Топ-100 ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 74

ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 74



                                               

अल्फ्रेड नार्थ ह्वाइटहेड

अल्फेड नार्थ ह्वाइटहेड इंग्लैण्ड के गणितज्ञ एवं दार्शनिक थे। वे प्रक्रिया दर्शन नामक दार्शनिक सम्प्रदाय के प्रमुख दार्शनिक हैं।

                                               

आदि शंकराचार्य

आदि शंकर ये भारत के एक महान दार्शनिक एवं धर्मप्रवर्तक थे। उन्होने अद्वैत वेदान्त को ठोस आधार प्रदान किया। उन्होने सनातन धर्म की विविध विचारधाराओं का एकीकरण किया। उपनिषदों और वेदांतसूत्रों पर लिखी हुई इनकी टीकाएँ बहुत प्रसिद्ध हैं। इन्होंने भारतवर ...

                                               

आनन्दबोध

आनंदबोध, शांकर वेदांत के प्रसिद्ध लेखक। ये संभवत: 11वीं अथवा 12वीं शती में विद्यमान थे। इन्होंने शांकर वेदांत पर कम से कम तीन ग्रंथ लिख थे- "न्यायदीपावली", "न्यायमकरंद" और "प्रमाणमाला"। इनमें से "न्यायमकरंद" पर चित्सुख और उनके शिष्य सुखप्रकाश ने ...

                                               

आर्थर शोपेनहावर

आर्थर शोपेनहावर जर्मनी के प्रसिद्ध दार्शनिक थे। वे अपने नास्तिक निराशावाद के दर्शन के लिये प्रसिद्ध हैं। उन्होने २५ वर्ष की आयु में अपना शोधपत्र पर्याप्त तर्क के चार मूल प्रस्तुत किया जिसमें इस बात की मीमांसा की गयी थी कि क्या केवल तर्क संसार के ...

                                               

इब्न खल्दून

इब्न खल्दून उत्तरी अफ्रीका के बहुमुखी प्रतिभायुक्त व्यक्ति थे।इब्न खल्डून एक इफ्रिक्यां अरब मुस्लिम इतिहासकार थे। इन्हें अन्धुनिक समाजशास्त्और अर्थशास्त्र का पिता माना जाता हैं। उन्होंने साहित्य, धर्म, ज्योतिष, अर्थशास्त्र आदि अनेक विषयों में महत ...

                                               

इब्न रश्द

इब्न रश्द, लैटिन भाषा में आवेररोस को इस नाम से पुकारा जाता है। एक एंडलुसियन दार्शनिक और विचारक थे जिन्होंने दर्शन, धर्मशास्त्र, चिकित्सा, खगोल विज्ञान, भौतिकी, इस्लामी न्यायशास्त्और कानून, और भाषाविज्ञान सहित विभिन्न विषयों पर भी लिखा था। उनके दा ...

                                               

उत्पलाचार्य

उत्पलाचार्य प्रत्यभिज्ञादर्शन के एक आचार्य थे। ये काश्मीर शैवमत की प्रत्यभिज्ञा शाखा के प्रवर्तक सोमानंद के पुत्र तथा शिष्य थे। इनका समय नवम शती का अंत और दशम शती का पूर्वार्ध था। इन्होंने प्रत्यभिज्ञा मत को अपने सर्वश्रैष्ठ प्रमेयबहुल ग्रंथ ईश्व ...

                                               

उदयनाचार्य

उदयनाचार्य प्रसिद्ध नैयायिक। उन्होने नास्तिकता के विरोध में ईश्वरसिद्धि के लिए आज से हजारों वर्ष पूर्व न्यायकुसुमांजलि नामक एक अत्यन्त पाण्डित्यपूर्ण ग्रन्थ लिखा।

                                               

एडमंड हुसर्ल

                                               

एडवर्ड बर्नस्टीन

एडवर्ड बर्नस्टीन जर्मनी के एक राजनेता तथा मार्क्सवादी सिद्धान्तकार थे। वे जर्मनी के सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी के एक सदस्य थे। उनके कार्ल मार्क्स और फ्रेडरिक एंगेल्स के साथ घनिष्ठ संबंध थे, लेकिन उन्होंने मार्क्सवादी सोच में त्रुटियों को देखकर मार्क ...

                                               

एपिकुरुस

                                               

एलेक्जेंडर कॉयरे

                                               

कार्ल फ्रिएद्रिच वॉन विसाक्कर

                                               

कार्ल मार्क्स

कार्ल मार्क्स जर्मन दार्शनिक, अर्थशास्त्री, इतिहासकार, राजनीतिक सिद्धांतकार, समाजशास्त्री, पत्रकाऔर वैज्ञानिक समाजवाद के प्रणेता थे। इनका पूरा नाम कार्ल हेनरिख मार्क्स इनका जन्म 5 मई 1818 को त्रेवेस के एक यहूदी परिवार में हुआ। 1824 में इनके परिवा ...

                                               

गंगेश उपाध्याय

गंगेश उपाध्याय भारत के १३वी शती के गणितज्ञ एवं नव्य-न्याय दर्शन परम्परा के प्रणेता प्रख्यात नैयायिक थे। उन्होंने वाचस्पति मिश्र की विचारधारा को बढ़ाया।

                                               

गाटफ्रीड लैबनिट्ज़

गाटफ्रीड विलहेल्म लाइबनिज जर्मनी के दार्शनिक, वैज्ञानिक, गणितज्ञ, राजनयिक, भौतिकविद्, इतिहासकार, राजनेता, विधिकार थे। उनका पूरा नाम गोतफ्रीत विल्हेल्म फोन लाइब्नित्स था। गणित के इतिहास तथा दर्शन के इतिहास में उनका प्रमुख स्थान है।

                                               

गेब्रियल वाग्नेर

                                               

गैलीलियो गैलिली

इस महान विचारक का जन्म आधुनिक इटली के पीसा नामक शहर में एक संगीतज्ञ परिवार में हुआ था। आधुनिक इटली का शहर पीसा 15 फ़रवरी 1564 केा महान वैज्ञानिक गैलीलियो गैलिली के जन्म को भी ईश्वर की रचना का दोष मानकर ऐतिहासिक भूल कर बैठा था। गैलीलियो के द्वारा ...

                                               

गैस्टन बैचलर्ड

                                               

गौड़पाद

गौड़पाद या गौडपादाचार्य, भारत के एक दार्शनिक थे। उन्होने माण्डूक्यकारिका नामक नामक दार्शनिक ग्रन्थ की रचना की जिसमें माध्यमिक दर्शन की शब्दावली का प्रयोग करते हुए अद्वैत वेदान्त के सिद्धान्तों की व्याख्या की गयी है। अद्वैत वेदांत की परंपरा में गौ ...

                                               

चार्ल्स सैंडर्स पियर्स

                                               

जर्दानो ब्रूनो

जियोर्दानो ब्रूनो इटली का दार्शनिक, गणितज्ञ एवं खगोलवेत्ता था जिसे कैथोलिक चर्च ने अफवाह फैलाने का आरोप लगाकर जिन्दा जला दिया था। अपनी मृत्यु के बाद वह बहुत प्रसिद्ध हुआ। उन्नीसवीं-बीसवीं शताब्दी के समीक्षकों ने उसे स्वतंत्र चिन्तक शहीद और आधुनिक ...

                                               

जानोस अपसाइकाई सेरे

जानोस अपसाइकाई सेरे ट्रांसिल्वेनिया में रहने वाले हंगरी के शिक्षक, दार्शनिक, केल्विनिस्ट धर्मशास्त्री थे जो हंगेरियन शिक्षा की महान शख्सियत भी थे। उन्होंने हंगेरियन भाषा में अब तक का पहला वैज्ञानिक विश्वकोश लिखा और उन्होंने हंगरी में काटीजियनवाद ...

                                               

जार्ज बर्कली

जार्ज बर्कली एक अंग्रेज-आयरी दार्शनिक थे जिन्होने इम्मैटेरिअलिज्म का सिद्धान्त दिया जिसे बाद में आत्मनिष्ठ आदर्शवाद कहा गया।

                                               

जार्ज बर्नार्ड शा

जार्ज बर्नार्ड शा नोबेल पुरस्कार साहित्य विजेता, १९२५ महान नाटककार व कुशल राजनीतिज्ञ मानवतावादी व्यक्तित्व जार्ज बर्नार्ड शा का जन्म डबलिन मे 26 जुलाई 1856 को शनिवार को हुआ था। अपने माता पिता की तीन संतानो में ये अकेले पुत्र थे। इनके पिता जार्ज क ...

                                               

जिद्दू कृष्णमूर्ति

जिद्दू कृष्णमूर्ति दार्शनिक एवं आध्यात्मिक विषयों पके लेखक एवं प्रवचनकार थे। वे मानसिक क्रान्ति, मस्तिष्क की प्रकृति, ध्यान, मानवी सम्बन्ध, समाज में सकारात्मक परिवर्तन कैसे लायें आदि विषयों के विशेषज्ञ थे। वे सदा इस बात पर जोर देते थे कि प्रत्येक ...

                                               

जिनेन्द्र वर्णी

इनका जन्म सन १९२२ में पानीपत में एक अग्रवाल जैन परिवार में हुआ था। वें Saman Suttam धार्मिक जैन ग्रन्थ के रचयिता थे। १२ अप्रैल १९८३ में उनका देहांत हो गया।

                                               

जेम्स मिल

जेम्स मिल स्कॉटलैण्ड के इतिहासकार, राजनीतिज्ञ, दार्शनिक एवं मनोवैज्ञानिक थे। डेविड रिकार्डो के साथ उन्हें क्लासिकल अर्थशास्त्र का जनक माना जाता है। वे जॉन स्टूवर्ट मिल के पिता थे।

                                               

जॉन डिवी

जॉन डुई का जन्म संयुक्त राष्ट्र अमरीका के बर्लिंगटन नगर में हुआ था। बर्माट प्रदेश अपने प्राकृतिक सौंदर्य के लिये प्रसिद्ध है। अत: डुई के जीवन पर नैसर्गिक वातावरण का पर्याप्त प्रभाव पड़ा और उसकी अभिरूचि दर्शनशास्त्र में हुई। उच्च शिक्षा प्राप्त कर ...

                                               

जॉन लॉक

जान लॉक का जन्म 29 अगस्त 1632 ई. का रिंगटन नामक स्थान पर हुआ। इनके पिता एक साधारण स्थिति के जमींदाऔर प्राभिकर्ता थे। वे प्यूरिटन थे और आंग्ल गृहयुद्ध में 1641-47 सेना की ओर से लड़े थे। पिता और पुत्र का संबंध आदर्श था। इन्होंने 1646 में वेस्टमिंस् ...

                                               

जॉन स्टूवर्ट मिल

जॉन स्टूवर्ट मिल प्रसिद्ध आर्थिक, सामाजिक, राजनैतिक, एवं दार्शनिक चिन्तक तथा प्रसिद्ध इतिहासवेत्ता और अर्थशास्त्री जेम्स मिल का पुत्र।

                                               

जॉर्ज लुकाच

ग्यार्ग लुकाच हंगेरियन मूल के मार्क्सवादी विद्वान थे। जॉर्ज लुकाच एक साथ दार्शनिक, साहित्यिक आलोचक एवं सक्रिय राजनीतिक कार्यकर्ता थे। कट्टरतावादी भावधारा से दूर रहते हुए उन्होंने साहित्य एवं कला की अपनी गहरी समझ से यथार्थवाद की प्रामाणिक व्याख्या ...

                                               

जॉर्ज हेनरी लेविस

                                               

जोवानी पिको देला मीरदेला

जोवानी पिको देला मीरदेला इटली का प्रमुख प्लातौनवादी एवं मानववादी विचारक जो यूनानी, लातीनी, यहूदी, चाल्दी तथा अरबी भाषाओं का पंडित था। पिको ने स्वायत्त बुद्धियुक्त मानव व्यक्ति के महत्व, प्रताप, एवं आत्मसम्मान की प्राचीन धारणा की पुन:स्थापना करनेव ...

                                               

ज्यां-पाल सार्त्र

ज्यां-पाल सार्त्र नोबेल पुरस्कार साहित्य विजेता, १९६४ ज्यां-पाल सार्त्र अस्तित्ववाद के पहले विचारकों में से माने जाते हैं। वह बीसवीं सदी में फ्रान्स के सर्वप्रधान दार्शनिक कहे जा सकते हैं। कई बार उन्हें अस्तित्ववाद के जन्मदाता के रूप में भी देखा ...

                                               

टामस हाब्स

टामस हाव्स का जन्म माम्सबरी में हुआ था। ९१ वर्ष की इस दीर्घायु में हाब्स ने अनेक सामाजिक राजनीतिक विप्लव और परिवर्तन देखे-मध्यमवर्ग का उत्थान, स्टुअर्ट राजाओं ओर पार्लमेंट का संघर्ष, चार्ल्स प्रथम की फाँसी, क्रामवेल का शासन तथा रेस्टोरेशन, अपनी स ...

                                               

डेमी क्रिट्स

                                               

डेविड ह्यूम

डेविड ह्यूम आधुनिक काल के विश्वविख्यात दार्शनिक थे। वे स्काटलैंड के निवासी थे। आपके मुख्य ग्रंथ हैं - मानव प्रज्ञा की एक परीक्षा और नैतिक सिद्धांतों की एक परीक्षा ह्यूम का दर्शन अनुभव की पृष्ठभूमि में परमोत्कृष्ट है। आपके अनुसार यह अनुभव impressi ...

                                               

तारनेह जावनबख्त

तारनेह जावनबखत एक ईरानी-कनाडाई वैज्ञानिक, दार्शनिक, कलाकार, लेखक, कवि, अनुवादक, साहित्यिक आलोचक, सहकर्मी-समीक्षक, संपादक और मानवाधिकार कार्यकर्ता.

                                               

थामस एक्विनास

सेण्ट थॉमस एक्विनास को मध्ययुग का सबसे महान राजनीतिक विचारक और दार्शनिक माना जाता है। वह एक महान विद्वतावादी तथा समन्वयवादी था। प्रो॰ डनिंग ने उसको सभी विद्वतावादी दार्शनिकों में से सबसे महान विद्वतावादी माना है। सेण्ट एक्विनास ने न केवल अरस्तू औ ...

                                               

थिओफ्रेस्टस

थिओफ्रैस्टस ग्रीस देश के प्रसिद्ध दार्शनिक एवं प्रकृतिवादी थे। इनका जन्म ईसा पूर्व ३७२ में, लेज़बासॅ द्वीप के एरेसस नामक नगर में हुआ था तथा मृत्यु ईसा पूर्व २८७ में हुई। लेज़बॉस में ही इन्होंने ल्युसिपस से दर्शनशास्त्र की शिक्षा ग्रहण की और उसके ...

                                               

दादा धर्माधिकारी

शंकर त्रिम्बक धर्माधिकारी भारत के एक स्वतंत्रता सेनानी, गाँधीवादी चिन्तक और प्रसिद्ध लेखक थे। वे दादा धर्माधिकारी के नाम से अधिक जाने जाते हैं।

                                               

दार्शनिक

                                               

धर्मकीर्ति

धर्मकीर्ति भारत के विद्वान एवं भारतीय दार्शनिक तर्कशास्त्र के संस्थापकों में से थे। बौद्ध परमाणुवाद के मूल सिद्धान्तकारों में उनकी गणना की जाती है। वे नालन्दा में कार्यरत थे। सातवीं सदी के बौद्ध दार्शनिक धर्मकीर्ति को यूरोपीय विचारक इमैनुअल कान्ट ...

                                               

निकोल ओरेसमे

                                               

निकोलो मैकियावेली

निकोलो मैकियावेली इटली का राजनयिक एवं राजनैतिक दार्शनिक, संगीतज्ञ, कवि एवं नाटककार था। पुनर्जागरण काल के इटली का वह एक प्रमुख व्यक्तित्व था। वह फ्लोरेंस रिपब्लिक का कर्मचारी था। मैकियावेली की ख्याति उसकी रचना द प्रिंस के कारण है जो कि व्यावहारिक ...

                                               

नोवालिस

                                               

पांडुरंग शास्त्री आठवले

पांडुरंग शास्त्री आठवले, भारत के दार्शनिक, आध्यात्मिक गुरू तथा समाज सुधारक थे। उनको प्राय: दादाजी के नाम से जाना जाता है जिसका मराठी में अर्थ बड़े भाई साहब होता है। उन्होने सन् १९५४ में स्वाध्याय आन्दोलन चलाया और स्वाध्याय परिवार की स्थापना की। स ...

                                               

पियरे ड्यूहम

                                               

पीटर क्रोपोत्किन

पीटर अलेक्सेविच क्रोपोत्किन रूस के भूगोलवेत्ता, अर्थशास्त्री, वाड़मीमांसक, जन्तुविज्ञानी, क्रमविकास सिद्धान्ती, दार्शनिक, लेखक एवं प्रमुख अराजकतावादी थे।

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →