Топ-100 ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 185

ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 185



                                               

नाइजर-कांगो भाषा परिवार

नाइजर-कांगो भाषा समूह अफ़्रीका के उप-सहारा क्षेत्र में बोले जाने वाली भाषाओं का एक भाषा-परिवार है। यह विश्व के प्रमुख भाषा-परिवारों में से एक गिना जाता है और अफ़्रीका में मातृभाषियों की संख्या, भाषाओं की संख्या और विस्तार क्षेत्रफल के हिसाब से सब ...

                                               

पारम्परिक चीनी वर्ण

पारम्परिक चीनी वर्ण का अर्थ उन वर्णसमूह से है जिनमें नवसृजित वर्ण सम्मिलित नहीं है या वे वर्ण प्रतिस्थापन नहीं है जो १९४६ के पश्चात गढे़ गए थे। इस लिपि के अन्तर्गत अन्य चीनी लिपियों की तुलना में अधिक जटिल वर्ण हैं। पारम्परिक चीनी वर्ण ताइवान, हां ...

                                               

बुगिनी भाषा

बुगिनी भाषा इंडोनेशिया के दक्षिणी प्रांत सुलावेसी के दक्षिणी भाग में बोली जाती है। यह ऑस्ट्रोनेशियाई भाषाओं की मलय-पोलीनेशिया शाखा की "सुलावेशियाई" शाखा से संबंधित है। इस भाषा को बोलने वालो की संख्या ३५ से ४० लाख है। इस शाखा के अंदर भी, बुगिनी भा ...

                                               

भारत की आधिकारिक भाषाएँ

भारत की आधिकारिक भाषा, हिन्दी है और अंग्रेज़ी सहायक या गौण आधिकारिक भाषा है; भारत के राज्य अपनी आधिकारिक भाषा विधिक रूप से घोषित कर सकते हैं। नाही भारतीय संविधान और ना कोई भारतीय कानून किसी राष्ट्रभाषा को परिभाषित करता है। जिस समय संविधान लागू कि ...

                                               

मिथिलाक्षर

मिथिलाक्षर लिपि अथवा मिथिलाक्षरा का प्रयोग लोग भारत के उत्तर बिहार एवं नेपाल के तराई क्षेत्र की मैथिली भाषा को लिखने के लिये करते हैं। इसे मैथिली लिपि और तिरहुता भी कहा जाता है। इस लिपि का प्राचीनतम् नमूना दरभंगा जिला के कुशेश्वरस्थान के निकट तिल ...

                                               

मुंडारी भाषा

मुंडारी मुंडा लोगों द्वारा बोली मुंडा भाषा परिवार की एक भाषा है। इसका समबन्ध ऑस्ट्रोसीएटिक भाषा परिवार से है। मुंडारी मुख्य रूप में पूर्व भारत, बांग्लादेश, नेपाल और मुंडा आदिवासी लोगों द्वारा बोली जाती है। "मुंडारी बानी", एक स्क्रिप्ट लिखने के लि ...

                                               

रोहिंग्या भाषा

रोहिंग्या, या रुऐंग्गा, राखीन राज्य के रोहिंग्या लोगों द्वारा बोली जाने वाली भाषा है। रोहिंग्या बंगाली-असमिया भाषासमूह में से एक है। यह भाषा चटगाँवी भाषा से काफ़ी मिलती-जुलती है, जो पड़ोसी मुल्क बांग्लादेश में बोली जाती है।

                                               

लिथुआनियाई भाषा

लिथुआनियाई भाषा लिथुआनिया में बोली जाने वाली इस देश की सबसे प्रमुख भाषा है। यह इस देश की आधिकारिक भाषा भी है और इसे यूरोपीय संघ में भी आधिकारिक भाषा के रूप में मान्यता प्राप्त है। लिथुआनिया में इस भाषा को बोलने वालो की संख्या २९ लाख है और अन्य दे ...

                                               

लिसान उद-दावत

लिसान उद-दावत गुजराती भाषा की एक उपभाषा है। यह भाषा मुख्यतः इस्माइली शिया बिरादरी के आलवी और तायबी बोहराओं द्वारा बोली जाती है। मानक गुजराती से भिन्न, लिसान उद-दावत में अरबी और फ़ारसी के शब्द ज़्यादा हैं और यह भाषा अरबी लिपि में लिखी जाती है। यह ...

                                               

सरलीकृत चीनी वर्ण

सरलीकृत चीनी वर्ण वे वर्ण है जो मुख्यभूमि चीन पर उपयोग के लिए मानकीकृत हैं। यह समकालीन चीनी लिखित भाषा के लिए प्रचलित बहुत से मानकीकृत वर्णसमूहो में से एक है। चीनी जनवादी गणराज्य की सरकार ने साक्षरता बढ़ाने के लिए इन वर्णो को मुद्रण में प्रोत्साह ...

                                               

उपभाषा सतति

उपभाषा सतति किसी भौगोलिक क्षेत्र में विस्तृत उपभाषाओं की ऐसी शृंखला को कहते हैं जिसमें किसी स्थान की उपभाषा पड़ोस में स्थित स्थान से बहुत कम भिन्नता रखती है। बोलने वालों को वह दोनों उपभाषाएँ लगभग एक जैसी प्रतीत होती हैं, लेकिन यदी एक-दूसरे से दूर ...

                                               

भाषा की राजनीति

भाषा की राजनीति करने वाले लोग भाषाई मतभेद उत्पन्न कर उसका राजनीतिक लाभ उठाते हैं। सामान्यतः भाषा की राजनीति राजनेताओं द्वारा की जाती है। जिसमें कई नेता चाहे वे किसी अन्य भाषा में आम तौपर बात करते हों, लेकिन जनता के सामने उनकी भाषा में बात करते है ...

                                               

भाषा शुद्धतावाद

भाषा शुद्धतावाद या भाषा संरक्षणवाद ऐसी विचारधारा को कहते हैं जिसमें किसी भाषा के एक विशेष रूप या प्रकार को अन्य रूपों या प्रकारों से अधिक उत्कृष्ट समझा जाये। कुछ देशों में यह विचारधारा सरकार द्वारा स्थापित भाषा-अकादमियों द्वारा लागू की जाती है, म ...

                                               

राष्ट्रभाषा

भारतीय संविधान में किसी भी भाषा को राष्ट्र भाषा के रूप में नहीं माना गया है। सरकार ने 22 भाषाओं को आधिकारिक भाषा के रूप में जगह दी है। जिसमें केन्द्र सरकार या राज्य सरकार अपने जगह के अनुसार किसी भी भाषा को आधिकारिक भाषा के रूप में चुन सकती है। के ...

                                               

भाषा नियामक

                                               

भाषा शुद्धतावाद

                                               

कठबोली

कठबोली या स्लैंग किसी भाषा या बोली के उन अनौपचारिक शब्दों और वाक्यांशों को कहते हैं जो बोलने वाले की भाषा या बोली में मानक तो नहीं माने जाते लेकिन बोलचाल में स्वीकार्य होते हैं। भाषावैज्ञानिकों का मानना है कि कठबोलियाँ हर मानक भाषा में हमेशा अस्त ...

                                               

बहुकेन्द्रीय भाषा

बहुकेन्द्रीय भाषा ऐसी भाषा होती है जिसके एक से अधिक मानक भाषा रूप हों, जो कि अक्सर अलग देशों में आधारित होते हैं। मसलन जर्मन भाषा के जर्मनी व ऑस्ट्रिया, अंग्रेज़ी के ब्रिटेन, अमेरिका व ऑस्ट्रेलिया, कोरियाई के उत्तर कोरिया व दक्षिण कोरिया और पुर्त ...

                                               

भाषा प्रयुक्ति

भाषाविज्ञान में भाषा प्रयुक्ति किसी भाषा की वह भाषिका होती है जो किसी विशेष सामाजिक परिस्थिति, सामाजिक वर्ग या लक्ष्य के लिए प्रयोग हो। मसलन औपचारिक स्थितियों में हिन्दी में "आप कल आइये" या "तू कल आना" के प्रयोग को ही सही व्याकरण समझा जाता है, जब ...

                                               

भाषिका

भाषिका किसी भाषा या उपभाषा सतति का एक विशिष्ट रूप होती है। यह भाषा, उपभाषा, भाषा प्रयुक्ति, भाषा शैली या अन्य भाषा रूप हो सकती है। भाषाविज्ञान में किसी विशेष भाषा रूप को मानक भाषा कहकर उसे एक उच्च-प्रतीत होने वाला स्थान दिया जाता है जबकि अन्य रूप ...

                                               

वर्गबोली

वर्गबोली, पेशेवर बोली, या जार्गन किसी विशेष व्यवसाय, कार्यक्षेत्र या वर्ग द्वारा प्रयोग होने वाले विशेष शब्दों को कहा जाता है। वर्गबोली इसलिए विकसित हो जाती हैं क्योंकि "हर विज्ञान की अपनी विशेष भाषा होती है क्योंकि हर विज्ञान के अपने विशेष विचार ...

                                               

उपभाषाएँ

                                               

कठबोली

                                               

तकनीकी शब्दावली

                                               

मानक भाषाएँ

                                               

वर्गबोली

                                               

कोरियाई भाषा प्रवीणता परीक्षा

कोरियाई भाषा प्रवीणता परीक्षा) कोरियाई को दूसरी या विदेशी भाषा के रूप में बोलने वालों की कोरियाई भाषा पर पकड़ परखने की परीक्षा है। इस भाषा परीक्षा का उद्देश्य यह जानना है कि क्या इस परीक्षा को देने वाला कोरियाई भाषा में इतना प्रवीण है कि वह कोरिय ...

                                               

सर्टिफ़िकैज़्योने दि इतालियानो कॉमे लिंगुआ स्त्रानिएरा

सर्टिफ़िकैज़्योने दि इतालियानो कॉमे लिंगुआ स्त्रानिएरा अर्थ: इतालवी का विदेशी भाषा के रूप में प्रमाणन) इतालवी भाषा की निश्चित प्रवीणता परीक्षा है जो इतालवी भाषा को दूसरी या विदेशी भाषा के रूप में बोलने वालों के लिए इतालवी भाषा में कार्यनिर्वाह-क् ...

                                               

देवनागरी लिप्यन्तरण

हन्टेरियन लिप्यन्तरण विधि का विकास उन्नीसवी शताब्दी में भारत के भूतपूर्व सर्वेयर-जनरल, विलियम विल्सन हंटर, ने किया था। यह विधि भारत की राष्ट्रिय रोमन लिप्यन्तरण विधि मानी जाती है और इसे भारत सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त है। भारत के अधिकतर व्यक्ति ...

                                               

लिप्यन्तरण

सामान्यतः किसी एक लेखन पद्धति में लिखे जाने वाले शब्द या पाठ को किसी अन्य लेखन पद्धति में लिखने को लिप्यन्तरण कहते हैं। लिप्यन्तरण = लिपि + अन्तरण। उदाहारण के लिये जापानी में लिखा है:ひらがな, इसको देवनागरी में इस तरह लिख देते हैं: हिरागाना - तो ...

                                               

भाषांतरण

                                               

केन्द्रीय हिन्दी निदेशालय

केन्द्रीय हिन्दी निदेशालय, नई दिल्ली स्थित एक सरकारी विभाग है, जो भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अधीन है और मानक हिन्दी के प्रसार के लिए उत्तरदायी है। यह देवनागरी लिपि के उपयोग और हिन्दी वर्तनी का विनियामन भी करता है।भारतीय संविधान क ...

                                               

Multilingual support templates

                                               

अफ्रीका भाषा साँचे

                                               

भाषा साँचा

                                               

आग्नेय भाषापरिवार

ऑस्ट्रो-एशियाई भाषाएँ​ या मोन-ख्मेर भाषाएँ या आग्नेय भाषाएँ दक्षिण-पूर्वी एशिया में विस्तृत एक भाषा परिवार है भाषाएँ भारत और बंगलादेश में जहाँ-तहाँ और चीन की कुछ दक्षिणी सीमावर्ती क्षेत्रों में भी बोलीं जाती हैं। इनमें केवल ख्मेर, वियतनामी और मोन ...

                                               

भाषा-परिवार

आपस में सम्बंधित भाषाओं को भाषा-परिवार कहते हैं। कौन भाषाएँ किस परिवार में आती हैं, इनके लिये वैज्ञानिक आधार हैं। इस समय संसार की भाषाओं की तीन अवस्थाएँ हैं। विभिन्न देशों की प्राचीन भाषाएँ जिनका अध्ययन और वर्गीकरण पर्याप्त सामग्री के अभाव में नह ...

                                               

भीली भाषा

इसे भीली, भिलाला और राजस्थान में वागड़ी भाषा के रूप में जाना जाता है। अन्य आदिवासियों के समान अभिव्यक्ति के लिये भीलों के पास भी बोली तो है परन्तु लिपि नहीं। इसके बावजूद भी भील आदिवासियों के कल्पनाशील और मेधा सम्पत्र व्यक्तियों ने साहित्य सृजन की ...

                                               

अल्ताई भाषा-परिवार

अल्ताई एक भाषा-परिवार है जिसमें तुर्की भाषाएँ, मंगोल भाषाएँ, तुन्गुसी भाषाएँ, जापानी भाषाएँ और कोरियाई भाषा आती हैं। अल्ताई भाषाएँ यूरेशिया के बहुत ही विस्तृत क्षेत्र में बोली जाती हैं जो पूर्वी यूरोप से लेकर मध्य एशिया से होता हुआ सीधा जापान तक ...

                                               

आदिम-हिन्द-यूरोपीय भाषा

आदिम-हिन्द-यूरोपीय भाषा, जिसे प्रोटो-इंडो-यूरोपियन भाषा भी कहा जाता है, भाषावैज्ञानिकों द्वारा पूरे हिन्द-यूरोपीय भाषा-परिवार की सभी भाषाओं की एकमात्र प्राचीन जननी भाषा मानी जाती है। माना जाता है के इसे प्राचीन काल में आदिम-हिन्द-यूरोपीय लोग बोला ...

                                               

ईरानी भाषा परिवार

ईरानी भाषाएँ हिन्द-ईरानी भाषा परिवार की एक उपशाखा हैं। ध्यान रहे कि हिन्द-ईरानी भाषाएँ स्वयं हिन्द-यूरोपीय भाषा परिवार की एक उपशाखा हैं। आधुनिक युग में विश्व में लगभग १५-२० करोड़ लोग किसी ईरानी भाषा को अपनी मातृभाषा के रूप में बोलते हैं और ऍथ़नॉल ...

                                               

एस्किमो-ऐलियूत भाषाएँ

एस्किमो-ऐलियूत भाषाएँ या एस्कैलियूत भाषाएँ या इनुइत-यूपिक-उनंगान अलास्का, उत्तरी कनाडा, नूनाविक, नूनात्सियावूत, ग्रीनलैण्ड और रूस के साइबेरिया क्षेत्र के पूर्वोत्तरी छोपर स्थित चुकची प्रायद्वीप में बोली जाने वाली भाषाओं का एक भाषा-परिवार है। एस्क ...

                                               

ऑस्ट्रोनीशियाई भाषाएँ

ऑस्ट्रोनीशियाई भाषाएँ एक भाषा परिवार है जिसकी सदस्य भाषाएँ दक्षिण-पूर्वी एशिया और प्रशांत महासागर के बहुत से द्वीपों पर विस्तृत हैं। एशिया के महाद्वीप की मुख्यभूमि के भी कुछ क्षेत्रों में यह बोली जाती हैं। कुल मिलकर ऑस्ट्रोनीशियाई भाषाएँ बोलने वा ...

                                               

ओग़ुज़ भाषाएँ

ओग़ुज़​ भाषाएँ, जिन्हें दक्षिण-पश्चिमी तुर्की भाषाएँ भी कहा जाता है, तुर्की भाषा परिवार की एक प्रमुख उपशाखा हैं जो दक्षिण-पूर्व यूरोप के बाल्कन क्षेत्र से लेकर चीन तक लगभग १५ करोड़ लोगों द्वारा बोली जाती हैं। तुर्की भाषा और अज़रबेजानी भाषा दोनों ...

                                               

ओग़ुर भाषाएँ

ओग़ुर​ भाषाएँ, जिन्हें बुल्गार भाषाएँ भी कहा जाता है, तुर्की भाषा परिवार की एक उपशाखा हैं। यह दक्षिण-पूर्वी यूरोप के वोल्गा बुल्गारिया नामक राज्य में बोली जाती थी लेकिन आधुनिक काल में इस शाखा की केवल एक ही भाषा, चुवाश भाषा, जीवित है। ऐतिहासिक नज़ ...

                                               

कार्तवेली भाषाएँ

कार्तवेली भाषाएँ या दक्षिण कॉकसी भाषाएँ कॉकस क्षेत्र में मुख्य रूप से जोर्जिया में बोली जानी वाली भाषाओँ का एक समूह है। जोर्जिया के आलावा इन्हें रूस, संयुक्त राज्य अमेरिका, यूरोप, इस्राइल और पूर्वोत्तरी तुर्की में भी जहाँ-तहाँ बोला जाता है। दुनिय ...

                                               

क्रा-दाई भाषाएँ

क्रा-दाई भाषाएँ, जिन्हें ताई-कादाई, दाई और कादाई भी कहा जाता है, पूर्वोत्तर भारत, दक्षिण चीन और दक्षिण-पूर्वी एशिया में बोली जाने वाली सुरभेदी भाषाओं का एक समूह है। इनमें थाई भाषा और लाओ भाषा शामिल है। दुनिया भर में लगभग १० करोड़ लोग क्रा-दाई भाष ...

                                               

खोईसान भाषाएँ

खोईसान भाषाएँ दक्षिण और पूर्वी अफ़्रीका में बोली जाने वाली वह भाषाएँ हैं जिनमें क्लिक व्यंजन होते हैं और जो किसी भी अन्य भाषा परिवार की सदस्य नहीं हैं। यह कभी काफ़ी विस्तृत क्षेत्र में बोली जाती थीं लेकिन अब केवल कालाहारी रेगिस्तान में और तंज़ानि ...

                                               

चीनी-तिब्बती भाषा-परिवार

चीनी-तिब्बती भाषा-परिवार अथवा चीनी भाषा-परिवार दक्षिण एशिया के कुछ भागों, पूर्वी एशिया और दक्षिण पूर्व एशिया में बोली जाने वाली ४०० से अधिक भाषाओं का परिवार है। इसे बोलने वालों की मूल संख्या के आधापर यह हिन्द-यूरोपीय भाषा-परिवार के बाद दूसरा सबसे ...

                                               

चुकोत्को-कमचातकी भाषाएँ

चुकोत्को-कमचातकी भाषाएँ सुदूर प्रूवोत्तर साइबेरिया के चुकची प्रायद्वीप व कमचातका प्रायद्वीप क्षेत्रों में बोली जाने वाली भाषाओं का एक भाषा-परिवार है। इसके मातृभाषी मूल रूप से शिकारी-फ़रमर और रेनडियर-पालक थे और इस क्षेत्र के मूल निवासी हैं। इस परि ...

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →