Топ-100 ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 73

ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 73



                                               

श्रुतकेवली

श्रुतकेवली, श्रुतज्ञान अर्थात् शास्त्रों के पूर्ण ज्ञाता होते हैं। श्रुतकेवली और केवली, ज्ञान की दृष्टि से दोनों समान हैं, लेकिन श्रुतज्ञान परोक्ष और केवल ज्ञान प्रत्यक्ष होता है। केवलियों को जितना ज्ञान होता है उसके अतनवें भाग का वे प्ररूपण कर स ...

                                               

संवर

संवर जैन दर्शन के अनुसार एक तत्त्व हैं। इसका अर्थ होता है कर्मों के आस्रव को रोकना। जैन सिद्धांत सात तत्त्वों पर आधारित हैं। इनमें से चार तत्त्व- आस्रव, बन्ध, संवर, निर्जरा कर्म सिद्धांत के स्तम्भ हैं।

                                               

सप्तभंगी नय

स्यादवाद या अनेकान्तवाद या सप्तभङ्गी का सिद्धान्त जैन धर्म में मान्य सिद्धान्तों में से एक है। स्यादवाद का अर्थ सापेक्षतावाद होता है। यह जैन दर्शन के अंतर्गत किसी वस्तु के गुण को समझने, समझाने और अभिव्यक्त करने का सापेक्षिक सिद्धांत है। सापेक्षता ...

                                               

समयसार

समयसार, आचार्य कुन्दकुन्द द्वारा रचित प्रसिद्ध ग्रन्थ है। इसके दस अध्यायों में जीव की प्रकृति, कर्म बन्धन, तथा मोक्ष की चर्चा की गयी है। यह ग्रंथ दो-दो पंक्‍तियों से बनी ४१५ गाथाओं का संग्रह है। ये गाथाएँ प्राकृत भाषा में लिखी गई है। इस समयसार के ...

                                               

स्यादवाद

स्यादवाद या अनेकांतवाद या सप्तभंगी का सिद्धान्त जैन धर्म में मान्य सिद्धांतों में से एक है। स्यादवाद का अर्थ सापेक्षतावाद होता है। यह जैन दर्शन के अंतर्गत किसी वस्तु के गुण को समझने, समझाने और अभिव्यक्त करने का सापेक्षिक सिद्धांत है। सापेक्षता अर ...

                                               

अधिसिद्धांत

अधिसिद्धांत ऐसा सिद्धांत होता है जिसका विषय कोई अन्य सिद्धांत हो। स्टीफन हॉकिंग के शब्दों में "हर सिद्धांत सदैव अस्थाई होता है, वह केवल एक परिकल्पना मात्र होती है; उसे पूर्ण रूप से प्रमाणित नहीं करा जा सकता। चाहे कितनी ही बार प्रयोग कर के सिद्धां ...

                                               

तर्क-वितर्क

तर्क-वितर्क चेतना द्वारा चीज़ों को समझने, तथ्यों को स्थापित व प्रमाणित करने, तर्क का प्रयोग करने और व्यवहारों तथा विश्वासों के कारण समझने व उन्हें बदलने की प्रक्रिया को कहते हैं। कई मानवीय कार्य व अध्ययन - जिनमें दर्शनशास्त्र, विज्ञान, भाषा, गणित ...

                                               

ज्ञान के स्रोत

                                               

ज्ञानमीमांसा की अवधारणाएँ

                                               

ज्ञानमीमांसिक सिद्धान्त

                                               

प्रक्रियाएँ

                                               

विज्ञान का इतिहास

                                               

विज्ञान का दर्शन

                                               

विज्ञान की ज्ञानमीमांसा

                                               

वैज्ञानिक अध्ययन

                                               

समालोचात्मक सोच

                                               

समय

समय एक भौतिक राशि है। जब समय बीतता है, तब घटनाएँ घटित होती हैं तथा चलबिंदु स्थानांतरित होते हैं। इसलिए दो लगातार घटनाओं के होने अथवा किसी गतिशील बिंदु के एक बिंदु से दूसरे बिंदु तक जाने के अंतराल को समय कहते हैं। समय नापने के यंत्र को घड़ी अथवा घ ...

                                               

कारण

                                               

तत्वमीमांसा की अवधारणाएँ

                                               

तत्वमीमांसा के सिद्धान्त

                                               

मन की तत्वमीमांसा

                                               

यथार्थता

                                               

वस्तुएँ

                                               

विज्ञान की तत्वमीमांसा

                                               

समय का दर्शनशास्त्र

                                               

अन्यथासिद्धि

न्याय या तर्क में, किसी अ-यथार्थ या अ-प्रत्यक्ष कारण के आधापर कोई बात सिद्ध करना अन्यथासिद्धि कहलाती है। इसे तर्कदोष माना गया है। उदाहरण के लिए, कहीं कुम्हार, दण्ड या गधे को देखकर यह सिद्ध करना कि वहाँ घट है - यह अन्यथासिद्धि है। न्यायदर्शन में प ...

                                               

कुतर्क

कुतर्एक बुरे या अमान्य तर्क को कहते हैं। कुछ कुतर्क धोखे से यकीन दिलाने के लिए जानबूझकर किए जाते हैं, और कुछ लापरवाही या अज्ञानता के कारण अनजाने में होते हैं। कुतर्क सामान्यतः दो प्रकार के होते हैं: "औपचारिक" और "अनौपचारिक"। औपचारिक कुतर्कों को प ...

                                               

गणितीय तर्कशास्त्र

गणितीय तर्कशास्त्र गणित की शाखा है किसका संगणक विज्ञान एवं दार्शनिक तर्कशास्त्र से निकट का सम्बन्ध है। तर्कशास्त्र का गणितीय अध्ययन तथा गणित के अन्य विधाओं में तर्कशास्त्र के अनुप्रयोग दोनो ही इसके अंतर्गत आते हैं। प्राय: गणितीय तर्कशास्त्र को सम ...

                                               

जुआरी का कुतर्क

जुआरी का कुतर्क या मोंटे कार्लो कुतर्एक गलत धारणा है कि यदि कोई घटना अतीत में सामान्य से अधिक बार हुई है, तो वह घटना भविष्य में कम बार होगी; या यदि कोई घटना अतीत में सामान्य से कम बार हुई है, तो वह घटना भविष्य में अधिक बार होगी । उदाहरण के रूप मे ...

                                               

ज्ञान द्योतन

ज्ञान द्योतन संगणकी की कृत्रिम बुद्धि क्षेत्र की एक शाखा है जिसमें ज्ञान को भिन्न प्रकार से संगणकों में व्यक्त करने का अध्ययन किया जाता है ताकि उसका प्रयोग कठिन कार्यों में किया जा सके। उदाहरण के लिये चिकित्सा-सम्बन्धी जानकारी को संगणकों में व्यक ...

                                               

तन्त्रयुक्ति

तंत्रयुक्ति रचित एक भारतीय ग्रन्थ है जिसमें परिषदों एवं सभाओं में शास्त्रार्थ करने की विधि वर्णित है। वस्तुतः तंत्रयुक्ति हेतुविद्या का सबसे प्राचीन ग्रन्थ है। इसका उल्लेख चरकसंहिता, सुश्रुतसंहिता, अर्थशास्त्र ग्रन्थ आदि में भी मिलता है। किन्तु इ ...

                                               

तरकशास्त्र (भारतीय दर्शन)

भारतीय दर्शन के सन्दर्भ में तर्कशास्त्र ज्ञान की प्रकृति, स्रोत तथा वैधता का विश्लेषण करने वाला विज्ञान है। तर्कशास्त्र डायलेक्टिक्स, लॉजिक, रीजनिंग और शास्त्रार्थ का विज्ञान है। छः शास्त्र बताये गये हैं जिनमें व्याकरणशास्त्र, मीमांसाशास्त्र, तर् ...

                                               

तर्क

दर्शनशास्त्र में तर्क‍ कथनों की ऐसी शृंखला होती है जिसके द्वरा किसी व्यक्ति या समुदाय को किसी बात के लिये राज़ी किया जाता है या उन्हें किसी व्यक्तव्य को सत्य मानने के लिये कारण दिये जाते हैं। आम तौपर किसी तर्क के बिन्दु साधारण भाषा में प्रस्तुत क ...

                                               

तर्कशास्त्र

तर्कशास्त्र शब्द अंग्रेजी लॉजिक का अनुवाद है। प्राचीन भारतीय दर्शन में इस प्रकार के नामवाला कोई शास्त्र प्रसिद्ध नहीं है। भारतीय दर्शन में तर्कशास्त्र का जन्म स्वतंत्र शास्त्र के रूप में नहीं हुआ। अक्षपाद! गौतम या गौतम का न्यायसूत्र पहला ग्रंथ है ...

                                               

तर्कशास्त्र का इतिहास

अनेकों संस्कृतियों ने तर्क करने की सूक्ष्मतिसूक्ष्म प्रणाली अपनायी तथा मानव के सम्पूर्ण चिन्तन में तर्क उपस्थित रहा है। किन्तु तर्क करने की स्पष्ट और विधिवत प्रणाली मुख्यत: और मूलत: भारत, चीन और यूनान में ही विकसित हुई। इनमें से केवल भारतीय और यू ...

                                               

न्यायवाक्य

न्यायवाक्य या सिल्लोगिज्म एक विशेष प्रकार का तर्क करने का तरीका है जिसमें दो अन्य कथनों के आधापर तीसरा कथन निकाला जाता है। अरस्तू ने सिल्लोजिज्म को इस प्रकार परिभाषित किया है - "वह शास्त्रार्थ discourse जिसमें कुछ चीजें सत्य मान लेने के बाद इनसे ...

                                               

परोक्षक

                                               

प्रतिज्ञप्तिक कलन

                                               

प्रमेय

प्रमेय का शाब्दिक अर्थ है - ऐसा कथन जिसे प्रमाण द्वारा सिद्ध किया जा सके। इसे साध्य भी कहते हैं। गणित में और विशेषकर रेखागणित में बहुत से प्रमेय हैं। प्रमेयों की विशेषता है कि उन्हें स्वयंसिद्धों axioms एवं सामान्य तर्क deductive logic से सिद्ध क ...

                                               

प्रहसन कुतर्क

प्रहसन कुतर्क तर्कशास्त्र में ऐसे मिथ्या तर्क को कहते हैं जिसमें किसी दावे को उपहासजनक तरीक़े से प्रस्तुत करके उसका मज़ाक़ बनाकर या खिल्ली उड़ाकर उसे झुठा ठहराने का ग़लत प्रयास किया जाए। अक्सर इसमें मूल दावे को अवैध अतिशयोक्ति या तथ्यों के साथ बत ...

                                               

प्रासंगिकता

प्रासंगिकता का अर्थ यह है कि कोई सूचना, क्रिया या चीज किसी मामले या मुद्दे से कितना सम्बद्ध है। उदाहरण के लिये मुकद्दमों में बहस के दौरान या साक्ष्य के लिये प्रासंगिकता को बहुत महत्व दिया जाता है और जो चींजे मुद्दे से हटकर या असम्बद्ध लगती हैं उन ...

                                               

बूलीय बीजगणित (तर्कशास्त्र)

बूलीय बीजगणित या बूली का तर्कशास्त्र, तार्किक ऑपरेशन का एक सम्पूर्ण तन्त्र है। इसे सबसे पहले जॉर्ज बूल ने उन्नीसवीं शदी के मध्य में बीजगणितीय तर्क के रूप में प्रस्तुत किया। बहुत दिनो तक इस पर लोगों का ध्यान नहीं गया और इसे महत्व नहीं दिया गया। इस ...

                                               

मिथ्याभाषकी परोक्षक

                                               

लोकप्रियता कुतर्क

लोकप्रियता कुतर्क, जिसे कभी-कभी गणतांत्रिक कुतर्क भी कहते हैं, तर्कशास्त्र में ऐसे मिथ्या तर्क को कहते हैं जिसमें किसी दावे को इस आधापर सच ठहराया जाने का प्रयास जो कि उसे बहुत या अधिकतर लोग मानते हैं।

                                               

विकल्प

विकल्प का अर्थ है- शब्द, वचन, कल्पना आदि से प्राप्त अप्रत्यक्ष ज्ञान को कहते हैं। यह ज्ञान अनुभव या प्रयोग पर आधारित नहीं होता। पतञ्जलि के योगसूत्र में विकल्प, ५ प्रकार की वृत्तियों में से एक है। अन्य वृत्तियाँ ये हैं- प्रमाण, विपर्यय, निद्रा, स् ...

                                               

विरोधाभास सूची

यह विषयक वर्गीकृत विरोधाभासों की सूची है। वर्गीकरण लगभग है क्योंकि विरोधाभास एक से अधिक श्रेणियों के लिए योग्य हो सकते हैं। चूँकि शब्द विरोधाभास की परिभाषा प्रत्येक व्यक्ति के लिए अलग-अलग होती है अतः प्रत्येक के लिए निम्न सूचियाँ विरोधाभास होना आ ...

                                               

व्यक्ति-केन्द्रित कुतर्क

व्यक्ति-केन्द्रित कुतर्क तर्कशास्त्र में ऐसे मिथ्या तर्क को कहते हैं जिसमें किसी दावे की निहित सच्चाई को झुठलाने की कोशिश उस दावेदार के चरित्र, विचारधारा या किसी अन्य गुण की ओर ध्यान बंटाकर की जाए। उदाहरण के लिए यह कहना कि वर्मा साहब ने जो भ्रष्ट ...

                                               

संरचनावादी आलोचना

संरचनावादी आलोचना साहित्य का संरचनावादी भाषा विज्ञान के मूल्यो के आधापर विश्लेषण करने वाली आलोचना है। रोमन जैकोबसन और क्लॉड लेवी स्ट्राउस आदि संरचनावादी आलोचना पद्धति के प्रमुख आलोचकों में शामिल हैं। यह आलोचना विधि एक बड़े आंदोलन का हिस्सा है। इस ...

                                               

अभिगृहीत

तर्कशास्त्र में स्वयंसिद्ध या अभिगृहीत ऐसे कथनों को कहते हैं जिन्हें सिद्ध नहीं किया जाता बल्कि उन्हें अति-स्पष्ट समझा जाता है। स्वयंसिद्धों को सत्यता को बिना शंका के स्वीकाकर लिया जाता है। स्वयंसिद्ध अन्य सत्यों को सिद्ध करने के लिये आधार का काम ...

                                               

स्वयंसिद्धों की सूची

ये समसामयिक गणित एवं सम्मुच्चय सिद्धान्त के लिये मानक स्वयंसिद्ध हैं। Axiom of union Axiom schema of replacement Axiom schema of specification Axiom of regularity Axiom of extensionality Axiom of pairing Axiom of power set Axiom of infinity Axiom ...

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →