Топ-100 ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 48

ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 48


                                               

तौरात

तौरात यहूदी धर्म की मूल अवधारणाओं की शिक्षा देने वाला का धार्मिक ग्रन्थ है। बाईबल का प्रारंभ भी इसी धर्मग्रन्थ से होता है। माना जाता है कि तौरात सबसे पहली किताब है जिसमें ख़ुदा ने अपने पैग़म्बर हज़रत मूसा को जीवनयापण और उनकी कौम की ओर अपने आदेश, ...

                                               

ऊनविम पृष्ठ

ज्यामिति में ऊनविम पृष्ठ, ऊनविम समतल की अवधारणा का व्यापकीकरण है। माना एक आच्छदक बहुमुख M, n -विमिय है तब M का कोई भी n -1 विमिय उपबहुमुख एक ऊनविम समतल है। समान रूप से ऊनविम समतल की न्यूनता एक है। उदाहरण के लिए R n + 1 में n -विमिय गोले को ऊनविम ...

                                               

वैदिकबाद

वैदिकबाद याने रामराज्य एक अवधारणा है महात्मा गाँधी देश में स्वाधीनता के बाद रामराज्य लाना चाहते थे इसी बिषय पर एक पार्टी अखिल भारतीय राम राज्य परिषद भी बनी थी जिसने 1952.1957और 1962 के लोकसभा चुनाव भी लड़े थे वैदिकबाद का सबसे अलग जो महात्मा गाँधी ...

                                               

भारी तनाव की प्रतिक्रिया

भारी तनाव की प्रतिक्रिया उस प्रकार की मानसिक प्रतिक्रिया है, जो किसि भी भयानक या दर्दनाक घटना के जवाब मेइन उत्पन्न होत है। भारि तनाव की प्रतिक्रिय उस समय भी उत्पन्न होति है जब कोइ व्यक्ति किसि भयानक घटना को देखने की वजह से अन्धरुनी तनाव मेहसूस कर ...

                                               

ढोली

गांवों में ब्याह शादी और अन्य अवसरों पर ढोल बजा कर आजीविका कमाने वाली राजस्थान की जाति है। इस जात को अलग राज्य में अलग-अलग नाम से जाना जाता है जैसे क्षत्रिय दमामी, बारोट, नगारसी से आदि नाम से भी जाना जाता है भारत के हर सामाजिक कार्य में सर्वप्रथम ...

                                               

जीन अभियान

जीन अभियान भारत की एक लाभनिरपेक्ष,अशासकीय संस्था संस्था है जो खाद्य एवं आजीविका की सुरक्षा से सम्बन्धित चिन्ताओं को लेकर आरम्भ की गयी है। इसकी संस्थापिका सुमन सहाय हैं।

                                               

आत्मा राम

                                               

आत्म समुन्नति

                                               

कूले का आत्म दर्पण का सिद्धांत

आत्म दर्पण का सिद्धान्त एच सी कूले द्वारा १९०२ में प्रतिपादित किया गया था। इस सिद्धांत के अंतर्गत कूले कहते है की समाज एक दर्पण के समान होता है। व्यक्ति अपने आपको वैसे ही बनता है जैसे समाज में वो जाता है। जिस प्रकार एक पुरुष अथवा महिला आईने में द ...

                                               

यमदूत

गरुड़ पुराण,विष्णु पुराण,कठोपनिषद व अन्य ग्रंथों में यमलोक,यमराज, व यमदूतों का वर्णन आता है। यमलोक को यमपुरी भी कहते हैं। इसमें यमराज मुख्य होता है।उसी के आदेश से यमदूत आत्मा को लेकर जाते हैं। कुछ के अनुसार मरते समय शरीर जड़ सा हो जाता है। सभी इन ...

                                               

सिद्ध(जैन धर्म)

जैन धर्म में सिद्ध शब्द यानी मुक्त आत्मा, जिन्होंने अपने सारे कर्मो का नाश कर मोक्ष प्राप्त किया है उन्हें संबोधित करने के लिए किया जाता हैं। सिद्ध दूसरे परमेष्ठी हैं तथा पांचों परमेष्ठियों में सबसे बड़े परमेष्ठी हैं।

                                               

प्रशस्ति

किसी व्यक्ति या वस्तु की प्रशंसा में लिखा गया भाषण या ग्रन्थ प्रशस्ति कहलाता है। प्रशस्ति वंश के बारे में भी बताती है, इनका प्रयोग राजा या बड़े प्रधान द्वारा की जाती थी, ये अपने आत्म सम्मान में बड़े-बड़े प्रशस्तिया लिखवाते थे,एसे ही प्रशस्ति हमें ...

                                               

शैक्षिक संस्थान

किसी ऐसे संस्थान, जहाँ शिक्षा का आदान प्रदान किया जाता है, को शैक्षिक संस्थान कहा जाता है| उम्र एवं शिक्षा के स्तर के आधापर शैक्षिक संतानों के भी विभिन्न स्तर होते हैं जो निम्न प्रकार से हैं:

                                               

सकल्प शक्ति द्वारा चिकित्सा

आध्यात्मिक जगत मे संकल्प शक्ति को जीवन का आधार माना गया है। उपनिषद के अनुसार संकल्पमयो$यं पुरुष: अर्थात मनुष्य संकल्प का ही बना हुआ है। सब तरह की इच्॰आ का मूल संकलप है, आज संसार मे जितने महान पुरुष के बारे पढते है या उनके प्रति स्वत:ही आदर जाग्रत ...

                                               

नॉर्टन का प्रमेय

नॉर्टन का प्रमेय परिपथ विश्लेषण से सम्बन्धित एक प्रमेय है, जिसके अनुसार किसी रैखिक विद्युत परिपथ में यदि केवल वोल्टता स्रोत, धारा स्रोत और प्रतिरोध हों तो इसके सिरों A – B के बीच इसे इसके तुल्य वैशिष्ट्य वाले परिपथ के रूप में अभिव्यक्त किया जा सक ...

                                               

भास्कराचार्य द्वितीय के सूत्र की उपपत्ति

द्विघात समीकरण के मूल निकालने का सूत्र भारत के प्रसिद्ध गणितज्ञ भास्कराचार्य ने निकाला था। इसमें दो चर x 1, x 2 {\displaystyle x_{1},x_{2}\,} प्राप्त करने हैं जो समीकरण a x 2 + b x + c = 0 {\displaystyle ax^{2}+bx+c=0\,} को सन्तुष्ट करते हैं।

                                               

लघुगणकीय सर्वसमिकाओं की सूची

Let c = log b ⁡ a {\displaystyle c=\log _{b}a}. Then b c = a {\displaystyle b^{c}=a}. Take log d {\displaystyle \log _{d}} on both sides: log d ⁡ b c = log d ⁡ a {\displaystyle \log _{d}b^{c}=\log _{d}a} Simplify and solve for c {\displaystyle c} ...

                                               

ऋषभदेव तहसील

                                               

करण

                                               

सुरक्षा कर्मी

सुरक्षा कर्मी का अर्थ सु+रक्षा, अपनी+रक्षा और कर्मी का मतलब है काम करने वाला, जिसे अपनी रक्षा के लिये न्युक्त किया जाये वही सुरक्षाकर्मी कहलाता है। परिवार मे सुरक्षा परिवार वाले रिस्तों को नभाने के लिये करते है, लेकिन जब व्यक्ति या सम्पत्ति या स् ...

                                               

बन्ध

                                               

पिसे अयस्क का सान्द्रण

धातु कर्म-अयस्क से शुद्ध धातु प्राप्त करने की क्रिया को धातु कर्म कहते है। यह निम्नलिखित पदो मे सँपन्न होती है- 1.पिसे अयस्क का सान्द्रण 2.निस्तापन 3.भर्जन 4.प्रगलन 5.धातु का शोधन अधात्री को अलग करना कंसंट्रेशन ऑफ ore कहलाता है।

                                               

मणिपुर उच्च न्यायालय

                                               

पट्ठान

पाटन मटिका के संबंध में 24 स्थितियों से संबंधित है: "अच्छे धम्म को जड़ की स्थिति से अच्छे धाम से संबंधित है", विवरणों और उत्तरों की संख्या के साथ। इस पत्थर पाठ में कई कारण और प्रभाव शामिल हैं सिद्धांत विवरण विस्तार, सीमा और उनकी दिशा के उन्मूलन प ...

                                               

सेल

एक प्रकार की व्यापारिक गतिविधि - विक्रय देखें। विद्युत ऊर्जा प्रदान करने वाले उपकरण हेतु - विद्युत कोष बैटरी, या गैल्वानी सेल देखें। - स्टील अथॉरिटी ऑफ़ इण्डिया लिमिटेड सेल के लिए भारतीय इस्पात प्राधिकरण देखें।

                                               

रूद्रामन के जूनागढ़ अभिलेख

रुद्रदामन ने प्राकृत लिपि में लम्बा जूनागढ़ अभिलेख जारी किया। रुद्रदामन के विषय में विस्तृत जानकारी मिलती है।उसने सुदर्शन झील की मरम्मत करवाई। इसका व्यय उसने व्यक्तिगत कोष से दिया इसका दूसरा नाम गिरनार अभिलेख कहते हैं

                                               

उच्च शक्तिशाली मुद्रा

उच्च शक्तिशाली मुद्रा वह है जो जनता के पास करेंसी के रूप में,बैंकों के सुरक्षित कोष के रूप में तथा केंद्रीय बैंक के पास अन्य जमाओं के रूप में सुरक्षित होती है. उच्च शक्तिशाली मुद्रा केंद्रीय बैंक तथा सरकार द्वारा सृजित की जाती है जबकि जनता एवं बै ...

                                               

संचित निधि (कोष)

सरकार को प्राप्त सभी राजस्व, बाजार से लिगए ऋण और स्वीकृत ऋणों पर प्राप्त ब्याज संचित निधि में जमा होते हैं। भारतीय संविधान के अनुच्छेद 266 के तहत स्थापित है यह ऐसी निधि है जिस में समस्त एकत्र कर/राजस्व जमा, लिये गये ऋण जमा किये जाते है यह भारत की ...

                                               

आलोचनात्मक चिन्तन

तथ्यों का वस्तुपरक विश्लेषण करते हुए कोई निर्णय लेना आलोचनात्मक चिन्तन कहलाता है। यह विषय एक जटिल विषय है और आलोचनात्मक चिन्तन की भिन्न-भिन्न परिभाषाएँ हैं जिनमें प्रायः तथ्यों का औचित्यपूर्ण, स्केप्टिकल और पक्षपातरहित विश्लेषण शामिल होता है।

                                               

तिरोधान

तिरोधान धर्मदर्शन तथा आध्यात्मिक चिंतन में अशुभ के लोप तथा शुभ संकल्प के लिए अपनायी जाने वाली युक्ति को प्रदर्शित करता है। तिरोधान के मूल में बहुधा लोक कल्याणकारी भावना का प्राधान्य होता है। किंचित अर्थों में इसका प्रयोग दैवीय ज्ञान तथा आध्यामिक ...

                                               

योगराजोपनिषद्

अब योगियों को योगसिद्धि के लिए योगराज का निरूपण किया जाता है l यह योग, मन्त्र, लय, राज तथा हठयोग---इस चार संख्या वाला है ll 1 ll तत्व के द्रष्टा योगियों ने इसे चार प्रकार का बताया है--आसन, प्राणसंरोध, ध्यान तथा समाधि ll 2 ll सब योगों में सम्मत इन ...

                                               

पटियाली

पटियाली राजा द्रुपद की राजधानी थी। अमीर खुसरो का जन्म भी पटियाली में ही हुआ था। यहां पर पाटलावती देवी का मंदिर है जो शक्तिपीठ है और राजा द्रुपद ने इसको बनवाया था।

                                               

चिरञ्जीवि

                                               

वर्णात्मक ज्ञान

वर्णात्मक ज्ञान, जिसे घोषणात्मक ज्ञान या प्रस्तावनात्मक ज्ञान भी कहते हैं, उस प्रकार का ज्ञान है जो, अपने मूल स्वभाव द्वारा, घोषणात्मक वाक्यों और सूचनात्मक प्रस्तावनाओं में प्रकट किया जाता हैं।

                                               

प्रक्रियात्मक ज्ञान

                                               

परिचय द्वारा ज्ञान

दर्शन में, अक्सर दो प्रकार के ज्ञानों के बीच भेद किया जाता हैं: परिचय द्वारा ज्ञान और वर्णन द्वारा ज्ञान । किसी व्यक्ति और किसी वस्तु जिसे वह व्यक्ति देख रहा है, इनके बीच में किसी प्रत्यक्ष करणीय परस्पर क्रिया के द्वारा "परिचय द्वारा ज्ञान" प्राप ...

                                               

मणि राग ज्ञान

स्रोत:- नंद मौर्य राजवंश मणि राग ज्ञान के रत्नों में रंगों का ज्ञान रखना एक महत्वपूर्ण कला के तहत आता है. इस कला के साठ चार कला के लिए एक महत्वपूर्ण कला है ।

                                               

तिवाना

                                               

पंढ़ेर

                                               

देसवाल

                                               

डबास

                                               

जूण

                                               

दुसाद

                                               

सांगवान

                                               

धारिवाल गोत्र

                                               

विशिष्ट (तत्त्वमीमांसा)

तत्त्वमीमांसा में, विशिष्ट ठोस, स्थानकालिक सत्त्व होते हैं जो गुण या संख्या जैसे अमूर्त सत्त्वों के विपरीत होते हैं। हालांकि अमूर्त विशिष्टों के सिद्धांत भी हैं।

                                               

अमूर्त वस्तु सिद्धांत

                                               

वासुकिनाथ

वासुकिनाथ अपने शिव मन्दिर के लिये जाना जाता है। वैद्यनाथ मन्दिर की यात्रा तब तक अधूरी मानी जाती है जब तक वासुकिनाथ में दर्शन नहीं किये जाते। यह मन्दिर देवघर से 42 किलोमीटर दूर जरमुण्डी गाँव के पास स्थित है। यहाँ पर स्थानीय कला के विभिन्न रूपों को ...

                                               

ब्रजेंद्र दत्त त्रिपाठी

                                               

प्रमुख मत एंव उनके प्रवर्तक

शब्दकोश

अनुवाद