लभ कैंसर ​मेसोथेलियोमा MESOTHELIOMA का कारण बन सकता है। टेल्कम. जॉन्सन एंड जॉन्सन बेबी पाउडर के 6.610 केस दर्ज, फिर. Information provided about मेसोथेलियोमा Mesotheliyoma. मेसोथेलियोमा Mesotheliyoma meaning in English इंग्लिश मे मीनिंग is MESOTHELIOMA मेसोथेलियोमा ka matlab english me MESOTHELIOMA hai. Get meaning and translation of Mesotheliyoma in English language with.


Agbestos in Johnson & Johnson Baby Powder: company known it.

अधिक मात्रा में एसबेस्टोस रेशे साँस द्वारा अन्दर खींचने से फेफड़ों का कैंसर, मेसोथेलियोमा छाती और पेट की परतों का कैंसर और एसबेस्टोसिस फेफड़ों में स्थायी दाग बनना जिससे मृत्यु हो सकती है बीमारियाँ हो सकती हैं।. Punjab News In Hindi Jalandhar News the risk of cancer from. निमोनेक्टॉमी फेफड़ों को निकालने के लिए एक चिकित्सकीय शब्द है। यह एक सर्जिकल प्रकिया है जो पूरी तरह स्वस्थ या ट्यूमर लंग टिश्यू को हटाने का काम करती है और लंग या पल्यूरल मेसोथेलियोमा कैंसर के मामले में, मैलिग्नेंट सेल्स को शरीर के. फुफ्फुस का मेसोथेलियोमा ILive पर स्वास्थ्य के. इसके अलावा छतों व टाइल्स जैसी निर्माण सामग्री में प्रयुक्त एस्बेस्टस और ग्लास फाइबर, रॉक वूल, सिरेमिक फाइबर में उपस्थित फाइबर्स से फेफड़ों का कैंसर और मेसोथेलियोमा हो सकता है। लैन्सेट के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, 2015. पेमेट्रेक्स्ड Pemetrexed in Hindi हिंदी में दवा. निम्नलिखित में कौन सी बीमारी से कोयले की खान में काम करने वाले मजदूरों की उम्र कम हो जाती है और उस बीमारी को ब्लैक लंग्स बीमारी कहा जाता है? इनमें से कोई.





जॉन्सन एंड जॉन्सन को फिर लगा बड़ा झटका Indias.

कैंसर और मेसोथेलियोमा के विकास का जोखिम उस व्यक्ति में अधिक है, जो एस्बेस्टोस के साथ दोहराया जोखिम है। 5. पिछले फेफड़ों की बीमारी. फेफड़े के रोग, जैसे कि तपेदिक, और पुरानी प्रतिरोधी फुफ्फुसीय रोग सीओपीडी, पुरानी ब्रोंकाइटिस और. जॉनसन बेबी पाउडर को अमेरिकी कोर्ट ने दिया झटका. मेसोथेलियोमा Mesothelioma, अधिक स्पष्ट रूप से असाध्य मेसोथेलियोमा Malignant Mesothelioma, एक दुर्लभ प्रकार का कैंसर है, जो शरीर के अनेक आंतरिक अंगों को ढंककर रखनेवाली सुरक्षात्मक परत, मेसोथेलियम, से उत्पन्न होता है। सामान्यतः यह बीमारी. Environment GK In Hindi MCQs 1 hindigk. एस्बेस्टस एक ज्ञात कार्सिनोजेन है जिसे घातक मेसोथेलियोमा से जोड़ा गया है। इससे कैंसर का खतरा बढ़ता है​। यह कदम 130 साल से अधिक पुराने अमेरिकी स्वास्थ्य सेवा कंपनी Johnson & Johnson के लिए सबसे बड़ा झटका है, जिसमें बेबी पाउडर,. अनटाइटल्ड BLK Hospital. अधिक मात्रा में एसबेस्टोस रेशे साँस द्वारा अन्दर खींचने से फेफड़ों का कैंसर, मेसोथेलियोमा छाती और पेट की परतों का कैंसर और एसबेस्टोसिस फेफड़ों में स्थायी दाग बनना जिससे मृत्यु हो सकती है बीमारियाँ हो सकती हैं। Следующая Войти Настройки.


Johnson And Johnson Baby Powder Lawsuit US Woman Wins.

पेक्सोट्रा इन्जेक्शन के मुख्य इस्तेमाल. नॉन स्माल सेल लंग कैंसर मैलिग्नेंट प्ल्यूरल मेसोथेलियोमा. पेक्सोट्रा इन्जेक्शन के साइड इफेक्ट. कॉमन. मिचली आना उल्टी फैरिन्जाइटिस भूख में कमी मुंह में घाव और सूजन बाल झड़ना. Mesothelioma cancer is rare cancer and hindugurugoyal. जॉन्सन एंड जॉन्सन कंपनी को ग्राहक को 760 करोड़ रुपए का मुआवजा देना होगा। ये आदेश अमेरिका ने एक कोर्ट ने दिया है। आदेश के मुताबिक, कंपनी के एक प्रोडक्ट के चलते एक अमेरिकी संपत्ति को मेसोथेलियोमा बीमारी से जूंझना पड़ रहा है।. जॉन्सन एंड जॉन्सन के इस्तेमाल से दंपत्ति हुई. मेसोथेलियोमा रोग Mesothelioma Disease. On: January 28, 2020. In: SCIENCE & TECHNOLOGY News. Mesothelioma Disease. जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी के खिलाफ आरोप लगागए हैं कि इसके बेबी पाउडर ​talcum powder में एस्बेस्टस होता है जो एक प्रकार का दुर्लभ कैंसर. जॉन्सन ऐंड जॉन्सन कंपनी इस शख्स को देगी SSE NEWS. 2017 में उन्हें मेसोथेलियोमा एस्बेस्टस से होने वाला कैंसर​ से पीडि़त होने का पता चला। सात जनवरी को शुरू हुए इस नौ सप्ताह के मुकदमे में दोनों पक्षों की ओर से करीब दर्जनभर विशेषज्ञों की गवाही हुई। फैसला सुनाने से पहले ज्यूरी.


जॉन्सन एंड जॉन्सन के प्रोडक्ट्स से कैंसर का ख़तरा!.

वह सिर्फ जानना चाहती थी क्यों वह जानती थी कि उसका कैंसर, मेसोथेलियोमा, 15 दिसम्बर 2018, AM. Read More: Asbestos Baby Powder Jones Industrial Average Johnson Johnson​जॉनसनबेबी पाउडरएजबेस्‍टॉसदशककंपनीरिपोर्ट asbestos,Baby Powder. जॉन्सन बेबी पाउडर से कैंसर 7वां केस भी हारी कंपनी. सामान्यतः असाध्य मेसोथेलियोमा के निदान की पुष्टि करने के लिये एक बायोप्सी आवश्यक होती है संदर्भ Reference ने एक ऑस्ट्रेलियाई एस्बेस्टस श्रमिक में असाध्य मेसोथेलियोमा के पहले नैदानिक मामले की जानकारी दी संदर्भ Reference ऐसा​. Asadhy Meaning in English असाध्य का अंग्रेजी में मतलब. दरअसल कंपनी के उपर न्यूजर्सी के 46 वर्षीय इन्वेस्टमेंट बैंकर स्टीफन लैंजो और उनकी पत्नी केंड्रा ने कंपनी पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनके प्रोडक्ट से उन्हें मेसोथेलियोमा हुआ है. कंपनी को120 साल के इतिहास में इस तरह के मामला से.


जॉनसन बेबी पाउडर से कैसर होने का खतरा, ग्राहक को.

बता दें कि मेसोथेलियोमा एक तरह का कैंसर होता है जो ऊतक, फेफड़ों, पेट, दिल और शरीर के अन्य अंगों पर प्रभाव डालता है। कंपनी के 120 सालों के इतिहास में बेबी पाउडर में एसबेस्टस मिला होने के कारण मेसोथेलियोमा होने का यह पहला. एस्बेस्टोस फेफड़े के कैंसर के तथ्य जो आपको जानना. General knowledge for Scholars ने नई फ़ोटो जोड़ी. ज़ुपेमेड 100 एमजी इन्जेक्शन: देखें उपयोग 1mg.com. सेहत पर इनके कई तरह के दुष्प्रभाव होते हैं. इसके अलावा छतों और टाइल्स जैसी निर्माण सामग्री में प्रयुक्त एस्बेस्टस और ग्लास फाइबर, रॉक वूल, सिरेमिक फाइबर में उपस्थित फाइबर्स से फेफड़ों का कैंसर और मेसोथेलियोमा हो सकता है. प्रीलिम्स फैक्ट्स 29 Jan, 2020 Drishti IAS. पेमेट्रेक्स्ड का उपयोग नॉन छोटे सेल फेफड़ों के कैंसर और मेसोथेलियोमा फेफड़ों या छाती में होने वाले अन्य प्रकार के कैंसर के इलाज के लिए किया जाता है, जब अन्य दवाएं काम करने में असफल होती हैं। जो मरीज पेमेट्रेक्स्ड ले रहे हैं उन्हें.


प्रदूषण से बढ़ती हैं एलर्जी, जानें उपाए Saras Salil.

आईएएस प्री क्विज. 1. मेसोथेलियोमा के सम्बन्ध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए। यह कैंसर का एक आक्रामक और घातक रूप है। मेसोथेलियोमा जो ऊतक की पतली परत में होता है और आन्तरिक अंगों के अधिकांश हिस्से को कवर करता है।. 6.610 Cases Registered Against Johnson & Johnson Company In. बेबी पाउडर बनाने वाली एक कंपनी पर आरोप लगाया कि बेबी टैल्कम पाउडर के इस्तेमाल से उन्हें मेसोथेलियोमा हो गया नई दिल्ली। लॉस एंजेलिस की जूरी अदालत में 71 साल की नैन्‍सी कैबिबि को बड़ी जीत मिली है। बाजार में कई तरीके के. इसराइल में मेसोथेलियोमा उपचार, कीमत in. इसराइल में मेसोथेलियोमा उपचार सबसे अच्छा डॉक्टरों Assuta अस्पताल की देखरेख में जगह लेता है। विस्तृत निदान और उपचार योजना जल्दी से कैंसर से छुटकारा पाने में मदद मिलेगी।. बेबी पाउडर से हुआ कैंसर, कंपनी महिला को देगी 2 अरब. मेसोथेलियोमा कैंसर दुर्लभ कैंसर है और अंधविश्वास मेसोथेलियोमा कैंसर से अधिक खतरनाक है, इसलिए अंधविश्वास के लिए कोई इलाज नहीं है। मेसोथेलियोमा कैंसर के लिए, मेसोथेलियोमा लॉ फर्म, मेसोथेलियोमा कीवर्ड मेसोथेलियोमा. पेक्सोट्रा 500 एमजी इन्जेक्शन: उपयोग, साइड इफ़ेक्ट. फुफ्फुस का मेसोथेलियोमा फुफ्फुस का एकमात्र ज्ञात रोग है​, लगभग सभी मामलों में मेसोथेलियोमा एस्बेस्टोस के संपर्क के कारण होता है।.


जॉनसन एंड जॉनसन पाउडर के इस्तेमाल से कैंसर, महिला.

52 साल की डार्लिन कोकर को कैंसर था और वह जानती थी कि वह मर रही थी. लेकिन उसे यह खतरनाक कैंसर कैसे हुआ वह सिर्फ उसका कारण जानना चाहती थी? वह जानती थी कि उसका कैंसर जिसे मेसोथेलियोमा कहा जाता है उसके फेफड़ों और अन्य अंगों के आस पास. अब जॉन्सन एंड जॉन्सन बेबी पाउडर से बीमारी के 6.610. बता दें कि कुछ रिसर्चों में इस बात के दावें किये गए थे कि जॉन्सन एंड जॉन्सन कंपनी के उत्पादों के इस्तेमाल से मेसोथेलियोमा नाम का कैंसर होता है, जो ऊतक, फेफड़ों, पेट, दिल और अन्य अंगों को प्रभावित करता है। Johnson & Johnson. मेसोथेलियोमा Mesothelioma in Hindi हिंदी, लक्षण. इसके अलावा छतों व टाइल्स जैसी निर्माण सामग्री में प्रयुक्त एस्बेस्टस और ग्लास फाइबर, रॉक वूल, सिरेमिक फाइबर में उपस्थित फाइबर्स से फेफड़ों का कैंसर और मेसोथेलियोमा हो सकता है. लैन्सेट के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, 2015.





Now Showing Us How Bad Air Pollution Is, Right At Our Homes.

ये अस्थमा, मेसोथेलियोमा, कैंसर और विभिन्न त्वचा रोगों जैसे गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है। यह सिंथेटिक पेंट पर्यावरण के लिए भी बहुत हानिकारक हैं। सिर्फ ये ही नहीं, सिंथेटिक पेंट में मौजूद वीओसी, सीसा आदि वायु की. General knowledge for Scholars ने नई General knowledge for. जितने ऊतक ट्यूमर से प्रभावित हैं, उन्हें निकाल दिया पेरिटोनीई, मेसोथेलियोमा, आंत व मलाशय के कैंसर. जाए। पेट में जो ट्यूमर डिपॉजिट्स होते हैं उन्हें निकालने अपेंडिक्स का कैंसर, गैस्ट्रिक कैंसर, अंडाश्य का कैंसर. के लिए साइटोरिडक्टिव. अमेरिका: Johnson ने वापस मंगाए बेबी पाउडर, कुछ. इन के अंतर्गत अस्थमा अटैक, क्रोनिक औब्सट्रैक्टिव पल्मोनरी डिजीज सीओपीडी, लंग्स का कम काम करना, पल्मोनरी कैंसर, एक खास तरह का लंग कैंसर मेसोथेलियोमा जिस का संबंध आमतौपर एस्बेस्टोस की चपेट में आने से है आमतौपर इस की. Learn About Silent Killer Cancer जानिए साइलेंट किलर. यह प्रक्रिया पेट में ट्यूमर का इलाज करती है जो कि बृहदान्त्र​, गैस्ट्रिक, डिम्बग्रंथि, अपेंडिक्स ट्यूमर, मेसोथेलियोमा और अन्य कैंसर से उस स्टेम को अस्तर करती है। उत्तराखंड में यह पहली मशीन होगी। करीब 18 करोड़ रुपये की लागत की.


6 February 2020 HINDI DAILY QUIZ Career IAS.

प्रतिरक्षा कमी Immune Deficiency, क्रोनिक ग्रैनुलोमैटस विकार Chronic Granulomatus Disorder, हीमोफिलिया Hemophilia, अंधापन Blindness, कैंसर, न्यूरोडीजेनेरेटिव रोग ​Neurodegenerative Diseases, मेसोथेलियोमा Mesothelioma आदि ऐसे रोग हैं. निम्नलिखित में कौन स GK in Hindi सामान्य ज्ञान. डार्लिन कोकर जानती थी कि वह मर रही थी। वह सिर्फ जानना चाहती थी क्यों? वह जानती थी कि उसका कैंसर, मेसोथेलियोमा, उसके फेफड़ों और अन्य अंगों के आस पास पहुंच गया था। यह जितना दुर्लभ था उतना ही घातक भी था। वह जानती थी कि यह. Types Of Domestic Pollution And Health Effect चूल्हे के. सामान्यतः असाध्य मेसोथेलियोमा के निदान की पुष्टि करने के लिये एक बायोप्सी आवश्यक होती है। ठोस ट्युमर के उपचार से संबंधित सभी मानक विधियों विकिरण, कीमोथेरपी व शल्य ​चिकित्सा का परीक्षण असाध्य प्लुरल मेसोथेलियोमा से ग्रस्त. घातक कैंसर का एक दुर्लभ प्रकार है मेसोथेलियोमा. कई लोग मेसोथेलियोमा और फेफड़ों के कैंसर को भ्रमित करते हैं, क्योंकि अधिकांश मेसोथेलियोमा के मामले फेफड़ों को प्रभावित करते हैं। लेकिन घातक मेसोथेलियोमा तब विकसित होता है जब एस्बेस्टोस फाइबर फ़ाइबर और मेसोथेलियम.


मीसोथेलियोमा के लिए जड़ी बूटियाँ S.

न्यूजर्सी के 46 वर्षीय इन्वेस्टमेंट बैंकर स्टीफन लैंजो और उनकी पत्नी केंड्रा ने कंपनी पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनके प्रोडक्ट से उन्हें मेसोथेलियोमा हुआ है। दोनों ने कंपनी से मुआवजे की मांग की थी। दंपत्ति का कहना था कि. Hindi: GK Questions and Answers on Types of Cancer Jagran Josh. अधिक मात्रा में एसबेस्टोस रेशे साँस द्वारा अन्दर खींचने से फेफड़ों का कैंसर, मेसोथेलियोमा छाती और पेट की परतों का कैंसर और एसबेस्टोसिस फेफड़ों में स्थायी दाग बनना जिससे मृत्यु हो सकती है बीमारियाँ हो सकती हैं। Следующая Войти Настройки Конфиденциальность Условия. इसराइल में मेसोथेलियोमा उपचार, कीमत Assuta. न्यूजर्सी के 46 साल के इन्वेस्टमेंट बैंकर स्टीफन लैंजो और उनकी पत्नी केंड्रा ने जॉन्सन एंड जॉन्सन के बेबी पाउडर से मेसोथेलियोमा होने का दावा करते हुए मुआवजा मांगा था। इस साल जनवरी में दर्ज केस में लैंजो ने आरोप लगाए थे कि. मेसोथेलियोमा HinKhoj Dictionary. आपको बता दें, न्यूजर्सी के 46 साल के इन्वेस्टमेंट बैंकर स्टीफन लैंजो और उनकी पत्नी ने कंपनी के प्रोटेक्ट से मेसोथेलियोमा होने का दावा करते हुए मुआवजे की मांग की थी। मेसोथेलियोमा एक तरह का कैंसर है जो टिशू, फेफड़ों, पेट,.


...
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →