Топ-100 ⓘ हरिसिंह देव कर्नाट वंश के राजा थें, जिसने आधुनिक भारत और आधु
पिछला

ⓘ हरिसिंह देव कर्नाट वंश के राजा थें, जिसने आधुनिक भारत और आधुनिक नेपाल के मिथिला क्षेत्पर शासन किया था। हरिसिंह देव ने 1295-1324 ई तक शासन किया था। वह मिथिला के ..


                                     

ⓘ हरिसिंह देव

हरिसिंह देव कर्नाट वंश के राजा थें, जिसने आधुनिक भारत और आधुनिक नेपाल के मिथिला क्षेत्पर शासन किया था।

हरिसिंह देव ने 1295-1324 ई तक शासन किया था।

वह मिथिला के कर्नाट वंश से संबंधित अंतिम राजा होने के लिए उल्लेखनीय थे। इस्लामिक आक्रमण के बाद उनका शासन समाप्त हो गया और उन्हें नेपाल की पहाड़ियों की ओर भागने को मजबूर होना पड़ा। उनके वंशज अंततः काठमांडू के मल्ल वंश के संस्थापक बने जो मैथिली भाषा के संरक्षक होने के लिए जाने जाते थें।

                                     

1. विरासत

मिथिला के इतिहास में हरिसिंह देव के शासनकाल को एक महत्वपूर्ण मोड़ माना गया है। उन्होंने कई सामाजिक परिवर्तन किए जैसे कि मैथिल ब्राह्मणों के लिए चार वर्ग प्रणाली की शुरूआत और पंजी व्यवस्था को विकसित किया। माना जाता है कि उनका बहुत ही तूफानी राजनीतिक जीवन रहा था और उनके किलों के अवशेष आज भी सिम्रौनगढ़ में दिखाई देते हैं। उनके वंशजों ने अंततः नेपाल के मल्ल वंश की स्थापना की जिसने लगभग 300 वर्षों तक शासन किया।

                                     
  • रह हर स ह द व - 1303 ई. स 1324 ई. तक म सलम न आक रमण स न प ल पल यन हर स ह द व कर न ट व श क सबस प रस द ध र ज थ हर स ह द व क हरस ह द व क
  • प र तरह व यवस थ त नह ह आ थ 1326 ई. म म थ ल क कर न ट व श श सक हर स ह द व क श सनक ल म इस औपच र क र प स ल प बद ध और स ग रह त क य गय इसक
  • क ल य यह न न यद व व श क प चव प ढ क शक रस ह द व र ज ह आ थ व न ब लक प त र हर स ह द व क र जगद द प र खन क न र व स त ज वन ब त न क ल य
  • अभ भ अवश ष ब खर ह ए ह र ज हर स ह द व तत क ल न न प ल म उत तर क ओर भ ग गय हर स ह द व क प त र जगतस ह द व न भक तप र न यक क व धव र जक म र
  • म थ ल पत ह ए तथ उनक ब द शक त स ह द व इनक समय चण ड श वर म त र थ शक त स ह क ब द हर स ह द व र ज ह ए हर स ह द व क व द व न म त र चण ड श वर न क त य
  • न न यद व कर न ट व श क स स थ पक और पहल र ज थ और हर स ह द व क प र वज थ उसन अपन र जध न स मर वगढ म स थ प त क और 50 वर ष तक म थ ल क ष त र
  • क प रस रक क र प म ज न ज त ह म थ ल क कर ण ट व श अ त म श सक हर स ह द व न अपन य ग य म त र क म श वर ठ क र क नव न र ज न य क त क य और स वय
  • एव कश म र क स स थ पक क र प म प रत ष ठ त ह उन ह क व शज मह र ज हर स ह भ रत क व भ जन क समय यह क श सक थ और भ रत क अध क श अन य रजव ड
  • ब घ ल व त ल ब ख दव य इसक ब द स जत पर कई वर ष तक ह ल क र ज रह ज सम हर स ह ह ल हर य ह ल न म स प रस द ध र ज ह आ यह एक व ध नसभ क ष त र ह ज सम
  • ब घ ल व त ल ब ख दव य इसक ब द स जत पर कई वर ष तक ह ल क र ज रह ज सम हर स ह ह ल हर य ह ल न म स प रस द ध र ज ह आ वर तम न म यह नगरप ल क अध यक ष
  • भगवन तर व म डल ई, ब जल ल न दल ल ब य न ठ क र छ द ल ल, स ठ ग व द द स, Dr. SIR हर स ह ग र, हर व ष ण क मथ, ह मचन द र जग ब ज ख ड कर, घनश य म स ह ग प त लक ष मण
                                     
  • ई. म ब ग ल अभ य न स ल टत समय उत तर ब ह र क कर न ट व श य श सक हर स ह द व क पर ज त क य इस प रक र त र क स न न त रह त क र जध न ड मर वगढ पर
  • क अवयस क ह न स उनक न म पर 1303 ई. तक म त र पर षद क श सन रह 7. हर स ह द व - 1303 ई. स 1324 ई. तक म सलम न आक रमण स न प ल पल यन कर ण टक ल न
  • लह र य सर य क प स द वक ल क स थ पन क थ श वस ह क ब द यह पद मस ह, हर स ह नरस हद व, ध रस ह, भ रवस ह, र मभद र, लक ष म न थ, क मसन र यण र ज ह ए
  • थ वर तम न म यह म र त ड हर स ह ग र व श वव द य लय स गर क स ग रह लय म स रक ष त ह 10. मह ष मर द न द व प रत म ग प तक ल - एरण क उत खनन
  • गय स द द न त गलक न - ई. म आध पत य कर ल य उस समय त रह त क श सक हर स ह थ वह त र क स न स ह र म नकर न प ल क तर ई म ज छ प इस प रक र उत तर
  • म द र क सम प ह च थ म द र भ ग प तक ल म न र म त क य गय थ ड हर स ह ग र प र तत व स ग रह लय म स रक ष त मह श वरदत त व वर हदत त द व र न र म त
  • भ प ल द व अह ल य व श वव द य लय इ द र र न द र ग वत व श वव द य लय जबलप र व क रम व श वव द य लय उज ज न ज व ज व श वव द य लय ग व ल यर ड हर स ह ग र
  • र म न द च र च न ह प र र भ क य इत ह स स क ष ह क अय ध य क र ज हर स ह क न त त व म च त स हज र र जप त क एक ह म च स स व म ज न स वधर म
  • लह र य सर य क प स द वक ल क स थ पन क थ श वस ह क ब द यह पद मस ह, हर स ह नरस हद व, ध रस ह, भ रवस ह, र मभद र, लक ष म न थ, क मसन र यण र ज ह ए
  • ल सन 1801 तक द हर द न म अव यवस थ बन रह प रद य म न श ह क द म द हर स ह ग ल र य द न क प रज क उत प ड न करन व ल म सबस आग थ अर जकत क
  • प र द य ग क व श वव द य लय, भ प ल द व अह ल य व श वव द य लय, इ द र र न द र ग वत व श वव द य लय, जबलप र ड हर स ह ग र व श वव द य लय, स गर व क रम व श वव द य लय


                                     
  • क इष ट द वत क ष ण ह उनक म म एन न र यण म नन न न ल पट घर क स थ ह एक छ ट स म द र बनव य थ वह ज कर व प र र थन करत थ द व महत म यम
  • क आध र पर सभ इत ह सक र न म न ह एरण क प र त त व क ख ज क ड हर स ह ग र व श वव द य लय क प र क ष णदत त व जप य न अपन प स त क स गर थ र
  • अ ब ल ल पट ल क ग र स 13. प टन SC मह श क मर कन ड य भ जप 14. ब सक ठ हर स ह प रत पस ह च वद क ग र स 15. स बरक ठ मध स दन म स त र क ग र स 16. कपड व ज
  • भ रत य र ष ट र य क ग र स च धर द व ल ल जनत प र ट बलर म ज खड भ रत य र ष ट र य क ग र स ड हर स ह भ रत य र ष ट र य क ग र स स भ ष
  • स गर: स स क त व भ ग, हर स ह ग र व श वव द य लय. त र प ठ र ध वल लभ. 1988 क ल द स पर श लन. स गर मध यप रद श स स क त व भ ग, हर स ह ग र व श वव द य लय
  • अत प र च न म द र ह यह एक पह ड क च ट पर स थ त ह क ल म श ह र द व क समर प त एक प र च न म द र ह जनस ख य क मर भ रत क र जस थ न र ज य क
  • आगम क ध र क श व एव क श म र श व दर शन क आध न क न म ख व क स क मह र ज हर स ह कश म र दरब र न बढ व द य क स प ण ड य, आर.क क व, ब एन. पण ड त
  • जनत प र ट 44 बन प र क र जप ल स ह श ख वत भ रत य जनत प र ट 45 फ ल र हर स ह भ रत य र ष ट र य क ग र स 46 द द अज ब ब ल ल न गर भ रत य जनत प र ट

यूजर्स ने सर्च भी किया:

हरसह, हरसहदव, हरिसिंह देव, काठमांडू. हरिसिंह देव,

...

शब्दकोश

अनुवाद

हरिसिंह देव कर्नाट वंश के राजा थें, जिसने आधुनिक.

हरिसिंह गोदारा के जन्म दिवस पर गुढ़ागौडज़ी के श्रीराम मंदिर में आयोजित सेवा संकल्प सम्मान समारोह में गिल, रामेश्वर चौधरी, कपिल देव, विनय पाठक, राधेश्याम रचियेता, देवकरण बुगालिया, विवेकानंद, एडवोकेट रविन्द्र लाम्बा को. सवाल छोड़ गयी फंदे से उतरी देवर्ष की लाश. कुछ विद्वानों और कवियों ने हरदौल का वास्तविक नाम ​हरदेवसिंह या हरिसिंह देव बतलाया है, जबकि आचार्य केशव ने अपने ग्रंथ वीरसिंहदेव चरित रचना काल सं. 1664 वि. में पुनि हरदौल बुद्धि गंभीर लिखा है, जिससे हरदौल नाम ही प्रामाणिक ठहरता है ।. मिथिला आ नेपाल – Maithil Manch. सुबुद्धि की कथा नीति कथा Hindi story with moral हरिसिंह देव नाम का राजा था. वह मिथिला में राज्य करता था. वह कर्णाट कुल में उत्पन्न हुआ था. सहरसा के कंदाहा में भी है काले पत्थर से बना दुर्लभ. सौराठ में शादियां कराने वाले पंजीकार विश्वमोहन मिश्र बताते हैं कि 700 साल पहले क़रीब1310 ईस्वी में इस प्रथा की शुरुआत हुई थी लिखित रूप में पंजी प्रथा की शुरुआत मिथिला नरेश हरिसिंह देव ने की थी। हालांकि इससे पूर्व उनके.


बिहार के कर्नाट वंश के शासक हरिसिंह देव को पराजित.

के गुर्जर समाज के समस्त गांवो की बैठक सामलियापुरा के सती के आश्रम पर हुई जिसमें देव सेना की कार्यकारिणी गठित की गई। जो समाज के वरिष्ठ व्यक्ति हरिसिंह गुर्जर, रामकुमार गुर्जर, सोमेश्वर घुरैया, रामअवतारसिह के नेतृत्व मे जगदीश प्रसाद. कोसी परियोजना ऐतिहासिक सिंहावलोकन Hindi Water. नरसिंह देव के बाद उनके पुत्र रामसिंह मिथिलापति हुए तथा उनके बाद शक्ति सिंह देव। इनके समय चण्डेश्वर मंत्री थे। शक्ति सिंह के बाद हरिसिंह देव राजा हुए। हरिसिंह देव के विद्वान मंत्री चण्डेश्वर ने कृत्य रत्नाकर नामक सुप्रसिद्ध ग्रंथ का​. An unique fair where does the bidding of grooms, Know. सौराठ सभा के बारे में कहा जाता है कि यह राजा हरिसिंह देव की पहल पर आयोजित सभा पूर्ण रूप से वैज्ञानिक पद्धति पर केंद्रित है। जो बात विज्ञान आज कह रहा है उसे राजा हरिसिंह देव ने लागू करवाने का काम किया था। वरिष्ठ चिकित्सकों.


ऐतिहासिक सौराठ सभा 4 जून से 12 जून तक BNN News.

गुर्जर समाज के आराध्य देव देवनारायण जयंती पर निकला चल समारोह Celebrations set out on Devnarayan Jayanti, the deity of Gurjar भरत चैधरी, हरिसिंह गुर्जर, गंगाराम गुर्जर, निलेश गुर्जर, मांगुसिंह गुर्जर, दिपक पाल, राजेश गुर्जर आदि मौजूद थे।. बिहार के कर्नाट वंश के शासक हरिसिंह देव को Vokal. Head Name. बाल किशन. शांती देवी. बद्रीराम. कालू राम. किशोर. पाना देवी. CHHAT. दाउ लाल. राधा कृष्ण. ग्रहम देव. हरि प्रकाश हरिसिंह नगर । गांधी कॉलोनी भगत की कोठी. हरिसिंह नगर न्यू पाली रोड. भगत की कोठी कृष्ण मंदिर चौथी गली. भगत की कोठी. बिहार − मिथिला का कर्नाट राजवंश MCQ – Gyan Academy. जब यह लिख रहा हूँ तब इस प्रतिभासंपन्न छात्र देवर्ष अजयपाल बागरी निकनेम देव की देह सागर जिला चिकित्सालय की मर्च्युरी में चीरी फाड़ी जा रही होगी। डा. हरिसिंह गौर सेंट्रल यूनिवर्सिटी के टैगौर हास्टल के कमरे में फाँसी के फंदे.


Buy गजनी से जैसलमेर Gajni se Jaisalmer Book.

ओमप्रकाश भारती नेलिखा है स्थानीय मौखिक साक्ष्य और कतिपय स्रोतों के अनुसार यह तटबंध् मिथिला के शासक हरिसिंह देव के आदेश पर उसके मंत्री वीरेश्वर ने मिथिला राज्य की भूमि को कोसी के उत्पात से बचाने के लिए बँधवाया था।. Bhagane Meaning in English भागने का अंग्रेजी में मतलब. Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life​, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts. हमारे बारे में बाबा मुक्तेश्वरनाथ धाम. पुराने लोग बताते हैं कि कर्नाटक वंश में तिरहुत के शासक हरिसिंह देव ने 1296 से 1310 ई. के बीच मिथिला के कुल 14 स्थानों पर दूल्हा बाजार शुरू किया था. योग्य वंशावली विवाह सुविधा के लिए सौराठ, खामागढ़ी, परतापुर, शिवहर, गोविंदपुर, फतेपुर, सजहौल,.


The records of seven hundred years old are getting worse In.

मांगीबाई पति हरिसिंह ने किया धारदार हथियार से वार, बाल को किसान देवनारायण भगत जी अपने खेत पर अपनी पत्नी देव बाई के​. देवी देवता news in hindi, देवी देवता से जुड़ी खबरें. उनके साथ ओड़िसा बालेश्वर के सांसद सह केंद्रीय मंत्री प्रताप सारंगी, मंच के राष्ट्रीय संयोजक सूर्यकांत केलकर, रघुनंदन शर्मा, संगठन मंत्री मध्य पूर्व भारत, झारखंड बिहार रूपेश कुमार, प्रदेश अध्यक्ष हरिसिंह देव सहित मंच के. हमारे सागर शहर की है बात निराली सर हरिसिंह गौर व. बनी,कटरी लक्ष्मीखेडा, लोधवा खेड़ा,कटरी शंकरपुर सराय, नत्थापुरवा, काशीराम नगर, गंगा बैराज. खोयरा कटरी,पपरिया, भरतपुरवा गोरहा,राम नगर, लोहारस, शिवदीनपुरवा, तिक्कनपुरवा, लुधौरा. महेंद्र नगर, जुगराजपुर, भिसार,पकरी,हरिसिंह देव, कटरा चसौर, कटरा. बुंदेलखंड की लोक संस्कृति का इतिहास लोकदेवता. हरिसिंह देव तिरहुतका कर्नाटवंशीयकी सातौँ तथा अन्तिम राजा हरिसिंह देव थिए ।… हरिसिंह देव तिरहुतका कर्नाटवंशीयकी.


News: डेढ़ करोड़ की अंगूठी चोरी, जांच शुरू Fifteen.

ऐसी मान्यता है कि राजा हरिसिंह देव ने लगभग 700 साल पहले 1310 ईसवी में सौराठ सभा की प्रथा शुरू की थी। विवाह योग्य बच्चों के माता पिता को परेशानी से बचाने के लिए इसका आयोजन करने की योजना बनी थी। पहले इस मेले का आयोजन सौराठ. R. N.Sharma, Aligarh, Aligarh 2020 Find Local Businesses. हरिसिंह देव Harisimhadeva. खतरे में दूल्हे के बाज़ार का वज़ूद चौथी दुनिया. में बंगाल अभियान से लौटते समय उत्तर बिहार के कर्नाट वंशीय शासक हरिसिंह देव को पराजित किया। इस प्रकार तुर्क सेना ने तिरहुत की राजधानी डुमरॉवगढ़ पर अधिकाकर लिया और अहमद नामक को राज्य की कमान सौंपकर दिल्ली लौट गया। गयासुद्दीन की 1325. मांगीबाई पति हरिसिंह ने किया धारदार हथियार से. देव दत्त गिरि क्रिकेट टूर्नामेंट: वेस्ट दिल्ली एकेडमी की विद्या जैन एकेडमी पर आसान जीत. गाजियाबाद के प्रथम डीएस शर्मा मैमोरियल क्रिकेट के उदघाटन मैच में हरिसिंह क्रिकेट एकेडमी ने ऋषभ पब्लिक स्कूल एकेडमी को 194 रनों से रौंद दिया।.

संपर्क Gram Panchayat of MP State Gram Panchayat Janpad.

इस अतुलनीय सूर्य मंदिर का निर्माण 14वीं शताब्दी में मिथिला के राजा हरिसिंह देव ने किया था। यह सहरसा जिला मुख्यालय से लगभग 12 किलोमीटर पश्चिम में अवस्थित है। महाभारत और सूर्य पुराण के अनुसार इस सुर्य मंदिर का निर्माण​. बिहार एक आईने की नजर से तुगलक वंश Marathi stories. राजकुमार उत्तर पर वृहन्नला के वचनों का कोई प्रभाव नहीं पड़ा और वह रथ से कूद कर भागने लगा संदर्भ Reference मुहम्मद ​बिन तुगलक के काल में बिहार के प्रान्तपति मखदूल मुल्क था, जिसे कर्नाट वंश के राजा हरिसिंह देव के खिलाफ अभियान चलाकर नेपाल. BPSC Questions Mock Practice Test Series Part 18 Sansar Lochan. रेवाड़ी। औद्योगिक कस्बा बावल के बनीपुर चौक पर बनाए जा रहे बस स्टैंड का नामकरण पुलवामा में शहीद राजगढ़ निवासी हरिसिंह के नाम पर करने की मांग को लेकर रविवार को गांव चिराहड़ा.


झारखंड विधान सभा चुनाव से पहले साध्वी प्रज्ञा.

इसके चलते वैवाहिक निर्णय स्मरण या पूर्वजों के नाम, गोत्र के आधापर होता था। राजा हर‍िस‍िंह देव के समय पंजी प्रबंध बना। पंजीकार वंश परिचय का नियमानुसार अभिलेख रखने लगे। उन्हें सौराठ सभा सहित पूर्णिया, मंगरौनी, भराम, भगवतीपुर,. मिथिला में लगता था विश्व का पहला मेट्रिमोनियल. हरिसिंह देव कर्नाट वंश के राजा थें, जिसने आधुनिक भारत और आधुनिक नेपाल के मिथिला क्षेत्पर शासन किया था। इस के साथ. Bihar News In Hindi Madhubani News in the traditional way the. भितरवार नईदुनिया न्यूज विश्वकर्मा समाज द्वारा आराध्य देव भगवान विश्वकर्मा की जयंती मंगलवार को धूमधाम से मनोज गौड़, विनोद गौड़, नीरज गौड, कैलाश गौड, हरिसिंह गौड, मनोज विश्वकर्मा, अजय गौड़ सहित सैकड़ों लोग चल समारोह. जामोन्या ग्राम पंचायत ज़ोन योजना नियोजन. कणाट के बन्तिम राजा हरिसिंह देव के समय में मंपिठी सगास बोर​. शास्त्रीय संगीत को भी उन्नति ॥ हरिसिंह स्वयं संगीत के अन्य प्रेमी बोर. रमेश्वर के लिए पेखिए: बार मिया, नोटिज, ६, पृ०२०, पिन. पई रिपोर्ट, पृ०३५॥ पोकरण के लिए देखिर नेपाल परवार केटाग,.


मिथिला दर्शन: सहरसा में अवस्थित कंदाहा का सुर्य.

जय बाबा हरिसिंह देव. जय बाबा हरिसिंह देव. चित्र में ये शामिल हो सकता है: एक या अधिक लोग, भीड़, वृक्ष. 99. जय बाबा हरिसिंह देव लॉग इन या साइन अप करें. कर्नाट राजवंश हरिसिंह देव के अंतिम राजा नेपाल भाग गए। इतिहासकार के अनुसार अगले 27 वर्षों के लिए मिथिला क्षेत्र में अराजकता प्रबल थी। 1353 में फिरोज शाह तुगलक ने कराड़ राजा के रूप में पंडित कामेश्वर ठाकुर को नियुक्त किया. इतिहास नेपालमा मुसलमान शासक Hami Nepali Muslims. मूल्य Rs. 0 पृष्ठ 198 साइज 3 MB लेखक रचियता रणधीर Randhir विद्यापति एक अध्ययन पुस्तक पीडीऍफ़ डाउनलोड करें, ऑनलाइन पढ़ें, Reviews पढ़ें Vidhyapati Ek Adhyyan Free PDF Download​, Read Online, Review.


बिहार में मौजूद सौराठ गांव जहां दूल्हों का लगता.

में बंगाल अभियान से लौटते समय उत्तर बिहार के कर्नाट वंशीय शासक हरिसिंह देव को पराजित किया। इस प्रकार तुर्क सेना ने तिरहुत की राजधानी डुमरॉवगढ़ पर अधिकाकर लिया और अहमद नामक को राज्य की कमान सौंपकर दिल्ली लौट गया। गयासुद्दीन की १३२५. सहरसा में अवस्थित कंदाहा का सुर्य मंदिर, Atulya Bihar. सागर से रजनीश जैन। यह तीसरी कड़ी हरिसिंह गौर के जीवन में प्रभाव छोड़ने वाली महिलाओं पर है और उनमें पहला स्थान माँ भूरीबाई का ही है। पिता तखतसिंह को पत्नी भूरीबाई से निठल्ले बैठने के ताने मिलते रहते थे लेकिन वे बेअसर ही रहे।. विशेष मिथिला आर्यन के आगमन से लेकर देश की. सन १३८१ ८२ में बंगाल और बिहार में गयासुद्दीन तुगलक का शासन था उस समय मिथिला के राजा का नाम हरिसिंह देव ठाकुर था वे बहुत ज्ञानवान धार्मिक राजा थे वे विद्वानों का सम्मान करते थे तथा ज्ञान विज्ञान में लगे ब्राह्मणों की वृत्ति की​.


धूमधाम से मना देव देवनारायण का जन्मोत्सव virarjun.

20, मिस्त्री राजगीर, हरिसिंह, शाहपुर कोडिया. 21, मिस्त्री ​राजगीर, प्रेम सिंह, शाहपुर कोडिया 53, हलवाई, जितेन्द्र राठौर, 9826845663, सेवनिया. 54, किसान, देव कारन मेवाडा, 8435519927, सेवनिया. 55, किसान, देव करण मेवाड़ा, 8435519927, सेवनिया. संस्कृत देव भाषा, दिव्य शक्ति, मनुष्य का Patrika. बिहार के कर्णाट वंश के शासक हरिसिंह देव को पराजित करने वाला सुल्तान था – Sultan who defeated Harisinh Dev, ruler of Karnatakas Karnat dynasty - Bihar Ke Karnnat Vansh Ke Shashak Harisingh Dev Ko Parajit Karne Wala Sultan Tha Bihar Gk in hindi, Bihar Medieval History Quiz Gayasuddin.


मैथिल पंजी का उद्धार नहीं कर सका पांडुलिपि मिशन.

August 29th, 2019. हमर बाबा प्रातःस्मरणीय हरिकांत झा. Live so that when your children think of fairness, caring, and integrity, they think of you. H. Jackson Brown, Jr एना जीवू जे जखन अहाँक संतति औचित्य, ध्यान रखनाहर आ न्यायनिष्ठाक विषय मे सोचथि, त हुनका आगाँ मे अहीं Следующая Войти Настройки Конфиденциальность. गुर्जर समाज के आराध्य देव देवनारायण जयंती पर. गुर्जर गारी समाज के आराध्य देव देवनारायण के जन्मोत्सव पर देवनारायण मंदिर बैरछा रोड से पुजा अर्चना कर भव्य चल समारोह अंतरसिंह चौधरी उज्जैन, कृषि उपज मण्डी अध्यक्ष हरिसिंह गुर्जर, गंगाराम गुर्जर, बाबुलाल गुर्जर, रमेशचन्द पाल,. सुबुद्धि की कथा नीति कथा. कैलाश चन्द्र झा ने बताया की पंजी प्रथा का प्रारंभ 1324 में मिथिला के तत्कालीन राजा हरिसिंह देव के द्वारा किया गया। पंजी में इन सात सौ सालों का पूरा वंशवृक्ष अंकित है। मैंने 48 पंजीकारों में से 42 का मैक्रोफिलमिंग करने.

...